लाइव टीवी

पश्चिम बंगाल से राज्यसभा में येचुरी को भेजना चाहती है माकपा

भाषा
Updated: January 20, 2020, 3:28 PM IST
पश्चिम बंगाल से राज्यसभा में येचुरी को भेजना चाहती है माकपा
सीताराम येचुरी का राज्यसभा सदस्य के तौर पर शानदार रिकॉर्ड रहा है. पार्टी एक बार फिर उन्हें राज्यसभा चुनाव में नामित करना चाहती है.

पुनर्निर्वाचन के लिए 2017 में भी सीताराम येचुरी (Sitaram Yechury) का नाम सामने आया था. तब तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) भी पश्चिम बंगाल (West Bengal) से उनके नामांकन को समर्थन देने के इच्छुक थे, लेकिन माकपा नेतृत्व ने इन पार्टी नियमों का हवाला देते हुए इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था

  • Share this:
कोलकाता. मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) की पश्चिम बंगाल इकाई कांग्रेस (Congress) की मदद से राज्य से माकपा महासचिव सीताराम येचुरी (Sitaram Yechury) को राज्यसभा में भेजना चाहती है. माकपा की राज्य इकाई के सूत्रों ने सोमवार को बताया कि येचुरी का 2005 और 2017 के बीच राज्यसभा सदस्य के तौर पर शानदार रिकॉर्ड रहा है और यही वजह है कि पार्टी एक बार फिर उन्हें अगले महीने होने वाले राज्यसभा चुनाव में नामित करना चाहती है.

पुनर्निर्वाचन के लिए 2017 में भी उनका नाम सामने आया था. तब तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) भी पश्चिम बंगाल (West Bengal) से उनके नामांकन को समर्थन देने के इच्छुक थे, लेकिन माकपा नेतृत्व ने इन पार्टी नियमों का हवाला देते हुए इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था कि ऊपरी सदन के लिए लगातार तीन बार किसी सदस्य को नामित नहीं किया जा सकता.

माकपा के एक वरिष्ठ नेता ने पीटीआई भाषा से कहा, 'असाधारण परिस्थिति में असाधारण कदम उठाने पड़ते हैं. देश असाधारण मुश्किल हालात से गुजर रहा है और हमें मोदी सरकार की नीतियों का विरोध करने के लिए संसद में एक मजबूत आवाज की आवश्यकता है. इस काम के लिए येचुरी से बेहतर कोई व्यक्ति नहीं हो सकता. इस समय बातचीत जारी है, देखते हैं कि क्या होता है.'

उन्होंने कहा कि किसी को लगातार दो बार राज्यसभा सदस्य बनाने की अनुमति नहीं देने का नियम अब लागू नहीं होगा, क्योंकि येचुरी 2017 में नामित नहीं किए गए थे. राज्य विधानसभा में माकपा की मौजूदा संख्या के अनुसार वह किसी को अपने दम पर राज्यसभा में नामित नहीं कर सकती. माकपा नेता ने कहा, 'हमें कांग्रेस के समर्थन की आवश्यकता है. हमें उम्मीद है कि यदि येचुरी उम्मीदवार होंगे तो हमें यह समर्थन मिल जाएगा.'

राज्य में कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पार्टी 2017 राज्यसभा चुनाव में भी येचुरी को उम्मीदवार के तौर पर समर्थन देने के लिए तैयार थी, लेकिन उस समय वामदल पीछे हट गया था. यदि येचुरी उम्मीदवार बनाए जाते हैं, तो सोनिया गांधी और राहुल गांधी के येचुरी के साथ समीकरण को देखते हुए मुझे नहीं लगता कि इस बार भी हमें कोई समस्या होगी.' गौरतलब है कि राज्यसभा की पांच सीटों के लिए चुनाव फरवरी में होने हैं.

 

ये भी पढ़ें-वाराणसी में लगे मुस्लिमों को 'घर वापसी' की सलाह वाले पोस्टर, जानें वजह

 

वाराणसी में लगे मुस्लिमों को 'घर वापसी' की सलाह वाले पोस्टर, जानें वजह

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 3:28 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर