लाइव टीवी
Elec-widget

चक्रवात 'बुलबुल' में लापता नौ मछुआरों में से चार के शव बरामद

भाषा
Updated: November 11, 2019, 9:50 PM IST
चक्रवात 'बुलबुल' में लापता नौ मछुआरों में से चार के शव बरामद
नाव में नौ मछुआरे सवार थे और नाव मौसुनी द्वीप पर तूफान की चपेट में आकर पलट गई.

चक्रवात ‘बुलबुल’ (Bulbul Cyclone) बांग्लादेश (Bangladesh) की ओर बढ़ने से पहले पश्चिम बंगाल (West Bengal) के तटीय जिलों में जमकर कहर बरपाया. इसके प्रभाव से राज्य के विभिन्न हिस्सों में 10 लोगों की मौत हो गई, जबकि 2.73 लाख परिवार प्रभावित हुए हैं.

  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में भारतीय तटरक्षक बल और एनडीआरएफ (NDRF) के चक्रवात बुलबुल के कारण मछली पकड़ने वाली नाव के पलट जाने से मौसुनी द्वीप से लापता नौ मछुआरों में से चार के शव बरामद कर लिये हैं. सोमवार को एक वरिष्ठ तटरक्षा अधिकारी ने यह जानकारी दी. यह नाव शनिवार को द्वीप से 50 मीटर दूर समुद्र में चक्रवात बुलबुल की चपेट में आ गयी थी. चक्रवात ने गंगा सागर, दक्षिण 24 परगना और खेपुपारा क्षेत्र के बीच पहली दस्तक थी.

पश्चिम बंगाल तटरक्षक बल के कमांडर और उप महानिरीक्षक एस आर दास ने पीटीआई-भाषा को बताया कि लगातार चलाये गये खोज अभियान के बाद चार शव बरामद किए गए हैं. शवों को जिला प्रशासन को सौंप दिया गया है. दास ने बताया कि मंगलवार को खोज कार्य फिर से शुरू किया जाएगा जिससे नाव में सवार बाकी मछुआरों का पता लगाया जा सके.

तूफान की चपेट में आने से पलट गई थी नाव
गौरतलब है कि नाव में नौ मछुआरे सवार थे और नाव मौसुनी द्वीप पर तूफान की चपेट में आकर पलट गई. हादसे के बाद से तटरक्षक बल और एनडीआरएफ की टीमें बचाव कार्य में लगी हुई हैं. पश्चिम बंगाल (West Bengal) में शनिवार आधी रात को दस्तक देने के बाद चक्रवात 'बुलबुल' उत्तर-पूर्व में सुंदरबन नदी मुख से होता हुआ बांग्लादेश (Bangladesh) की ओर बढ़ गया.

एनडीआरएफ द्वितीय बटालियन के कमांडेंट नीतीश उपाध्याय ने सोमवार को बताया कि लापता मछुआरों का पता लगाने के लिए बल के गोताखोर समुद्र के अन्दर तलाश कर रहे हैं. समय बीतने पर उनके लिए खतरा बढ़ सकता है. दास ने कहा कि तटरक्षक बल ने खोज अभियान में दो होवरक्राफ्ट लगाए हैं. प्रत्येक होवरक्राफ्ट में एक पायलट, एक सह-पायलट और आठ सहायक कर्मी शामिल हैं. वे फ्रेजरगंज तट से छंटनी कर रहे हैं. हल्दिया तटरक्षक बल के कमांडेंट दीपक सिंह होवरक्राफ्ट की कमान संभाल रहे हैं.

नाव में 13 मछुआरे थे सवार
प्राप्त जानकारी के अनुसार नाव में 13 मछुआरे सवार थे जिनमें से चार तैरकर सुरक्षित लौट आए. बाकी नौ मछुआरों में से चार के शव मिले हैं और बाकियों के बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है. दास ने बताया कि तटरक्षक बल छह नवंबर से चक्रवात के कारण उत्पन्न स्थिति का सामना कर रहा है. बल कर्मी सभी तटीय गांवों और संवेदनशील क्षेत्रों में बचाव कार्य में लगे हुए हैं.
Loading...

नादिया स्थित एनडीआरएफ द्वितीय बटालियन के कमांडेंट ने बताया कि बल की 10 टीमों को पश्चिम बंगाल के 24 उत्तरी परगना, 14 दक्षिण परगना और पूर्व मेदिनीपुर में चक्रवात आने से पहले ही तैनात कर दिया गया है.

उपाध्याय ने बताया कि चक्रवात से उखड़े पेड़ों को हटाने और जिला प्रशासन द्वारा किए जा रहे राहत कार्यों में एनडीआरएफ की टीमें सहायता प्रदान कर रही हैं.

ये भी पढ़ें-
हाईकोर्ट ने बंगाल की ममता सरकार और केएमसी से डेंगू पर रिपोर्ट मांगी

‘बुलबुल’ ने पश्चिम बंगाल में खूब बरपाया कहर, तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 9:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...