भारत में अब खुला विदेशी वैक्सीन का रास्ता, सभी टीके को मंजूरी देगी सरकार

कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर भारत विदेशी वैक्सीन के लिए रास्ता खोल रहा है.  (कॉन्सेप्ट इमेज.)

कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर भारत विदेशी वैक्सीन के लिए रास्ता खोल रहा है. (कॉन्सेप्ट इमेज.)

फाइजर (Pfizer), मॉडर्ना (Moderna) और जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन भारत के टीकाकरण अभियान में जल्द ही शामिल हो सकती है. दरअसल, नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर Covid 19 के सुझाव को भारत सरकार ने मान लिया है. इसके तहत विदेशी वैक्सीन का भारत में आने का रास्ता साफ हो गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 7:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में कोरोना (Covid-19) की रफ्तार पर लगाम लगाने कि लिए अब विदेशी वैक्सीन (Foreigner Vaccine) का रास्ता खुल गया है. वो टीके जो विदेशों में बने हैं और वहां के रेगुलेटर ने इमरजेंसी यूज की अनुमति दे रखी है, उसे भारत में भी इस्तेमाल की इजाजत मिल सकती है. ऐसे में माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में टीकाकरण अभियान में तेजी लाने को लेकर भारत के पास तीन टीके के अलावा और भी टीके होंगे.

फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन भारत के टीकाकरण अभियान में जल्द ही शामिल हो सकती हैं. दरअसल, नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर Covid 19 के सुझाव को भारत सरकार ने मान लिया है. इसके तहत विदेशी वैक्सीन का भारत में आने का रास्ता साफ हो गया है.

सरकार वैक्सीन को लोगों पर इस्तेमाल से पहले नजर भी रखेगी

हालांकि, सरकार वैक्सीन को लोगों पर इस्तेमाल से पहले नजर भी रखेगी. टीका का आयात करने के बाद यहां सबसे पहले 100 लोगों को टीका दिया जाएगा और उनको 7 दिनों तक देखा जाएगा. इस दौरान इन टीकों को देने के बाद कोई दिक्कत तो नहीं आ रही, ये देखा जाएगा. इस बीच ब्रिज ट्रायल, वो ट्रायल जो कम लोगों पर किया जाता है, वो भी साथ साथ चलता रहेगा
डीसीजीआई ने रूसी वैक्सीन स्पूतनिक V को अनुमति दी है

नीति आयोग के सदस्य डॉ वी के पॉल ने कहा कि फिलहाल फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन तो हैं ही. ये तीन टीके इसमें क्वालीफाई कर रहे हैं. अब तक भारत के पास तीन टीके हैं जिसमें मंगलवार को ही डीसीजीआई ने रूसी वैक्सीन स्पूतनिक V को अनुमति दी है. जिसकी दूसरी डोज 21 दिनों पर लेनी है. अब इसके अलावा टीकाकरण अभियान में तेजी लाने को लेकर और भी वैक्सीन अब कतार में हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने माना कि हालात अब भी गंभीर



वी के पॉल ने कहा कि जो अमेरिका के रेगुलेटर, यूके के रेगुलर, जापान और WHO के मान्यता की लिस्ट में शामिल हैं वो सभी वैक्सीन इसमें शामिल हैं. इस बीच, स्वास्थ्य मंत्रालय ने माना कि हालात अब भी गंभीर हैं और ऐसे में इम्यूनिटी को लेकर कुछ काम घर पर करने चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज