लाइव टीवी

गांधी परिवार की सुरक्षा में लगे CRPF जवानों को मिलेंगे SPG वाले ही खास गैजेट्स और गाड़ियां- रिपोर्ट

News18Hindi
Updated: November 25, 2019, 9:03 AM IST
गांधी परिवार की सुरक्षा में लगे CRPF जवानों को मिलेंगे SPG वाले ही खास गैजेट्स और गाड़ियां- रिपोर्ट
गांधी परिवार को जेड प्लस सुरक्षा सीआरपीएफ की तरफ से दी जा रही

गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने कैबिनेट सचिवालय को एसपीजी कवर (SPG Cover) की गाड़ियों और गैजेट को सीआरपीएफ को ट्रांसफर करने के लिए चिट्ठी लिखी है. पेपर वर्क पूरा होने तक सीआरपीएफ गांधी परिवार (Gandhi Family) को सुरक्षा देने के लिए एसपीजी के नाम अलॉट हुई गाड़ियों और गैजेट का इस्तेमाल कर सकेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2019, 9:03 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गृह मंत्रालय ने कांग्रेस परिवार (Gandhi Family) से भले ही स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) की सुरक्षा वापस ले ली है, लेकिन अभी भी सोनिया गांधी , राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की सुरक्षा में तैनात सीआरपीएफ (CRPF) जवानों को एसपीजी के हथियारों और गाड़ियों से ही होगी. सूत्रों ने एक सुरक्षा अधिकारी के हवाले से ये जानकारी दी.

टाइम्स ऑफ इंडिया ने सूत्रों के हवाले से यह बताया कि एसपीजी सुरक्षा कवर के तहत गांधी परिवार को रेंज रोवर एसयूवी, डिवाइसेस और अन्य गैजेट्स के जरिए सुरक्षा मुहैया कराई जाती थी. हालांकि एसपीजी हटने के बाद सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की सुरक्षा में तैनात सीआरपीएफ जवानों के पास एसपीजी वाले ही सारे डिवाइसेज़ और गाड़ियां मिलेंगी.

पहले ऐसी अफवाहें थीं कि गृह मंत्रालय ने गांधी परिवार से एसपीजी सुरक्षा वापस लेने के साथ ही रेंज रोवर एसयूवी और गैजेट भी वापस ले लिए हैं, लेकिन सूत्रों के मुताबिक सुरक्षा अधिकारियों ने ऐसी खबरों को खारिज किया है.


सूत्रों की मानें तो गृह मंत्रालय ने कैबिनेट सचिवालय को एसपीजी कवर की गाड़ियों और गैजेट को सीआरपीएफ को ट्रांसफर करने के लिए चिट्ठी लिखी है. इसकी कागजी कार्रवाई पूरी होने में एक-दो महीने का वक्त लग सकता है. पेपर वर्क पूरा होने तक अंतरिम तौर पर भी सीआरपीएफ गांधी परिवार को सुरक्षा देने के लिए एसपीजी के नाम अलॉट हुई गाड़ियों और गैजेट का इस्तेमाल कर सकेगी.

rahul sonia
राहुल गांधी और सोनिया गांधी


जब ये पूछा गया कि अगर रेंज रोवर एसयूवी वापस नहीं ली गई है, तो सोनिया गांधी बीते दिनों टाटा सफारी से संसद भवन क्यों पहुंचीं? इस पर सीआरपीएफ अधिकारी ने बताया, 'हम जो टाटा सफारी कार इस्तेमाल करते हैं, वो भी बुलेट प्रूफ होती हैं. वैसे भी संसद भवन के रास्ते में सुरक्षा कड़ी होती है, ऐसे में किसी भी तरह के खतरे की आशंका भी कम होती है.'


इन वीआईपी की सुरक्षा सीआरपीएफ के हाथ
Loading...

बता दें कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के पास इस समय सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा की सुरक्षा के साथ-साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी की भी सुरक्षा है. इन सभी वीआईपी सुरक्षा के लिए सीआरपीएफ अभी एसपीजी की बुलेट प्रूफ गाड़ियों का इस्तेमाल गृह मंत्रालय के परमिशन पर कर रही है.

विदेश नहीं जाएगी सीआरपीएफ
गांधी परिवार को जेड प्लस सुरक्षा सीआरपीएफ की तरफ से दी जा रही है. हालांकि सीआरपीएफ राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा और सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह के साथ विदेश नहीं जाएगी. सीआरपीएफ सिर्फ एयरपोर्ट तक वीआईपी को सुरक्षा देगी.

pm modi security
गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने के फैसले के बाद अब सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास ही एसपीजी सुरक्षा रहेगी.


हर साल होती है एसपीजी सुरक्षा की समीक्षा
एसपीजी सुरक्षा की समीक्षा हर साल की जाती है. इसके तहत संबंधित व्यक्ति को संभावित खतरे को देखते हुए यह तय किया जाता है कि उन्हें एसपीजी सुरक्षा की जरूरत है या नहीं. सूत्रों के अनुसार उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला लिया गया कि फिलहाल गांधी परिवार को कोई खतरा नहीं है और ऐसे में जेड प्लस की सुरक्षा पर्याप्त होगी. इससे पहले पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सुरक्षा से भी एसपीजी कवर हटाकर सीआरपीएफ की जेडप्लस श्रेणी की सुरक्षा दी गई थी.

एसपीजी सुरक्षा अब सिर्फ प्रधानमंत्री के पास
गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाने के फैसले के बाद अब सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास ही एसपीजी सुरक्षा रहेगी. वर्तमान में भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गांधी परिवार को ही एसपीजी की सुरक्षा प्राप्त थी.

ये भी पढ़ें:- ANALYSIS: अध्यक्ष बनना सोनिया गांधी की जिद या कांग्रेस की मज़बूरी!

गांधी परिवार की SPG सुरक्षा पर संसद में बवाल, BJP सांसद ने कहा- मौत से डर कैसा? दिग्विजय बोले- PM भी हटा लें सुरक्षा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 8:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...