लाइव टीवी

CBSE रिजल्‍ट के बाद डीयू दाखिले में आ सकती है मुश्किल!

प्रिया गौतम | News18India
Updated: May 29, 2017, 2:30 PM IST
CBSE रिजल्‍ट के बाद डीयू दाखिले में आ सकती है मुश्किल!
इन कोर्सेस को करके आप टीवी चैनल, टीवी प्रोडक्शन हाउस, एडवरटाइजिंग एजेन्सी या फोटो स्टूडियो ज्वॉइन कर सकते हैं. साथ ही साथ यूनिवर्सिटी से बी.ए(मास कॉम) या बी.कॉम या बी.बी.ए. कर सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए www.bvbfts.com देखें.

इस साल 95 फीसदी से अधिक अंक पाने वाले छात्रों की संख्‍या बढ़ने के कारण कट ऑफ भी ऊपर जाने की संभावना है.

  • Share this:
सीबीएसई बारहवीं में अच्‍छे मार्क्‍स आने पर जहां छात्रों में खुशी की लहर है वहीं डीयू में एडमिशन लेने की सोच रहे छात्रों की राह थोड़ी मुश्किल हो सकती है. इस साल 95 फीसदी से अधिक अंक पाने वाले छात्रों की संख्‍या बढ़ने के कारण कट ऑफ भी हाई जाने की संभावना है.

सीबीएसई के आंकड़ों पर गौर करें तो पिछले साल के मुकाबले इस साल करीब सात फीसदी ज्‍यादा छात्रों ने 95 फीसदी से अधिक अंक हासिल किए हैं. ऐसे में डीयू के विभिन्‍न कॉलेजों में आर्ट्स, साइंस या कॉमर्स स्‍ट्रीम की कट ऑफ में हाई अंक वालों को ही मौका मिलेगा.

साल 2016 में 9351 छात्रों ने सीबीएसई बारहवीं में 95 फीसदी से ऊपर अंक हासिल किए थे. लेकिन इस साल यह संख्या बढ़कर 10091 हो गई है. इन छात्रों में 99 और 100 अंक पाने वाले छात्र भी शामिल हैं. लिहाजा डीयू की एक-एक सीट पर दावेदारी के लिए संघर्ष रहेगा.

ध्‍यान देने वाली बात है कि सीबीएसई की ओर से मॉडरेशन पॉलिसी हटाने के फैसले के बाद विशेषज्ञों ने डीयू की कट ऑफ में गिरावट की संभावना जताई थी. वैसे भी डीयू में सबसे ज्‍यादा सीबीएसई बोर्ड के छात्र जाते हैं,

ऐसे में बिना मॉडरेशन का लाभ मिले सीबीएसई का रिजल्‍ट प्रतिशत भी नीचे जाने की संभावना थी. लेकिन हाई कोर्ट के आदेश के बाद मॉडरेशन पॉलिसी बहाल करने के बाद फिर से छात्रों ने सीबीएसई में अच्‍छा स्‍कोर किया है.

डीयू में दाखिला ओएसडी आशुतोष भारद्वाज का कहना है कि कट ऑफ डीयू के कॉलेजों में अलग-अलग निकाली जाती है. इस बार भी कट ऑफ कॉलेज में छात्रों द्वारा किए गए आवेदन और कोर्सेज पर निर्भर करेगी.

चार बेस्‍ट विषयों को कट ऑफ के लिए लिया जाता है. सीबीएसई रिजल्‍ट में छात्रों के ऊंचे मार्क्‍स आए हैं तो कट ऑफ ऊंची रहने की उम्‍मीद है. हालांकि कितने फीसदी तक हाई जाएगी अभी यह कहना जल्‍दबाजी होगा.हालांकि डीयू के लेडी श्रीराम कॉलेज की मीडिया कॉर्डिनेटर डॉ. कनिका आहूजा का कहना है कि सीबीएसई ने मॉडरेशन पॉलिसी तो जारी रखी है लेकिन इस साल बच्‍चों को इसका कम ही लाभ मिल पाया है. ऐसे में इस साल भी पिछले साल जितनी ही कट ऑफ जाने की उम्‍मीद है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 29, 2017, 12:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर