कृष्ण की तरह बांसुरी बजाने से गाय देती है कई गुना ज्यादा दूध- BJP विधायक

असम (Assam) में भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के विधायक ने दावा किया है कि गायें भगवान कृष्ण की तरह बजाई गई बांसुरी की तान सुनकर ज्यादा दूध देने लगती हैं.

News18Hindi
Updated: August 28, 2019, 7:51 AM IST
कृष्ण की तरह बांसुरी बजाने से गाय देती है कई गुना ज्यादा दूध- BJP विधायक
असम में भारतीय जनता पार्टी के विधायक ने दावा किया है कि गायें भगवान कृष्ण की तरह बजाई गई बांसुरी की तान सुनकर ज्यादा दूध देने लगती हैं.
News18Hindi
Updated: August 28, 2019, 7:51 AM IST
असम (Assam) में भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janta Party) के एक विधायक ने दावा किया है कि गायें भगवान कृष्ण की तरह बजाई गई बांसुरी की तान सुनकर ज्यादा दूध देने लगती हैं. हिंदुस्तान टाइम्स की एक खबर के अनुसार असम के सिलचर (Silchar) से विधायक दिलीप कुमार पॉल (MLA Dilip Kumar Paul) ने मंगलवार को कहा कि जब गायें भगवान कृष्ण की तरह बजाई गई बांसुरी की तान सुनती हैं तो पहले से ज्यादा दूध देने लगती हैं. रविवार को एक सांस्कृतिक कार्यक्रम में पॉल ने यह दावा किया.

दिलीप कुमार पॉल ने हिंदुस्तान टाइम्स से कहा कि मैंने संगीत और नृत्य के सकारात्मक प्रभावों के बारे में सभा को बताया. साथ ही मैंने यह भी बताया कि वैज्ञानिक रूप से कैसे साबित हुआ है कि अगर भगवान कृष्ण द्वारा बजाई गई बांसुरी की तरह गायों को बांसुरी की धुन सुनाई जाए तो उनके दूध का उत्पादन बढ़ता है.

गुजरात के एनजीओ की रिसर्च का दिया हवाला
जब उनसे रिसर्च के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने दावा किया कि गुजरात (Gujarat) के एक एनजीओ (NGO) ने कुछ साल पहले कुछ शोध किए थे, जहां बांसुरी की धुन से दूध की पैदावार में बढ़ोतरी हुई थी. विदेशी नस्लों की गाय जो शुद्ध सफेद दूध देती हैं उसके विपरीत भारतीय गाय हल्के पीले रंग का दूध देती हैं. ये दूध अधिक स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक होता है. भारतीय गायों के दूध से बने पनीर, मक्खन जैसे उत्पाद भी विदेशी नस्लों की गायों के दूध से बेहतर होते हैं.

गौ तस्करी पर जताई चिंता
विधायक ने असम (Assam), मेघालय (Meghalaya), पश्चिम बंगाल (West Bengal), त्रिपुरा (Tripura) की सीमाओं के माध्यम से भारत (India) से बांग्लादेश (Bangladesh) तक मवेशियों की तस्करी के बारे में भी चिंता जाहिर की और इसे खत्म करने की मांग की. असम विधानसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर पॉल ने कहा कि हम गाय को गौ-माता कहते हैं, लेकिन उनमें से हर साल हज़ारों गायों की बांग्लादेश में तस्करी की जा रही है. इसे रोका जाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- कौन था वो भारतीय डॉक्टर,जिसने जिन्ना के कैंसर को सीक्रेट रखा
Loading...

क्या वास्तव में 900 साल की उम्र तक जीते हैं तक्षक सांप?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 10:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...