Coronavirus 2nd Wave: कोरोना से जूझ रहे राज्यों से केंद्र ने कहा- बद से बदतर हो रहे हालात, जोखिम में समूचा देश

कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित 10 जिलों में से आठ महाराष्ट्र (Maharashtra) से हैं और दिल्ली (Delhi) भी एक जिले के रूप में इस सूची में शामिल है.

कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित 10 जिलों में से आठ महाराष्ट्र (Maharashtra) से हैं और दिल्ली (Delhi) भी एक जिले के रूप में इस सूची में शामिल है.

Coronavirus Second Wave in India: जिन 10 जिलों में सर्वाधिक एक्टिव केस हैं, उनमें पुणे (59,475), मुंबई (46,248), नागपुर (45,322), ठाणे (35,264), नासिक (26,553), औरंगाबाद (21,282), बेंगलुरु नगरीय (16,259), नांदेड़ (15,171), दिल्ली (8,032) और अहमदनगर (7,952) शामिल हैं. भूषण ने कहा कि तकनीकी रूप से दिल्ली में कई जिले हैं, लेकिन इसे एक जिले के रूप में लिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 7:37 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर (Coronavirus Second Wave in India) ने सरकार की टेंशन बढ़ा दी है. केंद्र सरकार ने मंगलवार को राज्यों को चेतावनी देते हुए कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर से हालात बद से बदतर हो रहे हैं. केंद्र ने कहा कि पूरा देश जोखिम में है और किसी को भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए. सरकार ने कहा कि कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित 10 जिलों में से आठ महाराष्ट्र (Maharashtra) से हैं और दिल्ली (Delhi) भी एक जिले के रूप में इस सूची में शामिल है. केंद्र ने ऐसे में सभी राज्यों को कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग बढ़ाने और वैक्सीनेशन कवरेज (Covid Vaccination Drive) 100 फीसदी तक करने को कहा है.

मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी के पॉल ने कहा, ‘कोविड-19 संबंधी स्थिति बद से बदतर हो रही है. पिछले कुछ सप्ताह में, खासकर कुछ राज्यों में, यह एक बड़ी चिंता विषय है. किसी भी राज्य, देश के किसी भी हिस्से या जिले को लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए.' वी के पॉल ने कहा, ‘हम काफी अधिक गंभीर स्थिति का सामना कर रहे हैं, निश्चित तौर पर कुछ जिलों में, लेकिन पूरा देश जोखिम में है, इसलिए रोकने (संक्रमण के प्रसार को) और जीवन बचाने के सभी प्रयास किए जाने चाहिए.'

केंद्र ने राज्यों से कहा-हर कोरोना केस पर 25-30 लोगों की हो कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग

स्वास्थ्य सचिव ने 10 राज्यों को लिखी चिट्ठी
स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण (Health Secretary Rajesh Bhushan) ने इस मामले में सभी राज्यों को चिट्ठी लिखी है. मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा- 'जिन 10 जिलों में सर्वाधिक एक्टिव केस हैं, उनमें पुणे (59,475), मुंबई (46,248), नागपुर (45,322), ठाणे (35,264), नासिक (26,553), औरंगाबाद (21,282), बेंगलुरु नगरीय (16,259), नांदेड़ (15,171), दिल्ली (8,032) और अहमदनगर (7,952) शामिल हैं. भूषण ने कहा कि तकनीकी रूप से दिल्ली में कई जिले हैं, लेकिन इसे एक जिले के रूप में लिया गया है.

अभी सब ठीक नहीं हुआ, सावधानी बरतें-हर्षवर्धन

वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि देश मे बहुत लोगों को लगता है कि कोविड वायरस के खिलाफ वैक्सीन आ गयी है. अब सब ठीक हो गया है यानी लोग कोरोना को अब गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. लोग कोविड-19 को हल्के में ले रहे हैं. सुपर स्प्रेडर इवेन्ट्स हो रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि 20 लाख बेड बनाए गए हैं. भारत सरकार सभी केस को गहराई से देख रही है. पिछले हफ्ते 47 जिलों के साथ मीटिंग हुई थी.



योगी सरकार का बड़ा फैसला, UP में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए सरकारी और निजी कर्मचारियों को मिलेगी छुट्टी

1 अप्रैल से वैक्सीनेशन का तीसरा फेज

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच 1 अप्रैल से 45 साल के ऊपर वाले सभी लोगों को वैक्सीन दी जाएगी. केंद्र सरकार ने एक हफ्ते पहले ही इसकी घोषणा की थी. मंगलवार को आधिकारिक रूप से इसकी जानकारी दी गई. इसके तहत वैक्सीन लेने के लिए लोग CoWIN पोर्टल पर 1 अप्रैल यानी गुरुवार से दोपहर 3 बजे के बाद रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे. इसके लिए उन्हें पोर्टल पर जाकर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी करनी होगी. फिर वे सरकारी या निजी किसी भी अस्पताल में जाकर वैक्सीन ले सकेंगे. (एजेंसी इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज