क्रिकेट होती राजनीति तो कैसा होता बुआ-बबुआ की जोड़ी का हाल?

मायावती ने कहा कि सपा और बसपा दोनों 38-38 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेंगी, जबकि 2 सीटें छोटे सहयोगी दलों के लिए रिजर्व रखी गई हैं.

अमित पांडेय | News18Hindi
Updated: January 12, 2019, 4:25 PM IST
अमित पांडेय
अमित पांडेय | News18Hindi
Updated: January 12, 2019, 4:25 PM IST
उत्तर प्रदेश में 'बुआ' और 'बबुआ' का गठबंधन कैसे फेल होगा? इस मुद्दे पर पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी और यूपी सरकार में मंत्री चेतन चौहान ने न्यूज18 इंडिया से खास बात की. उन्होंने कहा कि वे पहली बॉल पर ही आउट हो जाएंगे. चौहान कहते हैं, 'आपको बताता हूं कि हमारी टीम में क्या-क्या चीजें हैं. मोदी अमित शाह की जोड़ी ऐसी है, जिसका मुकाबला कोई भी बॉलर नहीं कर सकता. बुआ-बबुआ जितनी भी बॉल करेंगे उस पर तो छक्का ही पड़ेगा. पिच पर टिके रहने के लिए इन दोनों नेताओं के पास विकास नाम का जो मंत्र है... वो विपक्ष के हौसले पस्त कर देगा.'

सपा-बसपा के बीच 38-38 सीटों पर बनी बात, बिना गठबंधन कांग्रेस को दी अमेठी-रायबरेली

बता दें कि आगामी लोकसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने गठबंधन का ऐलान कर दिया है. शनिवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती ने लखनऊ में संयुक्त प्रेस वार्ता को संबोधित किया. मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में ही कहा, 'बसपा और सपा की यह संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह यानी गुरु-चेले की जोड़ी की नींद उड़ाने वाली है."

मायावती ने कहा कि सपा और बसपा दोनों 38-38 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. 2 सीटें छोटे सहयोगी दलों के लिए रिजर्व रखी गई हैं. मायावती ने यह साफ किया कि सपा-बसपा कांग्रेस से हाथ नहीं मिलाएंगी. हालांकि दोनों पार्टियों ने अमेठी और रायबरेली सीटों को कांग्रेस के लिए छोड़ दिया है. बता दें कि अमेठी से राहुल गांधी और रायबरेली से सोनिया गांधी सांसद हैं.

सपा-बसपा गठबंधन: याद आया ‘मिले मुलायम कांशीराम, हवा में उड़ गए जयश्री राम’

वहीं अखिलेश यादव ने अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं को साफ शब्दों में निर्देश दिया है कि मायावती का अपमान उनका अपमान होगा.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर