• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Covid-19 Vaccine Price: कोविशील्ड और कोवैक्सिन की कीमतों पर कंपनियों से दोबारा मोलभाव करेगी सरकार

Covid-19 Vaccine Price: कोविशील्ड और कोवैक्सिन की कीमतों पर कंपनियों से दोबारा मोलभाव करेगी सरकार

 कोविड टीकाकरण (Covid Vaccination) के लिए 21 जून से नई नीति लागू हो जाएगी.

कोविड टीकाकरण (Covid Vaccination) के लिए 21 जून से नई नीति लागू हो जाएगी.

Covishield, Covaxin Covid-19 Vaccine Price: कोविशिल्ड और कोवैक्सीन टीकों की एक खुराक की कीमत केंद्र को अभी 150 रुपये पड़ती है. सरकार प्राथमिकता समूहों के टीकाकरण के लिए कोविशील्ड (Covishield) के निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) और कोवैक्सिन (Covaxin) बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक से इसी कीमत पर टीके खरीद रही है.

  • Share this:
    (रुनझुन शर्मा)

    नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस को हराने के लिए वैक्सीनेशन की रफ्तार को बढ़ाया जा रहा है. कोविड टीकाकरण (Covid Vaccination) के लिए 21 जून से नई नीति लागू हो जाएगी. इस बीच केंद्र सरकार कोविशिल्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) निर्माता कंपनियों से वैक्सीन की कीमत को लेकर दोबारा मोल भाव कर सकती है. मामले की जानकारी रखने वाले सरकारी सूत्रों के मुताबिक, सरकार सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक के साथ उस कीमत पर फिर से विचार कर सकती है, जिसपर मौजूदा समय में वैक्सीन खरीदी जा रही है.

    वर्तमान में कोविशिल्ड और कोवैक्सीन टीकों की एक खुराक की कीमत केंद्र को 150 रुपये पड़ती है. सरकार प्राथमिकता समूहों के टीकाकरण के लिए कोविशील्ड के निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) और कोवैक्सिन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक से इसी कीमत पर टीके खरीद रही है.

    कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट से हिफाजत करती है फाइजर और एस्ट्राजेनेका वैक्सीन, स्टडी में दावा

    अब 21 जून से मुफ्त टीकाकरण लागू करने जा रही है. इसके लिए केंद्र के लिए भारत में निर्मित वैक्सीन का 75% खरीदना जरूरी हो जाएगा. सूत्रों के मुताबिक टीकाकरण के लिए 45 हजार करोड़ रुपये से 50 हजार करोड़ रुपये के बजट का अनुमान लगाया गया है.

    केंद्र ने हाल ही में 44 करोड़ वैक्सीन कोविशील्ड (25 करोड़) और कोवैक्सिन (19 करोड़) की खरीद 150 रुपये प्रति खुराक की मौजूदा कीमत पर तय की है. लेकिन सूत्रों ने CNN-News18 को संकेत दिया है कि सरकार एक संशोधित खरीद मूल्य पर विचार कर सकती है. इसके लिए SII और भारत बायोटेक के साथ फिर से बातचीत कर सकती है.

    1 मई से प्रभावी मौजूदा टीकाकरण नीति के तहत केंद्र ने भारत में उत्पादित 50% टीकों की खरीद की है. इनका इस्तेमाल सिर्फ 45 साल से अधिक समूह और हेल्थकेयर-फ्रंटलाइन वर्कर्स के मुफ्त टीकाकरण के लिए किया गया था. वैक्सीन निर्माता अपने उत्पादन का 50% सीधे राज्यों (25%) और प्राइवेट अस्पतालों (25%) को बेच सकते हैं.



    कोरोना वायरस के नए प्रकार 'डेल्टा प्लस' का पता चला, वैज्ञानिकों ने कहा- चिंता की कोई बात नहीं

    कोवैक्सीन के लिए राज्यों को 400 रुपये प्रति खुराक का भुगतान करना पड़ता था. वहीं, कोविशील्ड के प्रति खुराक की कीमत 300 रुपये थी, लेकिन कई राज्यों ने अपने लोगों को वैक्सीन की कीमत के बोझ से मुक्त करने के लिए मुफ्त टीकाकरण की घोषणा की है.

    मुफ्त टीकाकरण अभियान के तहत केंद्र अपने 50% कोटे के अलावा राज्य कोटे से 25% की खरीद भी करेगा. वैक्सीनेशन की नई नीति के हिस्से के रूप में कुछ मापदंडों के आधार पर राज्यों को खुराक भी अलॉट किए जाएंगे. दूसरे शब्दों में, भारत सरकार सभी वयस्कों के लिए मुफ्त अभियान चलाने के लिए देश में बनी 75% वैक्सीन खुराक की खरीद करेगी. दूसरी ओर, निजी अस्पताल अभी भी निर्माताओं से सीधे 25% तक खुराक खरीद सकते हैं और शॉट्स के लिए लाभार्थियों से चार्ज ले सकते हैं.

    Vaccination: केंद्र अगले तीन दिन में राज्यों को कोविड-19 टीके की 96,490 खुराक उपलब्ध कराएगा

    केंद्र ने निजी अस्पतालों में टीकों की कीमतें भी नए सीरे से तय कर दी है. निजी अस्पतालों में 150 रुपये के सर्विस चार्ज और 5% जीएसटी के साथ कोविशील्ड की अधिकतम कीमत 780 रुपये होगी. कोवैक्सिन के लिए 1410 रुपये और स्पुतनिक के लिए 1145 रुपये देने होंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज