डराने वाले हैं हिरासत में मौत के आंकड़े, यहां औसतन हर रोज आती हैं 4-5 शिकायतें

Demo Pic.
Demo Pic.

राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग (National human rights commission) में आए हिरासत में मौत के आंकड़े देखें तो वो खासे डराने वाले हैं. आयोग के मुताबिक उनके यहां औसतन हर रोज़ 4 से 5 शिकायत पुलिस और जुडिशियल हिरासत (Police-Judicial custodi) में मौत की आती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 6:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जून में तमिलनाडु पुलिस (Tamilnadu Police) ने इसलिए बाप-बेटे को हिरासत में ले लिया था कि वो लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान दुकान खोलकर बैठे हुए थे. लेकिन अगले दिन दोनों बाप-बेटे की पुलिस हिरासत में मौत हो जाती है. इसे लेकर देशभर में खासी चर्चाएं भी हुईं. लेकिन हिरासत में मौत का जून से लेकर अब तक का यह अकेला और अनोखा केस नहीं था जिसे लेकर चर्चाएं हो रही हैं. हिरासत में मौत के राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग (National human rights commission) के आंकड़ों को देखें तो वो खासे डराने वाले हैं.

आयोग के मुताबिक उनके यहां औसतन हर रोज़ 4 से 5 शिकायत पुलिस (Police) और जुडिशियल हिरासत (Police-Judicial custodi) में मौत की आती हैं. हर महीने शिकायतों को निपटाते हुए आयोग राज्य सरकारों से पीड़ित परिवार को आर्थिक मुआवजा देने की सिफारिश भी करता है. गौरतलब है कि गुजरात (Gujarat) के आईपीएस (IPS) संजीव भट्ट ऐसे ही एक आरोप के बाद सजा काट रहे हैं.

ये भी पढ़ें :-
इस संस्था की मदद से 27 ईसाई-मुस्लिम लड़के-लड़कियां भी बने IAS-IPS अफसर, बीते साल बने थे 18 अफसर
UP: दोस्त का मर्डर करने के लिए 3 महीने में 25 बार खिलाई दावत, 26वीं बार बुलाया तो...



हिरासत में मौत होने पर थाने को सस्पेंड कर की जाए जांच-पूर्व डीजीपी
हिरासत में होने वाली मौतों पर यूपी के पूर्व डीजीपी विक्रम सिंह का कहना है कि मौत थाने-तहसील के लॉकअप और जेल में होती हैं. थाने में मौत होने पर उस वक्त डयूटी पर तैनात सभी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर जांच कराई जानी चाहिए. जांच जल्दी कर दोषी को सजा मिलनी चाहिए. जबकि हमारे यहां होता इसके उलट है. 10 फीसद केस ही साबित हो पाते हैं.

custodial death, complaint, National human rights commission, NHRC, jail, police, supreme court, हिरासत में मौत, शिकायत, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, एनएचआरसी, जेल, पुलिस, सर्वोच्च न्यायालय
हिरासत में हुई मौत के आंकड़े.


मानव अधिकारों में बदलाव हुए, लेकिन आईपीसी में नहीं
कस्टोडियल डेथ को लेकर सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट मोहम्मद इरशाद अहमद का कहना है कि राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग हर महीने शिकायतों को निपटाते हुए आयोग राज्य सरकारों से पीड़ित परिवार को आर्थिक मुआवजा देने की सिफारिश करता है. आयोग यह सब जांच होने के बाद करता है. आयोग की यह कार्रवाई बताती है कि कहीं कुछ तो गड़बड़ है. वहीं दूसरी ओर आयोग तो अपना काम सही से कर रहा है लेकिन कुछ कमी आईपीसी में है. मानव अधिकारों में वर्ल्ड लेवल पर बदलाव होते हैं. इन्हें मानना हमारी मजबूरी भी होती है. लेकिन कस्टोडियल डेथ को लेकर आईपीसी में कोई बदलाव नहीं किया गया है, जो बेहद जरूरी भी है.

कस्टोडियल डेथ पर यह बोला मानव अधिकार आयोग
राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग के सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी जैमिनी कुमार श्रीवास्तव का इस बारे में कहना है कि कस्टोडियल डेथ के मामले में सूचना मिलने के बाद हम जांच करते हैं. अगर वाकई उसमें पुलिस या जेल प्रशासन की लापरवाही पाई जाती है तो हम आर्थिक मुआवजे के साथ कार्रवाई किए जाने की सिफारिश भी करते हैं. लेकिन कानूनी कार्रवाई कराए जाने का अधिकार अदालत को है. ऐसे किसी भी मामले में ज़िले के एसएसपी को आयोग को सूचना देनी होती है. अगर ऐसा नहीं होता है और आयोग को जब इस बारे में शिकायत मिलती है या मीडिया से पता चलता है तो इस पर भी राज्य की पुलिस से जवाब-तलब होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज