Cyclone Tauktae: कर्नाटक-केरल में तबाही मचाते हुए आगे बढ़ रहा तूफान 'टाउते', अलर्ट पर महाराष्‍ट्र और गुजरात

चक्रवात टाउते को लेकर मांडविया ने पश्चिमी तट के बंदरगाहों की तैयारी का जायजा लिया. (फोटो साभार-AP)

चक्रवात टाउते को लेकर मांडविया ने पश्चिमी तट के बंदरगाहों की तैयारी का जायजा लिया. (फोटो साभार-AP)

Cyclone Tauktae: चक्रवात गुजरात के तट पर 18 मई की सुबह को पहुंच सकता है और वहां 150 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं और भारी बारिश हो सकती है.

  • Share this:

नई दिल्ली. अरब सागर से उठा समुद्री तूफान ‘टाउते’ केरल, कर्नाटक और गोवा के तटवर्ती इलाकों में भारी तबाही मचाते हुए आगे बढ़ रहा है. इसको देखते हुए गुजरात और महाराष्‍ट्र को अलर्ट पर रखा गया है. इस बीच बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री मनसुख मांडविया ने रविवार को देश के पश्चिमी तटीय इलाकों के सभी राज्यों में बंदरगाह और समुद्री क्षेत्र के बोर्ड की तैयारियों की समीक्षा की. मांडविया ने ट्वीट जारी कर कहा, 'चक्रवात टाउते को देखते हुये देश के पश्चिमी तटीय क्षेत्र के सभी राज्यों में बंदरगाहों और मेरीटाइम बोर्ड की तैयारियों की समीक्षा की.'

उन्होंने ट्वीट में कहा, 'उन्हें नुकसान को कम से कम रखने की संभावना के साथ लोगों की सुरक्षा के लिये हर संभव कदम उठाने के निर्देश दिये. बंदरगाहों ने परिस्थिति का मुकाबला करने के लिये तैयार रहने का आश्वासन दिया.' भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने रविवार को कहा कि चक्रवात टाउते तेज होकर काफी गंभीर चक्रवाती तूफान का रूप ले रहा है और यह गुजरात के तटीय इलाकों की तरफ बढ़ रहा है. विभाग ने गुजरात और दीव एवं दमण के तटीय इलाकों के लिये चेतावनी जारी की है.

अमित शाह ने कोविड अस्पतालों, ऑक्सीजन संयंत्रों की सुरक्षा पर जोर दिया

गृह मंत्री अमित शाह ने गुजरात, महाराष्ट्र और केंद्र शासित दो प्रदेशों में रविवार को चक्रवात तौकते को लेकर तैयारियों की समीक्षा की और 'विशेष तौर पर' इस बात पर जोर दिया कि प्रभावित क्षेत्रों में सभी स्वास्थ्य सुविधाओं और खासकर कोविड-19 अस्पतालों एवं रोगियों को सुरक्षित किया जाना चाहिए.
गुजरात और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों तथा दमन एवं दीव तथा दादरा एवं नगर हवेली के प्रशासकों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के जरिए की गई बैठक में अमित शाह ने उन्हें सलाह दी कि सभी आवश्यक दवाओं का पर्याप्त भंडार एवं अस्पतालों में उनकी आपूर्ति सुनिश्चित करें. यह जानकारी गृह मंत्रालय की तरफ से जारी एक बयान में दी गई.

चक्रवात गुजरात के तट पर 18 मई की सुबह को पहुंच सकता है और वहां 150 से 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं और भारी बारिश हो सकती है. बयान में कहा गया कि अमित शाह ने 'चक्रवात से प्रभावित होने की आशंका वाले इलाकों में सभी स्वास्थ्य सुविधाओं की तैयारियों की समीक्षा की.' इसमें बताया गया, 'उन्होंने राज्य प्रशासन/ जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी कोविड अस्पतालों, प्रयोगशालाओं, टीका शीत श्रृंखला और अन्य चिकित्सीय सुविधाओं में पर्याप्त पावर बैक-अप की व्यवस्था करें.'

ये भी पढ़ें: Cyclone Tauktae: ताकतवर हुआ तूफान, महाराष्ट्र- गुजरात में मछली पकड़ने वाली सभी नावें बंदरगाहों पर लौटीं



गृह मंत्री ने चक्रवात के रास्ते में पड़ने वाले स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए पर्याप्त इंतजाम करने के निर्देश दिए ताकि रोगियों को बचाया जा सके. बयान में कहा गया, 'उनसे ऑक्सीजन उत्पादन करने वाले संयंत्रों के पास बने अस्थायी अस्पतालों के रोगियों को जरूरत पड़ने पर दूसरे अस्पतालों में भेजने के निर्देश दिए.'

ये भी पढ़ें: चक्रवाती तूफान पर अमित शाह और कैबिनेट सचिव की हाई लेवल मीटिंग, दिए अहम निर्देश

अमित शाह ने महाराष्ट्र और गुजरात में ऑक्सीजन उत्पादन करने वाले सयंत्रणों पर चक्रवात के प्रभाव की भी समीक्षा की. इसने कहा, 'मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि ऑक्सीजन का दो दिनों के लिए बफर स्टॉक रखने और राज्यों को ऑक्सीजन टैंकर भेजने के भी निर्देश दिए ताकि बाधा आने की स्थिति में आपूर्ति पर प्रभाव नहीं पड़े.' गुजरात और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों ने 'मंत्री को आश्वासन दिया कि स्वास्थ्य सुविधाओं एवं ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों को सुरक्षित करने के लिए सभी आवश्यक इंतजाम किए जा रहे हैं.'


गृह मंत्री ने अस्पतालों एवं स्वास्थ्य सुविधाओं को निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए बिजली उत्पादन संयंत्रों की खातिर आवश्यक प्रबंध करने का भी निर्देश दिया. अमित शाह ने मुख्यमंत्रियों और प्रशासकों को सूचित किया कि गृह मंत्रालय में सातों दिन चौबीसों घंटे एक नियंत्रण कक्ष काम कर रहा है 'जिससे किसी भी तरह की मदद के लिए राज्य संपर्क कर सकते हैं.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज