बढ़ रहा साइबर क्राइम का खतरा, हर मिनट बिजनेस फर्म्स फेस कर रही 504 हैकिंग थ्रेट

हैकर्स नए कोड इनोवेशन और तरीकों का पता करके दुनिया भर से डेटा चोरी कर रहे हैं.

News18Hindi
Updated: August 29, 2019, 5:14 PM IST
बढ़ रहा साइबर क्राइम का खतरा, हर मिनट बिजनेस फर्म्स फेस कर रही 504 हैकिंग थ्रेट
हैकर्स नए कोड इनोवेशन और तरीकों का पता करके दुनिया भर से डेटा चोरी कर रहे हैं.
News18Hindi
Updated: August 29, 2019, 5:14 PM IST
बुधवार को जारी हुई एक रिपोर्ट के अनुसार बिजनेस फर्म्स को हर वक्त 504 नए साइबर सिक्युरिटी थ्रेट्स का खतरा है, वहीं रैनसमवेयर 118 फीसदी तक बढ़ गए हैं. हैकर्स नए कोड इनोवेशन और तरीकों का पता करके दुनिया भर से डेटा चोरी कर रहे हैं. साइबर सिक्युरिटी कंपनी McAfee द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार दो अरब से ज्यादा लोगों के चुराए गए अकाउंट के क्रिडेंशियल्स को साल के पहले क्वार्टर में अंडरग्राउंड मार्केट में उपलब्ध कराया गया.

McAfee फेलो और चीफ साइंटिस्ट राज समानी ने कहा, 'ऐसे खतरों का बड़ा असर पड़ता है. यहां पर नंबर्स को समझना बहुत जरूरी है, जिनमें एक खास तरह के अटैक में कमी आई है और दूसरे टाइप के अटैक्स बढ़े हैं. यह पूरी कहानी का केवल एक हिस्सा बताते हैं.' उन्होंने कहा, 'ऐसे हर इनफेक्शन में या बिजनस को भारी नुकसान उठाना पड़ता है, या फिर कंज्यूमर के साथ बड़ा फ्रॉड देखने को मिलता है. हमको नहीं भूलना चाहिए कि हर साइबर अटैक के साथ एक इंसानी जिंदगी जुड़ी होती है.' रिपोर्ट में शेयर किए गए डेटा को McAfee की 'ग्लोबल थ्रेट इंटेलिजेंस' क्लाउड की ओर से जुटाया गया था. (9,499 रुपये के इस Samsung स्मार्टफोन में है फिंगरप्रिंट)

एक अरब से ज्यादा लगाए सेंसर्स-
बता दें कि  पूरी दुनिया में साइबर सिक्योरिटी को लेकर जुड़े खतरों से पूरी दुनिया में एक अरब से ज्यादा सेंसर्स लगाए गए थे. उसी से यह सारी जानकारी सामने आई है. इस तरह के अटैक्स में स्पियरफिशिंग काफी हो रही है, वहीं रैंसमवेयर अटैक्स ने रिमोट ऐक्सेस पॉइंट्स जैसे- रिमोट डेस्कटॉप प्रोटोकॉल (RDP) को ज्यादा निशाना बनाया है. रिसर्चर्स ने यह भी पाया कि ऐसे रैंसमवेयर अटैक्स से जुड़े लोग अपने कैंपेन के लिए एनॉनिमस ईमेल सर्विसेज का इस्तेमाल कर रहे हैं और कमांड-ऐंड-कंट्रोल (C2) सर्वर्स के लिए पुराना तरीका अपना रहे हैं.

साल की पहली तिमाही में सबसे ज्यादा ऐक्टिव रैंसमवेयर फैमिलीज में धर्मा (क्राइसिस), GandCrab और Ryuk शामिल रहीं. McAfee के चीफ साइंटिस्ट और सीनियर प्रिंसिपल इंजिनियर क्रिस्ट्रियान बीक ने कहा, 'रैंसम्स को फायदा पहुंचाना साइबरक्रिमिनल बिजनस और अटैक्स को बढ़ावा देना है. रैंसमवेयर विक्टिम के पास कुछ और ऑप्शंस भी उपलब्ध हैं. डिक्रिप्शन टूल्स और कैंपेन से जुड़ी जानकारी इन 'नो मोर रैंसम प्रॉजेक्ट्स' जैसे टूल्स की मदद से उपलब्ध है.' रिपोर्ट में कहा गया है कि हैकर्स की ओर से इस्तेमाल की जा रही ईमेल सर्विस क्राइम बिजनस छुपाने का पहले से ज्यादा अनजान तरीका है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2019, 5:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...