कोरोना टीकाकरण के लिए अब हेल्थ वर्कर्स का नहीं होगा रजिस्ट्रेशन, जानें वजह

केंद्र ने राज्यों को चिट्ठी लिखकर ऐसा करने को कहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

केंद्र ने राज्यों को चिट्ठी लिखकर ऐसा करने को कहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण (Rajesh Bhushan) ने कहा है कि 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का रजिस्ट्रेशन सामान्य रूप से जारी रहेगा. उन्होंने कहा है कि हेल्थ केयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स के वैक्सीनेशन के लिए केंद्र सरकार राज्यों के साथ मिलकर काम करती रही है. इन दोनों के वैक्सीनेशन की अवधि को कई बार बढ़ाया गया है. लेकिन अब नए रजिस्ट्रेशन बंद कर देने चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 3, 2021, 11:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में बेहद तेज रफ्तार से बढ़ते कोरोना मामलों (Covid-19 Cases) के बीच केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा है कि अब नए स्वास्थ्यकर्मियों (Healthcare Workers) का रजिस्ट्रेशन बंद (Close Registration) कर दिया जाए. राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे खत में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा है कि 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का रजिस्ट्रेशन सामान्य रूप से जारी रहेगा. उन्होंने कहा है कि हेल्थ केयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स के वैक्सीनेशन के लिए केंद्र सरकार राज्यों के साथ मिलकर काम करती रही है. इन दोनों के वैक्सीनेशन की अवधि को कई बार बढ़ाया गया है. लेकिन अब नए रजिस्ट्रेशन बंद कर देने चाहिए.

उन्होंने बताया कि पहले हेल्थ केयर वर्कर्स का रजिस्ट्रेशन 25 फरवरी को बंद किया जाने वाला था. और फ्रंटलाइन वर्कर्स का 6 मार्च को. लेकिन अभी तक ये जारी है. उन्होंने यह भी कहा-कई जगह से जानकारी मिली है कि अयोग्य लाभार्थियों का रजिस्ट्रेशन हेल्थ केयर वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर के रूप में हुआ है. इनका टीकाकरण किया जाना वैक्सीनेशन की गाइडलाइंस का उल्लंघन है.

हेल्थ वर्कर्स के डेटा में 24 फीसदी का इजाफा हुआ!

उन्होंने इशारा किया कि बीते कुछ दिनों में हेल्थ वर्कर्स के डेटा में 24 फीसदी का इजाफा हुआ है. राजेश भूषण ने कहा है-इस मुद्दे पर राज्यों के प्रतिनिधियों और एक्सपर्ट्स से आज चर्चा हुई. वैक्सीनेशन को लेकर नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप की सलाह पर फैसला किया गया कि अब किसी नए हेल्थ वर्कर का रजिस्ट्रेशन नहीं किया जाएगा.
ये भी पढ़ें- कोरोना के बढ़ते केस पर बिहार में फिर से स्कूल-कॉलेज 11 अप्रैल तक बंद

16 जनवरी से भारत में शुरू हुआ था वैक्सीनेशन कार्यक्रम

गौरतलब है कि भारत में दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीनेशन कार्यक्रम की शुरुआत 16 जनवरी से की गई थी. शुरुआत में वैक्सीनेशन सिर्फ हेल्थ वर्कर्स का किया गया फिर बाद में इसमें फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी जोड़ा गया. 1 मार्च से दूसरे चरण में 60 साल से अधिक के सभी लोगों का और 45 साल से अधिक किसी बीमारी से ग्रसित लोगों के वैक्सीनेशन का कार्यक्रम चलाया गया. अब 1 अप्रैल से 45 साल से अधिक सभी लोगों के वैक्सीनेशन का कार्यक्रम चलाया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज