Assembly Banner 2021

वैक्सीन के लिए 24 घंटे में 50 लाख लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन, पंजाब-महाराष्ट्र में भेजी गई टीमें- केंद्र

16 जनवरी को हेल्थकेयर वर्कर्स को टीका लगाने के साथ कोरोना टीकाकरण की शुरुआत हुई थी. (PTI)

16 जनवरी को हेल्थकेयर वर्कर्स को टीका लगाने के साथ कोरोना टीकाकरण की शुरुआत हुई थी. (PTI)

Coronavirus Vaccination Drive in India: मंगलवार दोपहर 1 बजे तक के डेटा के मुताबिक भारत में अब तक टीके के 1.48 करोड़ डोज दिए जा चुके हैं. इसमें 1.22 करोड़ लोगों को पहला डोज मिला और 26 लाख लोगों को दूसरा डोज दिया जा चुका है. 1.29 लाख सीनियर सिटीजंस ने भी अब तक वैक्सीन लगवाई है.

  • Share this:
Coronavirus Vaccination Drive in India: भारत में कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीनेशन का दूसरा फेज चल रहा है. दूसरे फेज में 60 साल से ज्यादा उम्र और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे 45 से 59 वर्ष उम्र वाले लोगों को वैक्सीनेशन दिया जा रहा है. सोमवार को दूसरे फेज का पहला दिन था.

वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन और उसकी प्रक्रिया के पीछे मुख्य भूमिका निभाने वाले राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के अध्यक्ष आरएस शर्मा (RS Sharma) ने कहा कि पीएम मोदी ने वैक्सीन लगवाकर लोगों को एक सकारात्मक और मजबूत संदेश दिया है, खासकर उन्हें जो वैक्सीन पर संशय जाहिर कर रहे थे और साइड इफेक्ट को लेकर डर रहे थे. शर्मा ने जानकारी दी कि वैक्सीन के लिए पहले ही दिन 50 लाख आम लोगों ने COWIN ऐप पर रजिस्ट्रेशन कराया.

बस हो गया? कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लेने के बाद बोले राजनाथ सिंह



राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के अध्यक्ष आरएस शर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये जानकारी दी. उन्होंने बताया कि मंगलवार दोपहर 1 बजे तक के डेटा के मुताबिक भारत में अब तक टीके के 1.48 करोड़ डोज दिए जा चुके हैं. इसमें 1.22 करोड़ लोगों को पहला डोज मिला और 26 लाख लोगों को दूसरा डोज दिया जा चुका है. 1.29 लाख सीनियर सिटीजंस ने भी अब तक वैक्सीन लगवाई है.
बता दें कि देश में 16 जनवरी को हेल्थकेयर वर्कर्स को टीका लगाने के साथ कोरोना टीकाकरण की शुरुआत हुई थी. इसके बाद 2 फरवरी से फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी वैक्सीन लगने लगी थी.

एक दिन में लग सकती है कितनों को वैक्सीन?
एक दिन में कितनों को वैक्सीन लग सकती है? इस सवाल के जवाब में आरएस शर्मा कहते हैं कि वे नंबर में नहीं उलझे हैं बल्कि एक प्लंबर की तरह वैक्सीनेशन अभियान में सहयोग दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि अब तेजी से वैक्सीनेशन अभियान आगे बढ़ेगा. यह सब कुछ इस पर निर्भर है कि प्राइवेट अस्पताल किस तरह स्पीड बढ़ाते हैं और सप्लाई पर भी निर्भर करेगा. अभी हमारे पास इसके लिए 12,500 प्राइवेट अस्पताल तैयार हैं और करीब 15,000 सरकारी अस्पताल हैं. इसलिए अगर 27,000 अस्पताल एक दिन में 100 लोगों को भी वैक्सीन लगाते हैं तो यह संख्या एक दिन में 27 लाख होगी.

वॉक-इन वैक्सीनेशन को लेकर खाली रखे जाते हैं स्लॉट
वॉक-इन वैक्सीनेशन को लेकर उन्होंने कहा कि कुछ स्लॉट खाली रखे जाते हैं. अपनी पसंद के कोविड-19 टीकाकरण केंद्र (CVC) को चुन सकते हैं और टीका लगवाने के लिए अपना समय निर्धारित करवा सकते हैं. सभी को तस्वीर वाली पहचान पत्र जैसे आधार कार्ड, वोटर आईडी या इसी तरह का कोई और पहचान लेकर टीकाकरण केंद्र जाना होगा. वहीं, किसी बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक उम्र के लाभार्थी को बीमारी से संबद्ध प्रमाणपत्र भी साथ लाना होगा, जिस पर रजिस्टर्ड डॉक्टर के हस्ताक्षर होने चाहिए.

पंजाब, हरियाणा और महाराष्ट्र में भेजी गई टीम
वहीं, स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने जानकारी दी कि वैक्सीनेशन के साथ ही पंजाब, हरियाणा और महाराष्ट्र में कोरोना के नए केस बढ़ रहे हैं. ऐसे में इन राज्यों में केंद्र से एक स्पेशल टीम भेजी गई है, जो हालात का जायजा लेगी.

COVID 19: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने लगवाया कोरोना का टीका, पत्नी ने अस्पताल को दिए 250 रुपए

वैक्सीनेशन में भारत कितने नंबर पर
OurWorldInData के मुताबिक दुनियाभर में 24 करोड़ लोगों को वैक्सीनेट किया जा चुका है. इनमें भी 7.5 करोड़ के साथ अमेरिका सबसे आगे है. इसके बाद चीन (4.05 करोड़), यूके (2.08 करोड़) और भारत (1.48 करोड़) का नंबर आता है. अगर ये रफ्तार रही, तो 15 मार्च से पहले ही यूके को पीछे छोड़कर भारत तीसरे स्थान पर आ जाएगा. (ANI इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज