सोनिया गांधी का सरकार पर हमला, LAC संकट के पीछे केंद्र की नीतियों को ठहराया जिम्मेदार

सोनिया गांधी का सरकार पर हमला, LAC संकट के पीछे केंद्र की नीतियों को ठहराया जिम्मेदार
सीडब्ल्यूसी बैठक में सोनिया ने कहा-एलएसी पर गतिरोध का मुख्य कारण सरकार का कुप्रबंधन

CWC meeting: सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने यह दावा भी किया कि कोरोना वायरस संकट (Coronavirus) और इसके बाद की स्थिति से निपटने में सरकार पूरी तरह विफल रही है और इन सबके बीच पेट्रोल-डीजल (Petrol and Diesel) की कीमतों में वृद्धि कर लोगों की पीड़ा बढ़ा रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस की शीर्ष नीति निर्धारण इकाई सीडब्ल्यूसी (CWC) ने मंगलवार को बैठक कर लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा/एलएसी (LAC) पर चल रहे गतिरोध समेत कई मुद्दों पर चर्चा की. इसमें पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने आरोप लगाया कि चीन (China) के साथ सीमा पर संकट तथा कोरोना महामारी (Coronavirus) एवं अर्थव्यवस्था से जुड़े संकट का मुख्य कारण नरेंद्र मोदी सरकार का कुप्रबंधन एवं उसके द्वारा अपनाई गई नीतियां हैं.

सोनिया गांधी ने यह दावा भी किया कि कोरोना वायरस संकट और इसके बाद की स्थिति से निपटने में सरकार पूरी तरह विफल रही है और इन सबके बीच पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि कर लोगों की पीड़ा बढ़ा रही है. कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एलएसी पर गतिरोध को लेकर सोनिया का समर्थन करते हुए कहा कि सीमा पर जो संकट है, उससे अगर मजबूती से नहीं निपटा गया तो गम्भीर हालात पैदा हो सकते हैं. सीडब्ल्यूसी की बैठक गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए 20 जवानों को श्रद्धांजलि देने के साथ आरंभ हुई.

बैठक में मौजूद रहे ये नेता
सोनिया की अध्यक्षता में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से हुई इस बैठक में मनमोहन सिंह, पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, एके एंटनी, अशोक गहलोत, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, अधीर रंजन चौधरी, केसी वेणुगोपाल और कई अन्य नेता शामिल हुए. कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के अनुसार बैठक के दौरान एंटनी ने भारत-चीन सीमा पर गतिरोध, आजाद ने कोरोना महामारी और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने अर्थवयस्था की स्थिति के बारे में सीडब्ल्यूसी को जानकारी दी.
बैठक के आरंभ में सोनिया ने कहा, 'भारत एक भयावह आर्थिक संकट, एक भयंकर महामारी और अब चीन के साथ सीमाओं पर एक बड़े संकट का सामना कर रहा है. भाजपा की अगुवाई वाली राजग सरकार का कुप्रबंधन और गलत नीतियां इन संकटों का एक प्रमुख कारण हैं.' कांग्रेस की शीर्ष नेता ने कहा, 'इस तथ्य से इंकार नहीं किया जा सकता है कि अप्रैल-मई, 2020 से लेकर अब तक, चीनी सेना ने पेगोंग सो (झील) क्षेत्र और गलवान घाटी, लद्दाख में हमारी सीमा में घुसपैठ की है.'



ये भी पढ़ें: लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे, घायल जवानों से अस्पताल में की मुलाकात

सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री पर साधा निशाना
सोनिया ने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान ने पूरे देश को झकझोर दिया जब उन्होंने कहा, 'किसी ने भी लद्दाख में भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ नहीं की.' उन्होंने कहा, 'राष्ट्रीय सुरक्षा और भूभागीय अखंडता के मामलों पर पूरा राष्ट्र हमेशा एक साथ खड़ा है. कांग्रेस ने सबसे पहले आगे बढ़कर हमारी सेना और सरकार को अपना पूरा समर्थन देने के घोषणा की. हालांकि, लोगों में यह भावना है कि सरकार स्थिति को संभालने में गंभीर रूप से विफल हुई है.'

सोनिया ने कहा, 'हम उम्मीद करते हैं कि हमारी क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए सरकार के द्वारा उठाये जाने वाला हर क़दम परिपक्व कूटनीति व मजबूत नेतृत्व की भावना से निर्देशित होगा.' उन्होंने कहा, 'शांति और वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पहले जैसी यथास्थिति की बहाली हमारे राष्ट्रीय हित में एकमात्र मार्गदर्शक सिद्धांत होना चाहिए. हम स्थिति पर लगातार नजर बनाये रखेंगे.

अब आर्थिक संकट और भी गहरा गया है: सोनिया गांधी
कोरोना महामारी और लॉकडाउन के बाद पैदा हुए आर्थिक हालात का उल्लेख करते हुए सोनिया ने कहा, 'अब आर्थिक संकट और भी गहरा गया है. मोदी सरकार हर सही सलाह सुनने से इनकार करती है. वक़्त की मांग है कि बड़े पैमाने पर सरकारी खजाने से मदद, ग़रीबों के हाथों में सीधे पैसा पहुंचाना, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यमों की रक्षा करना और मांग को बढ़ाना व प्रोत्साहित करना चाहिए.' उन्होंने आरोप लगाया कि लोगों की सीधी मदद करने के बजाय सरकार ने एक खोखले वित्तीय पैकेज की घोषणा की, जिसमें सकल घरेलू उत्पाद का एक प्रतिशत से कम ही राजकोषीय प्रोत्साहन था.

सोनिया ने कहा, 'वैश्विक बाजार में जब कच्चे तेल की कीमतें लगातार गिर रही हों, ऐसे समय में सरकार ने लगातार 17 दिनों तक निर्दयतापूर्वक पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि करके देश के लोगों को पहले से लगी चोट और उसके दर्द को बढ़ाया है.' कांग्रेस की शीर्ष नेता ने कहा, 'भारत में महामारी फरवरी में आयी. कांग्रेस ने सरकार को अपना पूरा सहयोग देते हुए लॉकडाउन के पहले चरण का समर्थन किया. शुरूआती हफ्तों के भीतर, यह स्पष्ट हो गया था कि सरकार लॉकडाउन से होने वाली समस्याओं का प्रबंधन करने के लिए बिलकुल तैयार नहीं थी.'

उन्होंने कहा कि सरकार की तैयारी नहीं होने का परिणाम वर्ष 1947-48 के बाद सबसे बड़ी मानवीय त्रासदी के रूप में सामने आया. करोड़ों प्रवासी मजदूर, दैनिक वेतन भोगी और स्व-नियोजित कर्मचारियों की रोजी रोटी तबाह हो गयी. 13 करोड़ नौकरियों के ख़त्म हो जाने का अनुमान लगाया गया है. करोड़ों सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम शायद हमेशा के लिए बंद हो गए हैं. सोनिया ने कहा कि वक्त की जरूरत है कि बड़ा प्रोत्साहन पैकेज दिया जाए, गरीबों के हाथ मे सीधे पैसे दिए जाएं और एमएसएमई की रक्षा की जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज