ओडिशा के तट से टकराया ‘फानी’, अगले तीन घंटे तक हो सकती है तबाही

कल सुबह ये तूफान पश्चिम बंगाल पहुंच जाएगा. चक्रवात से ओडिशा के अलावा आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल के भी प्रभावित होने की संभावना है.

  • Share this:
मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान फानी का कुछ हिस्सा ओडिशा के तट से टकरा गया है. अगले तीन घंटों में लैंडफॉल की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी. सुबह 11 बजे के आसपास तूफान का सबसे ज़्यादा असर दिखने की संभावना जताई जा रही है. मौसम विभाग के अनुसार फानी की अधिकतम रफ्तार 175 से 185 किलोमीटर प्रति घंटे का आसपास रहेगी, जो 205 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है.

इसके अलवा कल सुबह ये तूफान पश्चिम बंगाल पहुंच जाएगा. चक्रवात से ओडिशा के अलावा आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल के भी प्रभावित होने की संभावना है. फानी के विकराल रूप को देखते हुए ओडिशा के अलग-अलग जिलों में कंट्रोल रूम बनाए गए हैं और उनके हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं.





एनडीआरएफ की तरफ से 28 टीमें ओडिशा में भेजी गई हैं. इसके अलावा 10 अतिरिक्त टीमें भी मदद के लिए भेजी गई हैं. इसके अलावा पश्चिम बंगाल में 18 टीमें और आंध्र प्रदेश में 8 टीमें बचाव के लिए भेजी गई हैं.
तटरक्षक बल ने दो चेतक हेलीकॉप्टर के साथ चार जहाजों को तैनात किया है. इन जहाजों में 8 रेस्क्यू टीम मौजूद हैं.

3 राज्यों के ये जिले हो सकते हैं प्रभावित

ख़बर है कि चक्रवाती तूफान फानी की चपेट में ओडिशा की गंजाम, गजपति, खुर्दा, पुरी व जगतसिंहपुर, केन्द्रपाड़ा, भद्रक, जाजपुर और बालासोर सहित ओडिशा के कई तटीय जिले आ सकते हैं. पश्चिम बंगाल के पूर्वी और पश्चिमी मेदिनीपुर, दक्षिणी और उत्तरी 24 परगना, हावड़ा, हुगली, झारग्राम और कोलकाता जिलों के साथ ही आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम, श्रीकाकुलम और विजयनगरम जिलों के भी इससे प्रभावित होने की आशंका है.

फानी की वजह से ओडिशा के अनुमानित तौर पर 10,000 गांव और 52 शहर प्रभावित होंगे. राज्य सरकार ने गुरुवार को 15 जिलों में निचले इलाकों से 11 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया. चक्रवात के कारण कई तटीय इलाकों में गुरुवार शाम से भारी बारिश हो रही है.

रेल और वायु सेवा बाधित 

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने जानकारी दी कि गुरुवार मध्य रात्रि से भुवनेश्वर से उड़ानों का परिचालन अस्थायी रूप से रोक दिया जाएगा. शुक्रवार सुबह से भुवनेश्वर-कोलकाता एयरपोर्ट भी बंद है. रेलवे ने ओडिशा से ट्रेनों की आवाजाही भी अस्थायी रूप से रोक रखी है.

रेलवे ने गुरुवार को कहा कि चक्रवात फानी के चलते कोलकाता-चेन्नई रूट पर ओडिशा तटरेखा की करीब 223 ट्रेनों को रद्द किया गया है, जबकि प्रभावित क्षेत्रों में फंसे यात्रियों को निकालने के लिए तीन विशेष ट्रेन सेवा में लगाई गई हैं.

अलर्ट पर प्रशासन

प्रशासन ने लोगों को जन संबोधन प्रणाली, एसएमएस और स्थानीय मीडिया के जरिए चक्रवात से अवगत कराने के इंतजाम किए गए हैं. किसी भी स्थिति से निपटने के लिए एनडीआरएफ और ओडीआरएफ की टीमों को लगाया गया है. कैबिनेट सचिव ने गुरुवार को चक्रवाती तूफान से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए राज्यों और केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा की. इसके बाद असुरक्षित क्षेत्रों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पहुंचाने और आवश्यक खाद्य पदार्थों, पेयजल एवं दवाओं का इंतजाम करने के निर्देश दिए गए हैं.

कैबिनेट सचिव ने आम जनता के लिए एक केन्द्रीय टोल फ्री हेल्पलाइन शुरू करने का निर्देश दिया है. उन्होंने केन्द्रीय मंत्रालयों से नियंत्रण कक्ष स्थापित करने को कहा है, ताकि राहत एवं बचाव कार्यों में समुचित समन्वय स्थापित किया जा सके. भारतीय तट रक्षक बल और भारतीय नौसेना ने राहत एवं बचाव कार्य के लिए पोतों तथा हेलीकॉप्टरों को तैनात किया है जबकि भारतीय सेना और भारतीय वायु सेना को तीन राज्यों में तैयार रहने को कहा गया है.

बता दें कि प्रभावित क्षेत्रों से निकाले जाने वाले लोगों के लिए करीब 900 चक्रवात आश्रय गृह बनाये गये हैं.

ये भी पढ़ें: फानी तूफान: खतरे की आहट के बीच दिल जीत रही है ये तस्वीर

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading