कोरोना काल में ग्रामीणों का मददगार बना CAC सेंटर, ऐसे पहुंचा रहा है लोगों तक मदद

ग्रामीण भारत में भी कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

ग्रामीण भारत में भी कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'ग्रामीण इलाके के एक लाख 58 हजार सीएससी सेंटर ने जरूरी चीजें ग्रामीणों को मुहैया कराई.'

  • Share this:

नई दिल्ली. देशभर में कोरोना महामारी (Corona Pandemic) और बढ़ते ई-कॉमर्स में ग्रामीण अर्थव्यवस्था और ग्रामीणों के लिए सरकार का कॉमन सर्विस सेंटर अर्थात् सीएससी काफी मददगार साबित हो रहा है. सीएससी के माध्यम से विभिन्न सुविधाएं लोगों को उपलब्ध तो कराई जा रही ही हैं, साथ ही साथ सीएससी के ग्रामीण ई स्टोर के माध्यम से लोगों तक जरूरी सामान भी पहुंचाया जा रहा है.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सीएससी के ग्रामीण ई स्टोर और ई कॉमर्स के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इससे गांव में रहने वाले लोगों को काफी फायदा हो रहा है. रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'ग्रामीण इलाके के एक लाख 58 हजार सीएससी सेंटर ने जरूरी चीजें ग्रामीणों को मुहैया कराई.' उनका कहना है कि इस सर्विस के माध्यम से 24 लाख 94 ऑर्डर ग्रामीणों तक पहुंचाई जा चुकी हैं. इन ऑर्डर की कुल कीमत 243.89 करोड़ रुपये है.

सीएससी सेंटर में किस तरह की सुविधा मिलती है?

दरअसल, सीएससी सेंटर डिजिटल इंडिया का एक महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है. इसकी शुरुआत पीएम नरेंद्र मोदी ने की थी. दरसअल सीएससी पब्लिक यूटिलिटी सेंटर है जहां पर सामाजिक कल्याण योजनाओं, हेल्थ केयर, फाइनेंस ,शिक्षा ,कृषि संबंधित सेवाओं के साथ-साथ ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए ई-कॉमर्स जिसमें B2C अर्थात बिजनेस टू कंज्यूमर को जोड़ने का भी प्रावधान है. इसका मकसद ग्रामीण इलाकों में रोजगार सृजन करने के साथ-साथ ग्रामीणों को विभिन्न सुविधाएं मुहैया कराना भी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज