अपना शहर चुनें

States

टीकाकरण अधिकारी ने कहा- आम लोगों तक टीका पहुंचने में लगेंगे छह-सात महीने

देश में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो रही है. (सांकेतिक तस्वीर)
देश में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो रही है. (सांकेतिक तस्वीर)

अधिकारी ने कहा कि आम लोगों के टीकाकरण शुरू होने में कम से कम छह-सात महीने लगेंगे. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों, अग्रिम पंक्ति के कर्मियों और पहले से किसी बीमारी से पीड़ित लोगों को टीका लगाने के बाद आम लोगों तक टीके के पहुंचने में इतना समय लग जाएगा.

  • Share this:
मुंबई. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ टीकाकरण अभियान (Vaccination Movemnt) भले ही दो दिन में शुरू होने वाला हो, लेकिन आम लोगों तक टीका पहुंचने में कम से छह-सात महीने लगेंगे. महाराष्ट्र (Maharashtra) के एक अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि पहले टीका अग्रमि पंक्ति के कर्मियों (Frontline Workers) को लगाया जाएगा और फिर उच्च जोखिम वाली श्रेणी के बाहर के लोगों के लिए उपलब्ध होगा.

स्वास्थ्य कर्मियों, अग्रिम पंक्ति के कर्मी और किसी बीमारी से पीड़ित लोगों को संक्रमित होने के उच्च जोखिम वाली श्रेणी में रखा गया है. उन्हें 16 जनवरी से शुरू हो रहे तीन चरण के टीकाकरण अभियान में टीका लगाया जाएगा. राज्य के टीकाकरण अधिकारी डॉ दिलीप पाटिल ने तैयारियों पर पीटीआई-भाषा से बातचीत करते हुए कहा, " अभियान के लिए अभी कार्यशालाएं और प्रशिक्षण पूरा हो गया है. हम त्रुटि रहित टीकाकरण अभियान चलाने के लिए तैयार हैं."

ये भी पढ़ें- कैसे पहुंचाई गई वैक्‍सीन और 16 जनवरी को टीकाकरण स्थल पर क्या होगा? जानिए सब कुछ



उन्होंने बताया कि सरकारी, निजी और सशस्त्र बलों के अस्पतालों के करीब 7.86 लाख स्वास्थ्य कर्मियों ने टीकाकरण के लिए पंजीकरण कराया है.
आम लोगों के टीकाकरण में छह से सात माह का समय
पूछा गया कि टीका आम लोगों के लिए कब तक उपलब्ध हो सकेगा तो पाटिल ने कहा कि इसमें कम से कम छह-सात महीने लगेंगे. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों, अग्रिम पंक्ति के कर्मियों और पहले से किसी बीमारी से पीड़ित लोगों को टीका लगाने के बाद आम लोगों तक टीके के पहुंचने में इतना समय लग जाएगा.

दूसरे चरण में पुलिस, होम गार्ड जैसे अग्रिम पंक्ति के कर्मियों को टीका लगाया जाएगा.

दुष्प्रभाव से बचने की तैयारियां पूरी
डॉ पाटिल ने बताया कि महाराष्ट्र को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के "कोवीशील्ड" टीका की 9.63 लाख खुराकें मिली हैं जबकि "कोवैक्सीन" की 20,000 खुराकें मिली हैं. यह टीका देश की भारत बायोटेक ने बनाया है. उन्होंने बताया कि राज्य में पहले दिन 285 स्थानों पर टीकाकरण करने की योजना है और शुक्रवार तक टीके की खेप राज्य में सभी जगह पहुंच जाएगी.

ये भी पढ़ें- आम लोगों के लिए मार्च में लॉन्च होगा Co-Win ऐप, इन्हें नहीं दी जाएगी वैक्सीन

अधिकारी ने बताया कि टीके के किसी दुष्प्रभाव से निपटने के लिए ऑक्सीजन सिलेंडरों और चिकित्सा कर्मियों को तैयार रखा गया है. उन्होंने कहा लाभार्थियों को यह अधिकार नहीं होगा कि वे इस बात का चयन करें कि उन्हें कौनसा टीका लगाया जाएगा.

अमरावती के मंडलीय आयुक्त पीयूष सिंह ने बताया कि महाराष्ट्र के अमरावती मंडल में 16 जनवरी को करीब 2200 स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जाएगा. एक अन्य अधिकारी ने बताया कि नागपुर मंडल को बृहस्पतिवार सुबह "कोविशील्ड" टीके की 1.14 लाख खुराकों की पहली खेप मिल गई है. इस मंडल में 34 केंद्रों पर टीकाकरण होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज