कोरोना वैक्सीन की किल्लत जल्द दूर होने की उम्मीद कम, अदार पूनावाला बोले- जुलाई तक रह सकती है कमी

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ पुनावाला

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ पुनावाला

COVID-19 Vaccine: सीआईआई भारत में ऑक्सफोर्ड/ एस्ट्राजेनिका की कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड का उत्पादन कर रही है. उन्होंने कहा कि इस दवाब के चलते ही वह अपनी पत्नी और बच्चों के साथ लंदन आ गए हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. देशभर में इन दिनों कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) की भारी कमी है. 1 मई से कई राज्यों में तीसरे फेज के लिए वैक्सीनेशन का दौर शुरू नहीं हो सका है. इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) अदार पूनावाला (Adar Poonawala) ने कहा है कि वैक्सीन की किल्लत इस साल जुलाई तक रह सकती है. बता दें महाराष्ट्र और दिल्ली समेत कई राज्यों में 18-44 साल के उम्र को लोगों को टीका लगाने का काम शुरू नहीं हो सका है.

फाइनेंशियल टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक जुलाई के महीने से कोविशिल्ड की प्रोडक्शन बढ़ने वाली है. फिलहाल हर महीने 6-7 करोड़ कोविशिल्ड की डोज़ तैयार की जा रही है. लेकिन उम्मीद की जा रही है कि जुलाई से ये संख्या बढ़ कर 10 करोड़ तक पहुंच जाएगी. अदार पूनावाला ने कहा कि सरकार को उम्मीद नहीं थी कि इस तरह कोरोना की दूसरी लहर आने वाली है. जनवरी में कोरोना के केस घटने लगे थे. हर किसी को लगा था कि महामारी धीरे-धीरे खत्म होने वाली है, लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

जिम्मेदार कौन?

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ पूनावाला ने कहा कि वैक्सीन की कमी के लिए सरकार जिम्मेदार है, न की कंपनियां. उन्होंने कहा, 'हमने प्रोडक्शन इसलिए नहीं बढ़ाई क्योंकि हमें उस हिसाब से ऑर्डर नहीं मिले थे. हमने ये नहीं सोचा था कि हमें एक साल में 100 करोड़ डोज तैयार करनी होगी.'


लंदन में है पूनावाला

बता दें कि पूनावाला इन दिनों लंदन में हैं. दो दिन पहले उन्होंने कहा था कि शनिवार को कहा था कि कोविशील्ड वैक्सीन की आपूर्ति की मांग को लेकर भारत के सबसे शक्तिशाली लोगों में से कुछ ने उनसे फोन पर उग्रतापूर्वक बातें की हैं. न्होंने कहा कि इस दवाब के चलते ही वह अपनी पत्नी और बच्चों के साथ लंदन आ गए हैं. भारत सरकार के अधिकारियों के अनुसार, पूनावाला को संभावित खतरों को देखते हुए सुरक्षा दी गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज