लाइव टीवी

‘बुलबुल’ तूफान से ओडिशा में तबाही, भारी बारिश से पेड़ और बिजली के खंभे उखड़े

भाषा
Updated: November 9, 2019, 4:36 PM IST
‘बुलबुल’ तूफान से ओडिशा में तबाही, भारी बारिश से पेड़ और बिजली के खंभे उखड़े
‘बुलबुल’ तूफान से ओडिशा में भारी बारिश से पेड़ और बिजली के खंभे उखड़े

विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) पीके जेना ने बताया कि ‘बुलबुल’ (Cyclonic Storm Bulbul) के कारण जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा और भद्रक जिलों में कई स्थानों पर बड़ी संख्या में पेड़ और बिजली के खंभे उखड़ गए.

  • Share this:
भुवनेश्वर. बेहद शक्तिशाली तूफान ‘बुलबुल’ (Cyclonic Storm Bulbul) के कारण मध्य ओडिशा (Odisha) के कई हिस्सों में शनिवार को तबाही मचाई. तेज हवाओं और भारी बारिश (Haevy Rain) के कारण पेड़ और बिजली के खंभे उखड़ गए. इससे सड़क संपर्क टूट गया.

विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) पीके जेना ने बताया कि अभी तक कहीं से भी किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. हालांकि जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा और भद्रक जिलों में कई स्थानों पर बड़ी संख्या में पेड़ और बिजली के खंभे उखड़ गए.

मुख्य सचिव असित त्रिपाठी ने बताया कि राज्य सरकार स्थिति पर करीब से नजर रख रही है और इससे निपटने के लिए आवश्यक कार्रवाई की जा रही है. उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल (ओडीआरएएफ) के कमिर्यों ने प्रभावित इलाकों में यातायात के सुचारू संचालन के लिए उखड़े पेड़ों को सड़कों से हटाने का काम शुरू कर दिया है.

‘बुलबुल’ अभी पारादीप से करीब 95 किलोमीटर

भुवनेश्वर मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक एच आर बिस्वास ने बताया कि बेहद गंभीर श्रेणी का चक्रवाती तूफान ‘बुलबुल’ अभी पारादीप से करीब 95 किलोमीटर पूर्व-उत्तरपूर्व में बंगाल की खाड़ी के उत्तरपश्चिम में है. उन्होंने बताया कि ‘बुलबुल’ से ज्यादातर स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई और मध्य ओडिशा के कुछ इलाकों में भारी से बहुत भारी वर्षा हुई.

90 किमी प्रति घंटे तक की रफ्तार से चली हवाएं
बिस्वास ने बताया कि जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर और भद्रक जैसे जिलों में 70-80 किलोमीटर प्रति घंटे से लेकर 90 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार से तेज हवा चली जबकि ज्यादातर तटीय इलाकों में तूफानी परिस्थितियां बनी रही.
Loading...

3,000 लोगों को निकाला गया
एसआरसी ने बताया कि केंद्रपाड़ा जिले के राजनगर ब्लॉक में शुक्रवार से अब तक सबसे अधिक 180 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी जबकि भद्रक के चांदबाली में 150 मिमी. और जगतसिंहपुर जिले के तिरतोल में 100 मिमी. बारिश दर्ज की गई. अधिकारियों ने बताया कि राज्य के कुछ तटीय क्षेत्रों में संवेदनशील और निचले इलाकों से करीब 3,000 लोगों को निकाला गया है. केंद्रपाड़ा जिला प्रशासन ने 1,070 लोगों को सुरक्षित शिविरों में पहुंचाया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 4:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...