Covid-19: गोवा में रिकॉर्ड 41% पर पहुंचा पॉजिटिविटी रेट, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ में सुधर रहे हालात

गोवा और दिल्ली के बाद पश्चिम बंगाल सबसे ज्यादा प्रभावित है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गोवा और दिल्ली के बाद पश्चिम बंगाल सबसे ज्यादा प्रभावित है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Coronavirus in India: एक पखवाड़े (21 अप्रैल से 4 मई) में दर्ज किए गए आंकड़े बताते हैं कि गोवा (Goa) का पॉजिटिविटी रेट रिकॉर्ड 41 फीसदी पर था. इसके अलावा दिल्ली में यह दर लगातार बढ़ रही है.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश में कोविड-19 स्थिति दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही है. संक्रमण और मौत के आंकड़ों के बाद अब बढ़ते पॉजिटिविटी रेट (Positivity Rate) ने भी चिंता बढ़ा दी है. देश के मशहूर पर्यटन स्थलों में से एक गोवा में 21 अप्रैल से 4 मई के बीच पॉजिटिविटी रेट 41 फीसदी पर पहुंच गया. इतना ही नहीं इस दौरान राजधानी दिल्ली (Delhi) समेत देश के कम से कम 13 राज्यों में यह आंकड़ा 21 प्रतिशत से ज्यादा था.

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, एक पखवाड़े (21 अप्रैल से 4 मई) में दर्ज किए गए आंकड़े बताते हैं कि गोवा का पॉजिटिविटी रेट रिकॉर्ड 41 फीसदी पर था. इसके अलावा दिल्ली में यह दर लगातार बढ़ रही है. यहां 8 से 21 अप्रैल के बीच रेट 19 प्रतिशत पर था. जो 21 अप्रैल से 4 मई के बीच बढ़कर 32 फीसदी पर पहुंच गया. बीता मार्च से तुलना की जाए, तो केवल एक ही राज्य था जो 7 फीसदी पॉजिटिविटी दर को पार कर गया था.

कोरोना वैक्सीनेशन: UP में 10 मई से 45 वर्ष से ऊपर के नागरिकों को भी पहले कराना होगा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

देश के इन हिस्सों में भी खराब हैं हालात
गोवा और दिल्ली के बाद पश्चिम बंगाल सबसे ज्यादा प्रभावित है. यहां 21 अप्रैल से 4 मई के बीच पॉजिटिविटी रेट 30 प्रतिशत पर रहा. वहीं, मार्च में एक ओर जहां देश में यह दर 3-4 प्रतिशत पर थी. वह बीते दो पखवाड़ों में बढ़कर 15 से 21 फीसदी पर पहुंच गई है. टीओआई के अनुसार, ये आंकड़े टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट की कमी की ओर इशारा कर रहे हैं.


इन राज्यों में बेहतर हो रही है स्थिति



हालांकि, महाराष्ट्र में 8 से 21 अप्रैल के बीच संक्रमण दर 25 प्रतिशत थी. जो 21 अप्रैल से 4 मई के बीच गिरकर 23 प्रतिशत पर आ गई है. वहीं, इस दौरान छत्तीसगढ़ में आंकड़े 29 फीसदी से कम होकर 28 प्रतिशत पर आ गया है. वहीं, 9 राज्य ऐसे रहे जहां पॉजिटिविटी रेट 10-20 प्रतिशत पर रहा. जबकि, असम समेत कुछ उत्तर पूर्वी राज्यों में संक्रमण 5 फीसदी पर रहा. ओडिशा में बीते दो पखवाड़ों में संक्रमण दर बढ़कर 8 से 17 प्रतिशत पर पहुंच गई है. राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या में भी बढ़त दर्ज की जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज