कोरोनाः सोच समझकर कोविन प्लेटफॉर्म पर करें सर्च, वरना अकाउंट हो सकता है ब्लॉक

टीकाकरण की नई गाइडलाइन के तहत कोविन प्लेटफॉर्म पर भी कुछ बदलाव किए जाएंगे. फाइल फोटो

टीकाकरण की नई गाइडलाइन के तहत कोविन प्लेटफॉर्म पर भी कुछ बदलाव किए जाएंगे. फाइल फोटो

Covid Vaccination Centre: फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका देने के मामले में राष्ट्रीय औसत से नीचे वाले राज्य बिहार, हरियाणा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, पुडुचेरी, तेलंगाना, कर्नाटक और पंजाब समेत 19 राज्य हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 15, 2021, 11:29 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने कोविन प्लेटफॉर्म पर सर्च करने की शर्तें तय की हैं. अगर कोई कोविन प्लेटफॉर्म पर 15-15 मिनट के अंतराल पर 50 बार लॉगिन करता है और 1000 बार सर्च करता है तो उसका अकाउंट 24 घन्टे के लिए ब्लॉक कर दिया जाएगा. टीकाकरण की नई गाइडलाइन के तहत कोविन प्लेटफॉर्म पर भी कुछ बदलाव किए जाएंगे. साथ ही इस बात का भी जिक्र होगा कि शहरी और ग्रामीण इलाकों में कोविड वैक्सीनशन सेंटर की भी जानकारी होगी. राज्यों को सलाह है कि हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स की सेकेंड डोज पर प्राथमिकता दें.

कुछ राज्य हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स की सेकेंड डोज को लेकर राष्ट्रीय औसत से काफी नीचे हैं. हेल्थकेयर वर्कर्स को सेकेंड डोज देने के मामले में पंजाब, महाराष्ट्र, हरियाणा, तमिलनाडु, दिल्ली और असम समेत 18 राज्य हैं, जबकि फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका देने के मामले में राष्ट्रीय औसत से नीचे वाले राज्य बिहार, हरियाणा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, पुडुचेरी, तेलंगाना, कर्नाटक और पंजाब समेत 19 राज्य हैं.

Youtube Video

बता दें कि मई के आखिर में कोविड-19 रोधी टीकाकरण के लिए 18-44 आयु वर्ग के लोगों के वास्ते ‘कोविन’ वेबसाइट पर ‘ऑन-साइट’ पंजीकरण और ‘अपॉइंटमेंट’ की प्रक्रिया अब शुरू कर दी गई है. मंत्रालय के मुताबिक यह सुविधा फिलहाल सरकारी टीकाकरण केंद्रों के लिए ही उपलब्ध है. निजी टीकाकरण केंद्रों के लिए यह सुविधा उपलब्ध नहीं होगी और उन्हें ‘ऑनलाइन अपॉइंटमेंट’ के लिए अलग से अपनी टीकाकरण समय सूची प्रकाशित करनी होगी. इस सुविधा का लाभ संबंधित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के निर्णय के आधार पर उठाया जा सकेगा.
मंत्रालय ने बताया था कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 18-44 आयु वर्ग के लोगों के ‘ऑन साइट’ पंजीकरण और ‘अपॉइंटमेंट’ की प्रक्रिया शुरू करने पर निर्णय लेने के लिए स्थानीय परिप्रेक्ष्य के आधार पर निर्णय लेना होगा, जिससे टीके की बर्बादी न्यूनतम हो सके. राष्ट्रीय कोविड-19 रोधी टीकाकरण रणनीति में तेजी लाते हुए एक मई से 18-44 आयु वर्ग के लोगों को टीका देने का निर्णय लिया गया था.

बयान के मुताबिक शुरुआत में 18-44 आयु वर्ग के लाभार्थियों के लिए केवल ऑनलाइन माध्यम से पंजीकरण कराने की सुविधा देने से टीकाकरण स्थलों पर भीड़भाड़ नहीं हुई.

- इनपुट भाषा से भी

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज