Cyclone Tauktae: मछुआरों को मिलेगा 105 करोड़ रुपये का राहत पैकेज, गुजरात सरकार का ऐलान

चक्रवात टाउते 17 मई की रात को गुजरात तट पर पहुंचा था और उसके साथ करीब 220 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चली थी. (पीटीआई फाइल फोटो)

Cyclone Tauktae: इस चक्रवात के कहर से राज्य के जाफराबाद, राजुला, सैयद राजपाड़ा, शियाल बेट तथा नावा बंदरगाहों पर तट पर खड़ी नौकाओं, मछली पकड़ने वाले जाल और समुद्री ढांचे को काफी नुकसान पहुंचा था.

  • Share this:
    अहमदाबाद. गुजरात सरकार ने पिछले महीने तबाही मचाने वाले चक्रवात टाउते से प्रभावित हुए मछुआरों के लिए 105 करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की है. एक आधिकारिक विज्ञप्ति में बुधवार को बताया गया कि मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने मंगलवार की शाम को एक बैठक में स्थिति की समीक्षा करने के बाद राहत पैकेज का फैसला लिया.

    चक्रवात टाउते 17 मई की रात को गुजरात तट पर पहुंचा था और उसके साथ करीब 220 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चली थी. विज्ञप्ति के अनुसार, इस चक्रवात के कहर से राज्य के जाफराबाद, राजुला, सैयद राजपाड़ा, शियाल बेट तथा नावा बंदरगाहों पर तट पर खड़ी नौकाओं, मछली पकड़ने वाले जाल और समुद्री ढांचे को काफी नुकसान पहुंचा था. चक्रवात में मछुआरों के मकान भी क्षतिग्रस्त हो गए थे.

    चक्रवात: गुजरात ने फलों के उखड़े 30 फीसदी पेड़ों को दोबारा लगाने की योजना

    राहत पैकेज के तौर पर राज्य सरकार 1,000 से अधिक छोटी और बड़ी नौकाओं को पहुंचे नुकसान की भरपाई के लिए प्रभावित मछुआरों को 25 करोड़ रुपये की धनराशि देगी. विज्ञप्ति में कहा गया है कि पूरी तरह से क्षतिग्रस्त छोटी नौकाओं के लिए सरकार नौका की कीमत की 50 प्रतिशत धनराशि का भुगतान करेगी या 75,000 रुपये देगी.

    पैकेज के तहत राज्य सरकार ने समुद्री ढांचे को बहाल करने की भी योजना बनायी है जिसे चक्रवात से नुकसान पहुंचा. विज्ञप्ति के अनुसार, राज्य सरकार समुद्री ढांचे को बहाल करने तथा मजबूत बनाने पर कुल 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी.