टीकाकरण का प्लेटफॉर्म है कोविन, मरीज का डाटा नहीं इकट्ठा करताः स्वास्थ्य मंत्रालय

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि कोविन देश में टीकाकरण कार्यक्रम को प्रबंधित करने का प्लेटफॉर्म है. (सांकेतिक तस्वीर)

Health Ministry: मंत्रालय ने कहा कि कोरोना टीकाकरण प्रमाणपत्र तभी हासिल होगा, जब टीका लगवाने वाले व्यक्ति ने कोविन पर अपना स्टेटस अपडेट किया होगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लिए केंद्र सरकार ने कोविन प्लेटफॉर्म बनाया है, जिस पर टीकाकरण से पहले अप्वाइंटमेंट के लिए बुकिंग या रजिस्ट्रेशन की जाती है. इस बारे में स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि कोविन देश में टीकाकरण कार्यक्रम को प्रबंधित करने का प्लेटफॉर्म है और यह कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति की मेडिकल हिस्ट्री से संबंधित डाटा को कलेक्ट नहीं करता है.

मंत्रालय ने आगे कहा कि कोविन सिर्फ नियमों का लागू करता है, जिसे समय-समय पर केंद्र सरकार द्वारा लागू की जाती हैं. साथ ही यह स्वास्थ्य मंत्रालय की नई गाइडलाइन के बारे में लोगों को जानकारी देता है. ताकि नई जानकारियों के आधार पर लोग अपना निर्णय ले सकें.

इसके अलावा मंत्रालय ने कहा कि कोरोना टीकाकरण प्रमाणपत्र तभी हासिल होगा, जब टीका लगवाने वाले व्यक्ति ने कोविन पर अपना स्टेटस अपडेट किया होगा. अगर कोविन पर रजिस्ट्रेशन है, तो टेक्स्ट मैसेज के जरिए टीका लगवाने व्यक्ति को सर्टिफिकेट डाउनलोड करने के लिए लिंक मिलता है.



ये भी पढ़ें- बाबा रामदेव पर तंज कसते नजर आए कुमार विश्वास, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ VIDEO

वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट को लेकर भी एडवायजरी जारी
मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार ने वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट को लेकर एडवायजरी जारी की है और इसके तहत टीका लगवाने वाले व्यक्ति को उसी दिन टीकाकरण प्रमाणपत्र उपलब्ध करा दिया जाता है.

सरकार की ओर से जानकारी दी गई कि प्रमाणपत्र डाउनलोड करने के लिए वेबलिंक टेक्स्ट एसएमएस के माध्यम से भेजा जाता है. भारत सरकार ने सभी टीकाकरण लाभार्थियों को उसी दिन टीकाकरण प्रमाण पत्र जारी करने को सुनिश्चित करने के लिए परामर्श जारी किया है.

टीकाकरण केंद्र छोड़ने से पहले नागरिकों को भी एसएमएस पुष्टिकरण पोस्ट वैक्सीन खुराक प्रशासन की जांच करनी चाहिए.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि CoWIN को देश भर में टीकाकरण के विभिन्न पहलुओं के प्रबंधन के लिए एकल मंच के रूप में विकसित किया गया है. पुष्टि किए गए स्लॉट में टीकाकरण नहीं कराने वाले लाभार्थियों का पता डीआईओ द्वारा अनुचित नियोजन के कारण लगाया जा सकता है.

राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों को सलाह दी गई है कि वे वैक्सीन की उपलब्धता के आधार पर टीकाकरण स्लॉट प्रकाशित करें. CoWIN ने अब टीकाकरण सत्रों के पुनर्निर्धारण की भी सुविधा प्रदान करने जा रही है