चुनाव प्रचार के व्यय में की गई बढ़ोतरी, जानें किस राज्य में कितना खर्च कर सकेंगे उम्मीदवार

चुनाव आयोग ने एक महीने पहले कोविड-19 के मद्देनजर उम्मीदवारों के धन व्यय की सीमा 10 प्रतिशत बढ़ाने का सुझाव दिया था. (सांकेतिक तस्वीर)
चुनाव आयोग ने एक महीने पहले कोविड-19 के मद्देनजर उम्मीदवारों के धन व्यय की सीमा 10 प्रतिशत बढ़ाने का सुझाव दिया था. (सांकेतिक तस्वीर)

Bihar Assembly Elections: इस फैसले के बाद बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) और लोकसभा (Loksabha) की एक तथा विधानसभा की 59 सीटों पर होने वाले उप चुनाव (By-Election) में उम्मीदवारों को मदद मिलेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 1:07 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चुनाव आयोग (Election Commision of India) के सुझाव पर सरकार ने लोकसभा और विधानसभा उम्मीदवारों (Loksabha & Assembly Election Candidates) की अधिकतम व्यय सीमा 10 प्रतिशत बढ़ा दी है. नए बदलाव के मुताबिक लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए कोई उम्मीदवार 77 लाख रुपये खर्च कर सकता है वहीं छोटे राज्यों में यह सीमा 59.40 लाख रुपये तक तय की गई है. वहीं विधानसभा उम्मीदवार 30.8 लाख रुपये तक खर्च कर सकता है पहले ये सीमा 28 लाख रुपये थी.

ये फैसला कोविड-19 (Covid-19) को देखते हुए लिया गया है क्योंकि महामारी के कारण जारी दिशा-निर्देशों के चलते उन्हें प्रचार करने में परेशानी का सामना कर पड़ सकता है. इससे बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) और लोकसभा (Loksabha) की एक तथा विधानसभा की 59 सीटों पर होने वाले उप चुनाव (By-Election) में उम्मीदवारों को मदद मिलेगी.

ये भी पढ़ें- कोरोना वायरस पर PM मोदी बोले- जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं



प्रचार के खर्च करने की अधिकतम सीमा हर राज्य में अलग
चुनाव आयोग ने एक महीने पहले कोविड-19 के मद्देनजर उम्मीदवारों के धन व्यय की सीमा 10 प्रतिशत बढ़ाने का सुझाव दिया था. कानून मंत्रालय द्वारा सोमवार रात जारी की गई एक अधिसूचना के अनुसार लोकसभा चुनाव (Loksabha Elections) लड़ रहा उम्मीदवार अब अधिकतम 77 लाख रुपये खर्च कर सकता है. पहले यह सीमा 70 लाख रुपये थी. वहीं विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार अब 28 लाख रुपये की जगह 30.8 लाख रुपये खर्च कर सकता है. उम्मीदवारों की प्रचार के लिए खर्च करने की अधिकतम सीमा हर राज्य में अलग है.

चुनाव आयोग के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘अधिकतम व्यय सीमा किसी कारण से बढ़ाई गई है. लेकिन अधिसूचना में कारण का उल्लेख करने की आवश्यकता नहीं है.’’ लोकसभा चुनाव से पहले 2014 में आखिरी बार अधिकतम व्यय सीमा बढ़ाई गई थी.

ये भी पढ़ें- UP Assembly By-Election: सपा ने स्टार प्रचारकों का किया ऐलान, देखें पूरी लिस्ट

जानें कौन से राज्यों में कितना खर्च कर सकेंगे उम्मीदवार 
बदलाव के बाद महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, कर्नाटक, बिहार गुजरात, हरियाणा आदि में 77 लाख रुपये तक व्यय की सीमा तय की गई है. वहीं अरुणाचल प्रदेश, गोवा, सिक्‍किम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, चंडीगढ, दादर और नगर हवेली, दमन और दीव, लक्षद्वीप तथा पुडुचेरी में खर्च की सीमा 59.40 लाख रुपये हो गई है.

बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 28 अक्टूबर, तीन नवम्बर और सात नवम्बर को होना है. अधिकतर उपचुनाव तीन नवम्बर को होंगे. बिहार में वाल्मीकि नगर लोकसभा सीट और मणिपुर की कुछ विधानसभा सीटों पर उपचुनव सात नवम्बर को है. (भाषा के इनपुट सहित)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज