होम /न्यूज /राष्ट्र /मेवात के गोभक्‍त मुसलमान: यहां बेटी की शादी में दान दी जाती है गाय

मेवात के गोभक्‍त मुसलमान: यहां बेटी की शादी में दान दी जाती है गाय

मेवात में पशुपालन विभाग के डिप्‍टी डायरेक्‍टर डॉ. नरेंद्र सिंह के मुताबिक इस समय मेवात में लगभग 45 हजार गाय हैं. यहां क ...अधिक पढ़ें

    मेवात के मुस्‍लिमों में बेटी की शादी के बाद लड़के वालों को गाय दान में देने की परंपरा है. इसलिए लगभग हर गांव में गाय जरूर मिलेंगी. जबकि गुरुग्राम से अलवर तक फैला यह क्षेत्र गायों की तस्‍करी के लिए बदनाम है.

    मुस्‍लिम बहुल इस जिले के फिरोजपुर झिरका कस्‍बे के पास एक गांव है पाटखोरी. इसमें करीब एक हजार गायों का पालन पोषण हो रहा है.

    जिले में पांच सौ से अधिक परिवार ऐसे हैं जिनके पास 50 से लेकर 100 गायें हैं.

    यहीं की तहसील नूंह के गांव जय सिंहपुर का रहने वाला पहलू खां भी था, जिसकी कथित तौर पर गायों की तस्‍करी करने के आरोप में गोरक्षकों ने अलवर (राजस्‍थान) में पीट-पीटकर हत्‍या कर दी.

    अलवर में गौरक्षकों की पिटाई से एक शख्स की मौत, 200 के खिलाफ केस दर्ज

    पाटखोरी गांव के गोपालक जाकिर कहते हैं गाय तो हमारे पूर्वज भी रखते आए थे. गायों ने तो हमें दूध दिया है, हमारा पेट पाला है. उन्‍हें हम माता और देवी के रूप में मानते हैं.

    mewat

    ये तो मुट्ठी भर लोग हैं, जो इस काम में संलिप्‍त हैं. उन्‍हीं की वजह से पूरा मेवात गोकशी के लिए बदनाम हो रहा है.

    मेवात में पशुपालन विभाग के डिप्‍टी डायरेक्‍टर डॉ. नरेंद्र सिंह कहते हैं कि इस समय मेवात में लगभग 45 हजार गाय हैं. यहां के लोगों का मूल काम ही किसानी और पशुपालन है.

    मेवात में गाय केयर अभियान से जुड़े राजुद्दीन कहते हैं कि यहां 50 से 100 गाय पालने वाले कम से कम 500 परिवार हैं. दो-तीन गाय तो हजारों परिवारों के पास हैं.

    mewsat 1

    उनके मुताबिक नगीना के रमजान के पास 200, झिमरावट के मुबारक के पास 105 और यहीं के हकीमुदीन के पास 100 गाय हैं. मुस्‍लिम राष्‍ट्रीय मंच के प्रदेश अध्‍यक्ष खुर्शीद राजाका कहते हैं यहां के लोग गायों के रक्षक हैं. वह गोकशी करने वालों के खिलाफ खड़े होते हैं.

    रिपोर्ट बदलने के लिए डॉक्टर को धमकी, राजस्थान में 'गौरक्षकों' पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश

    13 सितंबर 2015 को आरएसएस ने यहां मुस्‍लिम गोपालकों का राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन करवाया था. जिसमें देश भर से लोग आए थे. उन्‍हें सम्‍मानिक किया गया. मेवात के मुस्‍लिमों ने मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल और आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार को गाय भेंट की थी.

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें