वर्तमान विधायक, पूर्व विधायक, करगिल के पूर्व योद्धा का नाम NRC लिस्ट से गायब

भाषा
Updated: September 1, 2019, 8:11 AM IST
वर्तमान विधायक, पूर्व विधायक, करगिल के पूर्व योद्धा का नाम NRC लिस्ट से गायब
Kamrup: People to check their names on the final list of the National Register of Citizens (NRC), in Kamrup, Saturday, Aug 31, 2019. (PTI Photo) (PTI8_31_2019_000105B)

एनआरसी (NRC) की अपडेटेड अंतिम सूची से 19 लाख से अधिक आवेदकों को बाहर रखा गया है, जिनका भविष्य अब अधर में लटक गया है

  • Share this:
असम (Assam)में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी- NRC) की अंतिम सूची में जगह नहीं पाने वालों में करगिल युद्ध में भाग लेने वाले के एक पूर्व सैन्यकर्मी, एआईयूडीएफ के एक वर्तमान विधायक और पूर्व विधायक के नाम भी शामिल हैं.

यही हाल कांग्रेस (Congress)विधायक इलियास अली की बेटी का भी है. अली और उनके परिवार के अन्य सदस्यों के नाम हालांकि, इस अद्यतन एनआरसी सूची में शामिल हैं.

करगिल(Kargil) युद्ध में भाग लेने वाले और सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी मोहम्मद सनाउल्लाह को इस सूची में जगह नहीं मिली है, जिन्हें विदेशी अधिकरण द्वारा ‘विदेशी’ घोषित किए जाने के बाद इस वर्ष मई में कुछ दिनों तक हिरासत में रखा गया था.

सनाउल्लाह की दो बेटियों और एक बेटे को कथित तौर पर शामिल नहीं किया गया है, जबकि उनकी पत्नी का नाम सूची में शामिल है. एनआरसी की यह सूची असम में भारतीय नागरिकों को वैधता प्रदान करता है.

एआईयूडीएफ  (AIUDF) के विधायक अनंत कुमार मालो, जो बोंगईगांव जिले के अभयपुरी दक्षिण विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं, ने कहा कि वह अंतिम एनआरसी सूची में अपना नाम नहीं खोज पाए.

'मेरे बेटे का नाम भी एनआरसी की अंतिम सूची में नहीं '

विधायक ने कहा, 'मेरे बेटे का नाम भी एनआरसी की अंतिम सूची में नहीं है.' एआईयूडीएफ के ही पूर्व विधायक अताउर रहमान मजरभुइयां का नाम भी इस सूची में शामिल नहीं है.
Loading...

मजरभुइयां ने कहा, 'संविधान यह निर्धारित करता है कि कौन भारत का नागरिक है और मेरे पास इसे साबित करने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज हैं. मैं कटिगोरा से दो बार विधायक रह चुका हूं. यह उत्पीड़न है और यह एनआरसी त्रुटिपूर्ण है.' पूर्व विधायक ने कहा कि वह कानूनी विकल्प का मदद लेंगे और विदेशी अधिकरण में जाकर अपना नाम एनआरसी में शामिल करवाएंगे.

एनआरसी की अपडेटेड अंतिम सूची से 19 लाख से अधिक आवेदकों को बाहर रखा गया है, जिनका भविष्य अब अधर में लटक गया है.

यहां एनआरसी के राज्य समन्वयक कार्यालय के एक बयान में कहा गया कि एनआरसी में शामिल होने के लिए कुल 3,30,27,661 लोगों ने आवेदन किया था. उनमें से 3,11,21,004 लोगों को सूची में शामिल किया गया है, जबकि 19,06,657 लोगों का नाम सूची में शामिल नहीं किया गया है.

यह भी पढ़ें : NRC: बांग्लादेश से अपने लोगों को वापस लेने के लिए होगी चर्चा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 1, 2019, 8:07 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...