महाराष्ट्र के बाद अब तमिलनाडु में हुए 1 लाख कोरोना मरीज, चेन्नई सबसे ज्यादा प्रभावित

महाराष्ट्र के बाद अब तमिलनाडु में हुए 1 लाख कोरोना मरीज, चेन्नई सबसे ज्यादा प्रभावित
एक लाख कोरोना मरीजों के आंकड़े को सबसे पहले महाराष्ट्र ने छुआ था. (प्रतीकात्मक तस्वीर-AP)

शुक्रवार को तमिलनाडु (Tamilnadu) में कोरोना के 4329 नए मामले सामने आए. इसी के साथ राज्य में कोरोना रोगियों की कुल संख्या 1,02,721 हो गई है. सबसे ज्यादा 2,082 केस राज्य की राजधानी चेन्नई (Chennai) से आए हैं.

  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु (Tamilnadu) 1 लाख से ज्यादा कोविड-19 मरीजों वाला (1 Lakh Covid-19 Patients) भारत का दूसरा राज्य बन गया है. शुक्रवार को राज्य में कोरोना के 4329 नए मामले सामने आए. इसी के साथ राज्य में कोरोना रोगियों की कुल संख्या 1,02,721 हो गई है. सबसे ज्यादा 2,082 केस राज्य की राजधानी चेन्नई से आए हैं. गौरतलब है कि एक लाख कोरोना मरीजों के आंकड़े को सबसे पहले महाराष्ट्र ने छुआ था. महाराष्ट्र भारत में कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित राज्य है.

31 जुलाई तक बढ़ाया लॉकडाउन
तमिलनाडु सरकार ने 30 जून को कोरोना वायरस के मद्देनजर लगाए गए लॉकडाउन को 31 जुलाई तक बढ़ाने का फैसला लिया था. वहीं चेन्नई और कांचीपुरम, चेंगलपट्टु और थिरुवल्लुवर सहित मदुरै और ग्रेटर चेन्नई पुलिस सीमा में 5 जुलाई तक के लिए पूर्ण लॉकडाउन रहेगा.

तमिलनाडु के इन इलाकों में बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने पहले से ही सख्त लॉकडाउन लगाया हुआ है. जिसे अब 5 जुलाई तक बढ़ा दिया गया है. इससे पहले महाराष्ट्र सरकार ने 31 जुलाई तक लॉकडाउन बढ़ाने का आदेश जारी किया था.
ये भी पढ़ें :- वैक्सीन बनाने के लिए ICMR ने दी डेडलाइन तो एक्सपर्ट्स ने जाहिर की चिंता



चेन्नई का माइक्रोलेवल प्लान
बढ़ते मामलों के मद्देनजर चेन्नई ने माइक्रोलेवल प्लान तैयार किया है. इसके तहत चेन्नई के हर वार्ड में 200 बेड का एक कोरोना हेल्थकेयर सेंटर तैयार किया जा रहा है. चेन्नई म्युनिसिपल कॉरपोरेशन डोर टू डोर सर्वे कर रहा है. 400 से ज्यादा बुखार नापने वाले कैंप बनाए गए हैं. साथ ही दस नए सैंपल कलेक्शन सेंटर तैयार किए गए हैं. कॉरपोरेशन कमिश्नर जी प्रकाश के मुताबिक चेन्नई में पीक के दौरान तीस से पैंतीस हजार बेड की आवश्यकता पड़ सकती है.

हालांकि अभी ये स्पष्ट डेटा नहीं है कि चेन्नई रोज कितनी टेस्टिंग कर रहा है लेकिन अलग-अलग आंकड़ों के मुताबिक इसकी संख्या करीब 5000 है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर चेन्नई को कोरोना को फैलने से रोकना है तो रोज कम से कम दस हजार टेस्ट करने होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading