Cyclone Yaas: चक्रवाती तूफान 'यास' से निपटने के लिए नौसेना की तैयारी पूरी, जहाज और गोताखोरों की टीम तैनात

नौसेना ने कोलकात स्थित डिपो सेंटर में 500 लोगों के लिए राहत बचाव सामग्री को तैयार रखा है.

नौसेना ने कोलकात स्थित डिपो सेंटर में 500 लोगों के लिए राहत बचाव सामग्री को तैयार रखा है.

Cyclone Yaas: नौसेना ने कोलकता स्थित डिपो सेंटर में 500 लोगों के लिए राहत बचाव सामग्री को तैयार रखा है. कोलकाता के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के उप निदेशक संजीब बंदोपाध्याय ने बताया कि ‘यास’ के 26 मई की दोपहर को पारादीप और सागर द्वीपों के बीच होते हुए ओडिशा-पश्चिम बंगाल तटों से गुजरने का अनुमान है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भीषण चक्रवाती तूफान 'यास' (Cyclone Yaas) कल यानी बुधवार को बंगाल के तट से टकराएगा. बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना गहरे दबाव का क्षेत्र सोमवार को चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया. कहा जा रहा है कि लैंडफॉल के समय हवा की रफ्तार 170 किलोमीटर प्रति घंटा तक जा सकती है. ऐसे में नौससेना ने बचाव और राहत कार्य के लिए तैयारियां पूरी कर ली हैं.

नौसेना के गोताखोरों की दो टीमों को बोट और अन्य उपकरणों के साथ तैयार रहने को कहा है. एक गोताखोर टीम और दो फ्लड रिलीफ़ टीम पश्चिम बंगाल के दीघा और फ्रजेरगंज में 23 और 24 मई को ही तैनात कर दी गई थीं. एक राहत बचाव टीम को डायमंड हार्बर में स्टैंडबाय पर रखा गया है. जरूरत पड़ने पर उनका इस्तेमाल भी किया जाएगा. ये टीम उन सभी उपकरणों से लैस हैं जो लोगों को तुरंत राहत पहुंचा सके. इनमें घायलों को निकालने, सड़कों से तूफान में गिरे पेड़ों को हटाना, सड़कों से मलबा हटाने और राहत सामग्री को ज़रूरतमंद लोगों तक पहुंचाने का काम करेंगे.

Youtube Video

ये भी पढ़ें:- पंजाब: साइकिल सवार को सांड ने दस फीट उछाला, जमीन पर गिरने से मौत
नौसेना ने कोलकता स्थित डिपो सेंटर में 500 लोगों के लिए राहत बचाव सामग्री को तैयार रखा है. नौसेना के 4 जहाज राहत बचाव उपकरण और सामग्री के साथ तैयार है. जिसमें मेडिकल टीम और अतिरिक्त गोताखोरों की टीम भी लगातार इस चक्रवाती तूफान पर नजर बनाए हुए है. जहाज़ों पर मौजूद नौसेना के हेलीकॉप्टर और मध्यम दूरी के टोही विमान को विशाखपत्तनम में स्टैंड बाय रखा गाय है जिसे तूफान के बाद हुए नुकसान और राहत काम में लगाया जाएगा.


कोलकाता के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के उप निदेशक संजीब बंदोपाध्याय ने बताया कि ‘यास’ के 26 मई की दोपहर को पारादीप और सागर द्वीपों के बीच होते हुए ओडिशा-पश्चिम बंगाल तटों से गुजरने का अनुमान है. यह एक बहुत ही भीषण चक्रवाती तूफान होगा जिसमें 155-165 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज