Home /News /nation /

...तो नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर, सरकार के एक्सपर्ट की इस सलाह पर जरूर करें अमल

...तो नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर, सरकार के एक्सपर्ट की इस सलाह पर जरूर करें अमल

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर आशंकाएं जाहिर की जा रही हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर आशंकाएं जाहिर की जा रही हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

सरकार के बायोटेक्नोलॉजी डिपोर्टमेंट में सेक्रेटरी डॉ. रेणु स्वरूप (Renu Swaroop) का कहना है कि तीसरी लहर तभी आएगी जब उसे 'बुलाया जाएगा'. उन्होंने कहा कि तीसरी लहर दो ही तरीके से बुलाई जा सकती है-पहला, मानवीय व्यवहार द्वारा और दूसरा वायरस के बदलते स्वभाव के द्वारा.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. देश में कोरोना की दूसरी भयावह लहर के बाद अब तीसरी लहर (Covid Third Wave) पर भी चर्चाएं तेज हो गई हैं. लेकिन सरकार के बायोटेक्नोलॉजी डिपोर्टमेंट में सेक्रेटरी डॉ. रेणु स्वरूप का कहना है कि तीसरी लहर तभी आएगी जब उसे ‘बुलाया जाएगा’. उन्होंने कहा कि तीसरी लहर दो ही तरीके से बुलाई जा सकती है-पहला, मानवीय व्यवहार द्वारा और दूसरा वायरस के बदलते स्वभाव के द्वारा.

    वायरस के व्यवहार और बदलते स्वरूप को लेकर उन्होंने कहा-हम इसके म्यूटेशन के स्वभाव के बारे में जानते हैं और इस पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है. लेकिन मानवीय व्यवहार पर है. अगर कोरोना से बचाव संबंधी सभी व्यवहार अपने जीवनशैली में अपनाए जा सकते हैं. अगर हम कोरोना संबंधी व्यवहार अपनाते हैं, वायरस की चेन ब्रेक कर देते हैं. एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में वायरस पहुंचने से रोक लेते हैं. तो कोई रास्ता नहीं है कि अन्य लहर आए. बस लोगों को अपने व्यवहार पर नियंत्रण रखना होगा.

    नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ डिजास्‍टर मैनेजमेंट की रिपोर्ट
    बता दें कि नीति आयोग की ओर से हाल ही में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने को लेकर चेताया गया है. इसी के साथ ही अब गृह मंत्रालय के निर्देशन में गठित नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ डिजास्‍टर मैनेजमेंट के विशेषज्ञों की कमेटी ने भी बेहद चौंकाने वाली रिपोर्ट पेश की है. उनके अनुसार अक्‍टूबर में देश में कोरोना वायरस संक्रमण चरम पर होगा. तब ही कोरोना की तीसरी लहर भी संभव है. तीसरी लहर के दौरान बच्‍चों पर अधिक खतरा होने की आशंका है.

    कोरोना वायरस संक्रमण पर टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर बच्‍चे बड़ी संख्‍या में कोरोना वायरस संक्रमण से संक्रमित होते हैं तो उनके लिए बाल चिकित्‍सा सेवाएं जैसे डॉक्‍टर, मेडिकल स्‍टाफ, वेंटिलेटर और एंबुलेंस जैसी सुविधाएं कहीं नहीं हैं. इस रिपोर्ट को प्रधानमंत्री कार्यालय में भेज दिया गया है. इसी के साथ ही नीति आयोग के सदस्‍य वीके पॉल की प्रमुखता वाले समूह ने पिछले महीने सरकार को सुझाव दिए थे कि अगर भविष्‍य में कोविड 19 के मामले बढ़ते हैं तो प्रति 100 मामलों में 23 मामलों में अस्‍पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ेगी.

    Tags: Corona third wave, Covid-19 Third Wave

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर