• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • CYCLONE YAAS TRACKING IN BENGAL 11 LAKH EVACUATED 400 EVACUATED IN ODISHA AS YAAS TURNING IN SEVERE CYCLONIC STORM

Cyclone Yaas: बेहद खतरनाक हुआ चक्रवात 'यास', बंगाल में 2 की मौत, 10 लाख लोगों को सुरक्षित जगह भेजा गया

यास चक्रवात के चलते सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए गए लोग.

चक्रवाती तूफान यास गंभीर तूफान में तब्दील होता जा रहा है. चक्रवात के पश्चिम बंगाल और ओडिशा में नुकसान पहुंचाने की आशंका के चलते यहां इससे निपटने की तैयारी ज़ोरों पर है. बंगाल में 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है, जबकि ओडिशा से भी 400-500 लोगों को दूसरी जगह शिफ्ट किया गया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवात 'यास' बेहद खतरनाक हो चुका है. मौसम विभाग के अनुसार बुधवार के यह चक्रवात ओडिशा के केंद्रपारा जिले के धामरा पोर्ट के करीब टकरा सकता है. चक्रवात के तट पर पहुंचने से पहले ही पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों में जोरदार बारिश हो रही है. बिजली गिरने से बंगाल में दो लोगों की मौत भी हो गई है. मौसम विभाग के डीजी एम महापात्रा ने इसे बेहद खतरनाक श्रेणी का चक्रवात घोषित कर दिया है. बंगाल और ओडिशा में NDRF की टीमों की सबसे ज्यादा तैनाती की गई है. NDRF ने दोनों राज्यों के तटीय इलाकों से करीब 10 लाख लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया है.

    चक्रवाती तूफान यास को देखते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को बताया कि हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा चुका है. हालिशहर में 4 से 5 के लोग जख्मी हुए हैं जबकि पंडुआ में बिजली गिरने से 2 लोगों की मौत हो गई है. इसके अलावा चुचुड़ा में 40 घरों को नुकसान पहुंचा है.

    प्रेस कांफ्रेंस के दौरान ममता बनर्जी ने हादसे के शिकार हुए लोगों के प्रति संवेदना जाहिर करते हुए लोगों को सलाह दी है कि वे घबराएं नहीं और गैर ज़रूरी वजहों से बाहर निकलने से बचें. तूफान के चलते हुगली में बंदेल और बीजपुर में बवंडर की भी खबर है. ऐसे में सीएम ममता बनर्जी ने लोगों से अपील की है कि वे कोशिश करें कि घर से बाहर न जाएं. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने साइक्लोन कंट्रोल रूम का भी दौरा किया और ममता बनर्जी से मिलकर तूफान से निपटने की तैयारियों के बारे में जानकारी ली. उन्होंने ट्वीट करके इसके बारे में जानकारी दी.

    भारतीय मौसम विभाग ने दावा किया है कि कोलकाता में यास चक्रवात से अंफन तूफान जैसी तबाही की आशंका नहीं है. आईएमडी का कहना है कि तूफान के लैंडफॉल के दौरान 85 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं.

    ये भी देखें- वित्त वर्ष 2020-21 में आया रिकॉर्ड विदेशी निवेश, देश में गुजरात रहा दूसरे साल भी FDI में अव्वल

    ओडिशा में भी लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया गया
    यास चक्रवात के पूर्वी ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों से गुजरने के अनुमान को देखते हुए ओडिशा में भी तैयारी हो चुकी है. ओडिशा के बसुदेवपुर इलाके से लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है. करीब 300-400 लोगों को यहां से भोजन और अन्य ज़रूरी चीजों के साथ जिला प्रशासन ने शिफ्ट किया है.

    मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि यास चक्रवात बंगाल की उत्तर पश्चिमी खाड़ी और उत्तरी उड़ीसा के तटों से होते हुए बुधवार को सुबह चंदबली-धर्मा पोर्ट तक पहुंचेगा. बुधवार दोपहर तक यास चक्रवात का रूप काफी गंभीर होने की भी आशंका है.