Cyclone Amphan: चक्रवाती तूफान के चलते बालासोर में गिरा निर्माणाधीन पुल

ओडिशा के बालासोर में गिरा पुल

ओडिशा के बालासोर में गिरा पुल

Cyclone Amphan के चलते ओडिशा (Odisha) में 34 लाख उपभोक्ताओं को बिजली की आपूर्ति प्रभावित हुई है । भुवनेश्वर एवं कटक के कुछ इलाकों में बिजली आपूर्ति बहाल कर दी गयी है.

  • Share this:
भुवनेश्वर. देश के पूर्वी हिस्से को सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाले तूफान अम्फान (Amphan) के चलते ओडिशा (Odisha) में एक निर्माणाधीन पुल गिर गया. यह घटना बालासोर (Balasore) जिले की है. इस घटना का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है. मिली जानकारी के अनुसार यह वीडियो 21 मई का है जब अम्फान तूफान ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा में काफी तबाही मचाई थी. यह पुल बुद्धाबालंग नदी को पार करने के लिए बनाया गया था.



20 मई को तूफान ओडिशा और पश्चिम बंगाल से टकराया. यह के तटीय क्षेत्रों में भारी तबाही देखने को मिली. कई पेड़ उखड़ गए. लोगों के घर की छते तक उड़ गईं. बताया गया कि यह चक्रवाती तूफान बीते 20 साल का सबसे खतरनाक तूफान था. इसके चलते पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटों पर भारी बारिश के साथ तेज हवा चली.



ओडिशा में अम्फान चक्रवात से करीब 45 लाख लोग प्रभावित, बिजली आधारभूत संरचना तबाह

ओडिशा में आये भयंकर चक्रवाती तूफान अम्फान से राज्य में करीब 45 लाख लोग प्रभावित हुए हैं . प्रदेश के तटीय इलाके में आया यह तूफान शाम को सुंदरबन पहुंचा और अपनी प्रचंडता से इसने पेड़ों को उखाड़ फेंका तथा घरों को अपनी चपेट में ले लिया . एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को इसकी जानकारी दी . मुख्य सचिव ए के त्रिपाठी ने बताया इस तूफान के कारण बिजली आधारभूत संरचना एवं कृषि क्षेत्र को महती नुकसान हुआ है. हालांकि, उन्होंने बताया कि दूर संचार के बुनियादी ढांचे पर कोई असर नहीं हुआ है .




चक्रवाती तूफान के प्रभाव से जबरदस्त बारिश हुयी और तेज गति से हवाएं चलीं . तटीय इलाकों में इस दौरान हवा की गति 190 किलोमीटर प्रति घंटा थी . हालांकि यह चक्रवाती तूफान बुधवार की शाम पश्चिम बंगाल के सुंदरबन पहुंचा . इसके बाद यह कमजोर पड़ कर चक्रवाती आंधी के रूप में बांग्लादेश की ओर चला गया . मुख्य सचिव त्रिपाठी ने बृहस्पतिवार को केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा के साथ वीडिया काफ्रेंस के जरिये बैठक की और उन्हें अम्फान चक्रवात के कारण हुयी क्षति के बारे में बताया .



पहले वाली स्थिति में आने में अभी एक दो दिन का समय

उन्होंने बताया कि ओडिशा सरकार द्वारा तूफान के पहुंचने से पहले करीब दो लाख लोगों को संवेदनशील इलाकों से हटा लिये जाने के बावजूद, चक्रवात के कारण 1500 ग्राम पंचायत के 44 लाख 80 हजार से अधिक लेाग प्रभावित हुये हैं . त्रिपाठी ने बताया कि पुनर्निर्माण का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है और सड़क संपर्क जल्द ही बहाल होने की संभावना है , खासकर जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक और बालासोर में . उन्होंने बताया कि पहले वाली स्थिति में आने में अभी एक दो दिन का समय लग सकता है.



राजस्व मंत्री सुदामा मरांडी ने बताया कि करीब एक लाख हेक्टेयर क्षेत्र में खड़ी फसल क्षतिग्रस्त हो गयी है . उन्होंने कहा कि जिला कलेक्टरों को क्षति का प्रारंभिक आकलन कर उसकी रिपोर्ट दो दिन में भेजने के लिये कहा गया है . हालांकि, चक्रवात से ओडिशा सीधे प्रभावित नहीं हुआ है. लेकिन अम्फान ने बड़ी संख्या में पेडों, बिजली के खंभों को उखाड़ दिया, मिट्टी के घरों को नुकसान पहुंचाया और इसके बाद यह पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ गया .




अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज