लाइव टीवी

बंगाल के तट से टकराया तूफान 'बुलबुल', दो लोगों की मौत, अलर्ट पर नौसेना

News18Hindi
Updated: November 10, 2019, 8:51 AM IST
बंगाल के तट से टकराया तूफान 'बुलबुल', दो लोगों की मौत, अलर्ट पर नौसेना
मौसम विभाग ने कहा है कि तट से टकराने के बाद चक्रवाती तूफान कमजोर हो सकता है (सांकेतिक फोटो)

बुलबुल (Bulbul) चक्रवाती तूफान (Cyclonic Storm) के शनिवार रात 11 बजे के बाद पश्चिम बंगाल (West Bengal) के सागर द्वीप और बांग्लादेश (Bangladesh) के खेपूपारा से टकराने की संभावना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2019, 8:51 AM IST
  • Share this:
कोलकाता. भारतीय मौसम विभाग (India Meteorological Department) के अनुसार चक्रवात बुलबुल (Bulbul Cyclone) के पश्चिम बंगाल (West Bengal) के तट से टकरा गया है. इस तूफान के कारण कम से कम दो लोगों की मौत की खबर है. वहीं कोलकाता हवाई अड्डे को अगले 12 घंटे के लिए बंद कर दिया गया है. इस चक्रवाती तूफान (Cyclonic Storm) को बहुत खतरनाक माना जा रहा है. इससे पहले ही राज्य में भारी बारिश (Heavy Rain) और तेज हवाओं का सिलसिला शुरू हो गया है. दक्षिण 24 परगना में सुबह से ही तेज हवाएं चल रही हैं.




मौसम विभाग की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार रविवार रात 00.30 बजे बुलबुल तूफान का दबाव, सुंदरबन नेशनल पार्क से 30 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम की ओर राज्य के तटीय इलाकों के ऊपर है. माना जा रहा है कि रविवार सुबह तक यह तूफान दक्षिण 24 परगना जिले के आगे बांग्लादेश के उत्तर पूर्व में मुड़ जाएगा. यहां तूफान कमजोर पड़ सकता है. रविवार रात 12 बजे के बाद तूफान के कट से टकराने की  प्रक्रिया शुरू हुई, जिसके उत्तर पूर्वी क्षेत्र की ओर बढ़ने की बहुत संभावना है.



तूफान शनिवार की रात 11 बजे के बाद प. बंगाल (West Bengal) के सागर द्वीप और पड़ोसी देश बांग्लादेश (Bangladesh) के खेपूपारा से टकराने की संभावना है. इन सबके बीच राज्य की सीएम ममता बनर्जी कंट्रोल रूम पहुंचीं जहां से हालात पर नजर रखी जा रही है.

अभी तक दो लोगों की हो चुकी है मौत
मौसम विभाग ने कहा है कि तट से टकराने के बाद चक्रवाती तूफान (Cyclonic Storm) कमजोर हो सकता है. हालांकि इस दौरान भी 110-120 किमी/घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगीं, इन हवाओं की गति आगे बढ़कर 135 किमी भी हो सकती हैं. वहीं बंगाल और ओडिशा से भारी बारिश की वजह से अभी तक दो लोगों की मौत भी हो चुकी है.



सुरक्षा के लिए किए गए हैं सभी इंतजाम
प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने कहा है कि किसी भी स्थिति से निपटने के सभी उपाय किए गए हैं. साथ ही उन्होंने नागरिकों से न घबराने और शांति बनाए रखने की अपील भी की है. बंगाल के मुख्य सचिव असित त्रिपाठी ने कहा है कि सरकार स्थिति पर नज़र बनाए है और इससे निपटने की आवश्यक कार्रवाई की जा रही है.

इसके अलावा नौसेना (Indian Navy) को भी आपदा से निपटने के लिए तैयार रखा गया है. नौसेना ने अपने विमानों और राहत सामग्री भरे तीन जहाजों को तैयार रखा है. नौसेना ने मछुआरों को भी समुद्र की ओर न जाने की चेतावनी दी है. उन्हें करीबी बंदरगाहों और अन्य जगहों पर जाने की सलाह भी दी गई है.

135 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से भी चल सकती हैं हवाएं
9 नवंबर की मध्यरात्रि तक बुलबुल चक्रवाती तूफान (Cyclonic Storm) के कारण 110 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम रफ्तार के साथ हवाएं चल सकती हैं. हवाएं 135 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से भी चल सकती हैं. इसके पश्चिम बंगाल के सागर द्वीप, सुंदरबन डेल्टा, बांग्लादेश के खेपूपारा को पार करने की संभावना है.

50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं की रफ्तार बढ़ती जाएगी
एक सरकारी अधिकारी ने बताया था कि संबंधित जिलों के अधिकारियों को स्थिति पर नजर रखने और आपात स्थिति से निपटने के लिए कार्य योजना तैयार करने को कहा गया था. मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिम बंगाल (West Bengal) और ओडिशा (Odisha) के तटीय इलाकों में शुक्रवार शाम से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी और धीरे-धीरे हवा की यह गति बढ़ती चली जाएगी.

11 नवंबर को भारी बारिश की संभावना
इससे पहले मौसम विभाग (IMD) के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने कहा था कि चक्रवाती तूफान बुलबुल की निगरानी की जा रही है और इसके तट से टकराने के संभावित स्थान का आकलन किया जा रहा है. मौसम विभाग पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों पूर्वी मिदनापुर, उत्तर 24 परगना और दक्षिण 24 परगना जिलों में नौ से 11 नवंबर तक भारी बारिश होने की संभावना जता चुका है.

यह भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में ‘बुलबुल’ तूफान का खौफ, कोलकाता एयरपोर्ट 12 घंटे के लिए बंद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 10:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...