अपना शहर चुनें

States

त्योहारी मौसम, लापरवाही के चलते दिल्ली में बढ़े कोविड-19 के मामले: केंद्र

आने वाले सप्ताह में दोबारा से दिल्ली समेत एनसीआर के अन्य जिलों के हालात की समीक्षा की जाएगी.
आने वाले सप्ताह में दोबारा से दिल्ली समेत एनसीआर के अन्य जिलों के हालात की समीक्षा की जाएगी.

Coronavirus in Delhi: केंद्रीय गृह सचिव ने दिल्ली सरकार के अधिकारियों के प्रयासों की सराहना करते हुए शहर में कोविड-19 के प्रसार की रोकथाम की रणनीति को सख्ती से लागू किए जाने पर भी जोर दिया.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Central Government) ने सोमवार को दिल्ली (Delhi) में कोविड-19 के मामलों (Covid-19 Cases) में बढ़ोतरी के लिए त्योहारी मौसम, लोगों की ज्यादा आवाजाही और कोविड व्यवहार से जुड़ी सावधानियों में लापरवाही को जिम्मेदार ठहराया. साथ ही उसने कहा कि संवेदनशील जोन में नमूनों के जांच की संख्या में वृद्धि के प्रयास किए जाएंगे. सरकार ने मेट्रो यात्रा (Metro Rides) के दौरान कोविड-19 संबंधी मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पूरी सावधानी से अनुपालन सुनिश्चित करने पर भी जोर दिया. केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला की अध्यक्षता में हुई एक उच्च स्तरीय बैठक के दौरान दिल्ली में कोविड-19 की स्थिति पर चर्चा की गई.

गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने एक बयान में कहा, 'दिल्ली में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में हालिया बढ़ोतरी का कारण त्योहारी मौसम में लोगों की ज्यादा आवाजाही और कोविड व्यवहार से जुड़ी बुनियादी सावधानियों में लापरवाही बरतना है.' मंत्रालय ने कहा कि अस्पतालों में बिस्तरों की उपलब्धता की स्थिति सहज है क्योंकि कोविड-19 समर्पित 15,789 बिस्तरों में से 57 प्रतिशत खाली हैं. वहीं, कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों और उपचाराधीन मरीजों की संख्या में वृद्धि के बीच प्रशासन परीक्षण, संपर्कों का पता लगाने और उपचार पर ध्यान केंद्रित कर रहा है.

ये भी पढ़ें- LG मनोज सिन्हा ने कहा-2025 तक जम्मू कश्मीर के 80% युवाओं को रोजगार देने की कोशिश, पढ़ें 10 बड़ी बातें



बयान के मुताबिक, बैठक के दौरान दिल्ली में कोविड-19 के प्रसार की रोकथाम के मद्देनजर रणनीति बनाए जाने को लेकर भी चर्चा की गई और इस दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रतिनिधियों के अलावा स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी मौजूद रहे.
इन मुद्दों पर की गई चर्चा
बैठक के दौरान खासतौर पर त्योहारी मौसम और तापमान में कमी आने के कारण बढते प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए कोविड-19 की रोकथाम को लेकर चर्चा की गई.

इसके मुताबिक, बैठक में निर्णय लिया गया कि रेस्तरां, बाजारों, सलून जैसी संवेदनशील जगहों पर लक्षित आरटी-पीसीआर जांच जैसे प्रयासों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा. साथ ही वेंटिलेटर, बिस्तरों और आईसीयू समेत अन्य चिकित्सा संसाधनों की उपलब्धता में वृद्धि करने का भी फैसला लिया गया.

अधिकारियों के प्रयासों की गृह सचिव ने की सराहना
वहीं, केंद्रीय गृह सचिव ने दिल्ली सरकार के अधिकारियों के प्रयासों की सराहना करते हुए शहर में कोविड-19 के प्रसार की रोकथाम की रणनीति को सख्ती से लागू किए जाने पर भी जोर दिया. भल्ला ने दिल्ली के निवासियों को कोविड संबंधी सुरक्षित व्यवहार को लेकर जागरूक और संवेदनशील बनाने के लिए उन तक पहुंचने की आवश्यकता पर जोर दिया और कहा कि इस कार्य के लिए आरडब्ल्यूए, मोहल्ला और बाजार समितियों के जरिए, सार्वजनिक उद्घोषणा प्रणाली और पुलिस वाहनों पर संदेश लगाने समेत अन्य तरीकों का उपयोग किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- 16 राज्यों और 3 संघ शासित राज्यों को मिली GST भरपाई की दूसरी किस्त

उन्होंने यह भी कहा कि आने वाले सप्ताह में दोबारा से दिल्ली समेत एनसीआर के अन्य जिलों के हालात की समीक्षा की जाएगी.

बैठक में ये अधिकारी रहे मौजूद
बैठक में नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल, स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव, आईसीएमआर के महानिदेशक, दिल्ली के मुख्य सचिव के साथ ही दिल्ली सरकार के वरिष्ठ अधिकारी और दिल्ली पुलिस आयुक्त भी मौजूद थे. इस दौरान, दिल्ली सरकार ने भी कोविड-19 की वर्तमान स्थिति को लेकर प्रस्तुति दी.

राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 5,664 नए मामले सामने आने के बाद यहां अब तक संक्रमण के कुल 3.92 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज