Assembly Banner 2021

असम चुनाव के दूसरे चरण में 11% उम्‍मीदवारों पर आपराधिक मामले, 73 कैंडिडेट करोड़पति

असम विधानसभा चुनाव 2021 के दूसरे चरण में 345 उम्‍मीदवारों में से 11 प्रतिशत ने चुनावी हलफनामे में स्‍वीकारा है कि उन पर आपराधिक मामले दर्ज हैं.

असम विधानसभा चुनाव 2021 के दूसरे चरण में 345 उम्‍मीदवारों में से 11 प्रतिशत ने चुनावी हलफनामे में स्‍वीकारा है कि उन पर आपराधिक मामले दर्ज हैं.

Assam Assembly Elections 2021: असम में तीन चरणों में -27 मार्च, एक अप्रैल और छह अप्रैल - को मतदान होना है, जबकि वोटों की गिनती दो मई को होगी. पहले चरण में 47, दूसरे चरण में 39 और तीसरे चरण में 40 सीटों पर वोट डाले जाएंगे.

  • Share this:

नई दिल्ली. असम विधानसभा चुनाव (Assam Assembly Elections 2021) के दूसरे चरण में किस्मत आजमा रहे 345 उम्मीदवारों में से 11 प्रतिशत ने चुनावी हलफनामे में अपने खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज होने की जानकारी दी है. ‘एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ की एक रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई.


‘असम इलेक्शन वॉच’ संस्था और एडीआर ने एक अप्रैल को होने वाले चुनाव में खड़े सभी 345 उम्मीदवारों के हलफनामे का विश्लेषण किया है. रिपोर्ट में कहा गया, “जिन 345 प्रत्याशियों का विश्लेषण किया गया उनमें से 37 (11 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपने विरुद्ध आपराधिक मामले दर्ज होने की घोषणा की है और 30 (नौ प्रतिशत) ने अपने विरुद्ध गंभीर आपराधिक मामले दर्ज होने की जानकारी दी है.”


ये भी पढ़ें :- NRC में सुधार, बाढ़ से मुक्ति- असम चुनाव के लिए घोषणापत्र में बीजेपी ने लिए 10 बड़े 'संकल्प'



Youtube Video

एडीआर ने चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों की वित्तीय स्थिति के बारे में भी बताया है जिसके अनुसार 345 में से 73 (21 प्रतिशत) उम्मीदवार करोड़पति हैं. प्रमुख पार्टियों के जिन उम्मीदवारों का विश्लेषण किया गया उनमें भाजपा (BJP) के 34 प्रत्याशियों में से 11 (32 प्रतिशत), कांग्रेस (Congress) के 28 में से पांच (18 प्रतिशत), एआईयूडीएफ (AIUDF) के सात में पांच (71 प्रतिशत), असम गण परिषद (AGP) के छह में से दो (33 प्रतिशत), असम जातीय परिषद के 19 में से तीन (16 प्रतिशत) और एआईएफबी, एसयूसीआई (सी) तथा यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल के एक-एक उम्मीदवार ने अपने विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज होने की बात स्वीकार की है.


ये भी पढ़ें :- Assam Elections: असम चुनाव की धुरी बने हुए हैं बदरुद्दीन अजमल, कांग्रेस या बीजेपी किसे होगा इसका फायदा?




रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा के 34 में 10 (29 प्रतिशत), असम जातीय परिषद के 19 में से तीन (16 प्रतिशत), एआईयूडीएफ के सात में से तीन (43 प्रतिशत), असम गण परिषद के छह में से दो (33 प्रतिशत), कांग्रेस के 28 में से दो (सात प्रतिशत) और एआईएफबी, एसयूसीआई (सी) तथा यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल के एक-एक उम्मीदवार ने अपने विरुद्ध गंभीर आपराधिक मामला दर्ज होने की बात स्वीकार की है.




रिपोर्ट के अनुसार, लगभग 209 (61 प्रतिशत) प्रत्याशियों ने अपनी शैक्षणिक योग्यता पांचवीं कक्षा से 12वीं के बीच बताई है और 131 (38 प्रतिशत) ने खुद को स्नातक बताया है. दो उम्मीदवार डिप्लोमा धारक हैं और तीन केवल साक्षर हैं.


गौरतलब है कि असम में तीन चरणों में -27 मार्च, एक अप्रैल और छह अप्रैल - को मतदान होना है, जबकि वोटों की गिनती दो मई को होगी. पहले चरण में 47, दूसरे चरण में 39 और तीसरे चरण में 40 सीटों पर वोट डाले जाएंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज