कोरोना संकट का असर! रेलवे ने सेफ्टी को छोड़ कैंसिल की सभी भर्तियां

कोरोना संकट का असर! रेलवे ने सेफ्टी को छोड़ कैंसिल की सभी भर्तियां
कोरोना का असर रेलवे की भर्ती पर भी पड़ा है.

Indian Railways Recruitment: रेल मंत्रालय (Indian Railways) से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पिछले 2 सालों में खाली पदों के लिए भर्ती की समीक्षा की जाएगी. सेफ्टी कैटेगरी को छोड़कर 50 फीसदी पदों के लिए वेकेंसी नहीं निकाली जाएंगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus) का असर अब रेलवे की भर्तियों पर भी पड़ने लगा है. भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने सेफ्टी को छोड़कर सभी नए पदों के लिए आवेदन रद्द कर दिए हैं. अगले आदेश तक फिलहाल रेलवे में कोई नई भर्तियां नहीं होंगी. वहीं, मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, पिछले 2 सालों में खाली पदों के लिए भर्ती की समीक्षा की जाएगी. सेफ्टी कैटेगरी को छोड़कर 50 फीसदी पदों के लिए वेकेंसी नहीं निकाली जाएंगी.

वहीं, देश में निजी क्षेत्र द्वारा यात्री रेलगाड़ियों का परिचालन अप्रैल 2023 से शुरू हो सकता है. रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी. के. यादव ने गुरुवार को कहा कि निजी कंपनियां कुल मेल और एक्सप्रेस रेलगाड़ियों में से मात्र पांच फीसदी यात्री रेलगाड़ियों का ही परिचालन करेंगी. यादव ने ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा कि निजी कंपनियों द्वारा चलाई जाने वाली रेलगाड़ियों का यात्रा किराया इन मार्गों के हवाई एवं बस सेवा किराये के अनुरूप प्रतिस्पर्धी होगा. उन्होंने कहा कि रेलगाड़ी परिचालन में निजी कंपनियों के उतरने से रेलगाड़ियों को तेज गति से चलाने के साथ ही रेल डिब्बों की प्रौद्योगिकी में भी बदलाव आएगा.

अभी केवल 5 फीसदी का होगा निजीकरण: रेलवे
रेलवे बोर्ड के चेयरमैन की ओर से ये टिप्पणियां सरकार के यात्री गाड़ियों के परिचालन में निजी कंपनियों को प्रवेश देने की आधिकारिक घोषणा के एक दिन बाद आयी हैं. सरकार ने 151 आधुनिक रेलगाड़ियों के माध्यम से 109 युगल रेलमार्गों पर निजी कंपनियों द्वारा यात्री रेलगाड़ी चलाने की अनुमति देने के लिए पात्रता आवेदन आमंत्रित किये हैं. भारतीय रेलवे नेटवर्क को निजी हाथों में सौंपे जाने को लेकर व्यक्त की जा रही आशंकाओं पर एक सवाल के जवाब में यादव ने कहा कि निजी क्षेत्र द्वारा किया जाने वाला परिचालन भारतीय रेलवे के कुल यात्री रेलगाड़ी परिचालन का मात्र पांच प्रतिशत होगा. भारतीय रेल अभी करीब 2,800 मेल या एक्सप्रेस रेलगाड़ियों का परिचालन करती है.
ये भी पढ़ें:-


यात्रीगण ध्यान दें रेलवे बदला इन 8 ट्रेनों का टाइमटेबल, यहां चेक करें लिस्ट
नौकरीपेशा लोगों को झटका! नए इनकम टैक्स नियम के तहत अब इन पर नहीं मिलेगी कोई छूट

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने कहा, 'निजी कंपनियां मात्र पांच प्रतिशत यात्री रेलगाड़ियों का परिचालन करेंगी, जबकि 95 प्रतिशत का परिचालन समान यात्रा किराये पर रेलवे करता रहेगा. इससे गरीबों को बेहद फायदा होगा क्योंकि समान यात्रा किराये पर उन्हें बेहतर प्रौद्योगिकी और सुरक्षा की सुविधाएं मिलेंगी.' यादव ने कहा, 'रेलगाड़ी की खरीद निजी कंपनियां करेंगी. उनके रखरखाव का जिम्मा भी उन्हीं का होगा.' देश में निजी रेलों का परिचालन अप्रैल 2023 तक शुरू होने की उम्मीद है. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading