गोमूत्र से बनेंगे पटाखे, बिखेरेंगे दीवाली पर खुशबू

News18Hindi
Updated: April 23, 2019, 6:10 PM IST
गोमूत्र से बनेंगे पटाखे, बिखेरेंगे दीवाली पर खुशबू
फाइल फोटो

यह पटाखे ग्रीन पटाखों के मुकाबले 50 प्रतिशत सस्ते होंगे, साथ ही यह बिल्कुल भी प्रदूषण नहीं करेंगे. इनको चलाने पर खुशबू आएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2019, 6:10 PM IST
  • Share this:
अब तक आपने बारूद से बने पटाखों या फिर ग्रीन पटाखों के बारे में ही सुना होगा. लेकिन अब वैज्ञानिकों ने पटाखों को लेकर चौंकाने वाली खोज कर ली है. वैज्ञानिकों का दावा है कि अब गोमूत्र से बने पटाखे बाजार में मिलेंगे. यह पटाखे ग्रीन पटाखों के मुकाबले 50 प्रतिशत सस्ते होंगे, साथ ही यह बिल्कुल भी प्रदूषण नहीं करेंगे. इनको चलाने पर खुशबू आएगी. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च (आईआईएसईआर) के वैज्ञानिकों ने मोहाली में ऐसे पटाखों का निर्माण कर लिया है.

ये भी पढ़ें: किसी बड़ी फिल्म जैसी है BJP की ये स्टार लिस्ट

पहले इसी टीम ने बनाए थे ग्रीन पटाखे
आईआईएसईआर के वैज्ञानिकों की इसी टीम ने पिछले साल ग्रीन पटाखों का निर्माण किया था जो धुंआ नहीं फैलाते थे साथ ही उनके चलने पर खुशबू आती थी. लेकिन ये पटाखे प्लास्टिक की बोतलों में थे. संस्‍थान के रसायन वैज्ञानिक प्रोफेसर समरथ घोष के अनुसार गोमूत्र से बने पटाखे भी ग्रीन पटाखों की श्रेणी में ही होंगे, लेकिन यह 50 प्रतिशत सस्ते होंगे. अब संस्‍थान इनका निर्माण बड़े स्तर पर करने के बारे में विचार कर रहा है.

ये भी पढ़ें: बीजेपी से जुड़े सनी देओल, लोगों को याद आए बलवंत राय और हैंडपंप

एनईईआईआई के वैज्ञानिकों ने भी किया था निर्माण
घोष ने बताया नेशनल एनवायरमेंट इंजीनियरिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट (एनईईआईआई) के वैज्ञानिकों ने भी ग्रीन पटाखों का निर्माण किया था जिनको अप्रैल के अंत तक सरकार से मान्यता मिलने की उम्मीद है. उनके ग्रीन पटाखे 25 से 30 प्रतिशत ही प्रदूषण में कमी करते हैं, लेकिन गोमूत्र से बने पटाखों से नाममात्र का भी प्रदूषण नहीं होगा. उन्होंने कहा कि दीवाली में अभी छह माह से ज्यादा का समय है. ऐसे में हमारे पास इतना समय है कि जल्द से जल्द हम इनका ज्यादा से ज्‍यादा प्रोडक्‍शन कर सकें.
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 23, 2019, 6:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...