Home /News /nation /

Ministry of Culture News: 100 करोड़ वैक्‍सीनेशन होने पर देश के 100 स्‍मारक तिरंगा रोशनी से नहाए  

Ministry of Culture News: 100 करोड़ वैक्‍सीनेशन होने पर देश के 100 स्‍मारक तिरंगा रोशनी से नहाए  

यह रोशनी कोरोना योद्धाओं के सम्‍मान में की गई है

यह रोशनी कोरोना योद्धाओं के सम्‍मान में की गई है

Archaeological Survey of India- देश में 100 करोड़ कोरोना वैक्‍सीन लगने पर संस्कृति मंत्रालय ने 100 स्‍मारकों और धरोहरों को tri colour की रोशनी से रोशन किया है. यह रोशनी कोरोना योद्धाओं के सम्‍मान में की गई है.

    नई दिल्‍ली. देश में 100 करोड़ वैक्‍सीनेशन होने पर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India) ने 100 स्‍मारकों को रोशन किया है. इन सभी पर तिरंगा रोशनी (Tri- colour)  की गई है. संस्कृति मंत्रालय (Ministry of Culture) द्वारा यह रोशनी कोरोना योद्धा के सम्‍मान में की गई है. इन योद्धाओं में प्रमुख रूप से वैक्‍सीन लगाने वाला स्‍टाफ, सफाई कर्मचारी, पैरामेडिकल, सहायक कर्मचारी और पुलिसकर्मी प्रमुख रूप से शामिल हैं. तिरंगे से जगमगाए 100 स्मारकों में यूनेस्को विश्‍व धरोहर स्थल भी शामिल हैं.

    देश ने दुनिया के सबसे बड़े और सबसे तेज़ टीकाकरण अभियान में से एक में 100 करोड़ COVID वैक्‍सीनेशन का लक्ष्‍य हासिल किया है. रोशनी उन कोरोना योद्धाओं के सम्मान और कृतज्ञता के प्रतीक के रूप में की जा रही है, जिन्होंने कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में योगदान दिया है.

    तिरंगे में रोशन किए जा रहे 100 स्मारकों में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में दिल्ली में लाल किला, हुमायूं का मकबरा और कुतुबमीनार, उत्तर प्रदेश में आगरा का किला और फतेहपुर सीकरी, ओडिशा में कोणार्क मंदिर, तमिलनाडु में ममल्लापुरम रथ मंदिर, सेंट फ्रांसिस शामिल हैं. इसके अलावा गोवा में असीसी चर्च, खजुराहो, राजस्थान में चित्तौड़ और कुंभलगढ़ के किले, बिहार में प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय और गुजरात में धोलावीरा (हाल ही में विश्व विरासत का दर्जा दिया गया) के खुदाई के खंडहर को तिरंगा रोशनी से रोशन किया गया है.

    Tags: Cultural heritage, Culture, Heritage, Historical monument

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर