लाइव टीवी

गोवा-महाराष्ट्र में तूफान 'क्यार' से भारी बारिश, मछुआरों- पर्यटकों को समुद्र से दूर रहने की चेतावनी

भाषा
Updated: October 25, 2019, 4:49 PM IST
गोवा-महाराष्ट्र में तूफान 'क्यार' से भारी बारिश, मछुआरों- पर्यटकों को समुद्र से दूर रहने की चेतावनी
अगले 12 घंटों में चक्रवातीय तूफान क्यार महाराष्ट्र-गोवा में और ज्यादा मजबूत हो सकता है (सांकेतिक फोटो)

गोवा-महाराष्ट्र (Goa-Maharashtra) के तटीय जिलों में अगले 12 घंटों में चक्रवातीय तूफान क्यार (Cyclone Kyarr) के और ज्यादा शक्तिशाली होने की चेतावनी भारतीय मौसम विभाग (IMD) की ओर से जारी की गई है.

  • Share this:
पणजी. गोवा (Goa) में लगातार तीसरे दिन भी भारी वर्षा (Heavy Rain) जारी रही जिससे जनजीवन प्रभावित हुआ और हाल फिलहाल इससे कोई राहत मिलने की उम्मीद नहीं है. ऐसा इस इलाके में आए चक्रवातीय तूफान क्यार (Cyclone Kyarr) के चलते हो रहा है, जिसके अगले 12 घंटों में और मजबूत होने की उम्मीद है.

भारतीय मौसम विभाग (IMD) की गोवा (Goa) वेधशाला ने एक ताजा चेतावनी जारी कर पर्यटकों (Tourists) को खराब मौसम के मद्देनजर बाहर नहीं निकलने और मछुआरों (Fishermen) को समुद्र में नहीं उतरने की सलाह दी.

भारी बारिश से कई जगह भरा पानी
कानाकोना को दक्षिण गोवा (South Goa) में मारगांव से जोड़ने वाले राजमार्ग सहित कई सड़कों पर बारिश की वजह से पानी भर गया है. भारी वर्षा के चलते मारगांव से 15 किलोमीटर दूर दक्षिण गोवा स्थित गुडी गांव की एक सड़क और वर्ना औद्योगिक इस्टेट (Verna Industrial Estate) में कई सड़कों पर पानी भर गया है.

दमकल एवं आपात सेवा (Fire and Emergency Services) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दावा किया कि उन्हें गुरुवार की रात से राज्य के विभिन्न हिस्सों से सड़कों पर गिरे पेड़ों को हटाने के लिए 50 से अधिक फोन कॉल प्राप्त हुए हैं. एक अधिकारी ने कहा कि मंडोवी नदी का जलस्तर बढ़ रहा है जिससे चोराव और दीवर द्वीपों के लोगों को आने जाने में परेशानी हो रही है जो कि पणजी (Panaji) के पास नदी के पार स्थित हैं.

पर्यटकों को 27 अक्टूबर तक गोवा न आने की सलाह
नदी एवं नौवहन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘मंडोवी नदी में जलस्तर बढ़ने के मद्देजनर हमने इन द्वीपों से मुख्य भूभाग के बीच नौका सेवा अस्थायी रूप से रोक दी है.’’ भारतीय मौसम विभाग (IMD) की गोवा स्थित वेधशाला ने गुरुवार को पर्यटकों (Tourists) को सलाह दी है कि वे 27 अक्टूबर तक गोवा न आएं. मौसम विभाग ने यह सलाह खराब मौसम के चलते दी है.
Loading...

एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. अरब सागर में चक्रवाती दबाव (Cyclonic Pressure) के कारण हुई भारी बारिश के चलते गोवा को गुरुवार को रेड अलर्ट (Red Alert) पर रखा गया था. मौसम के और अधिक खराब होने की आशंका के कारण पर्यटकों को 24-27 अक्टूबर तक तटीय राज्य में न आने की सलाह दी गई है, मौसम विभाग के गोवा निदेशक डॉ कृष्णमूर्ति पडगलवार ने यह जानकारी दी.

अगले 12 घंटों में रत्नागिरि और सिंधुदुर्ग में हो सकती है भारी बारिश
उन्होंने कहा, “अरब सागर (Arabian Sea) में बन रहा दबाव का क्षेत्र पूर्वी-उत्तरपूर्वी दिशा में बढ़ रहा है जिसके कारण राज्य में भारी बारिश हो सकती है.”

गुरुवार को गोवा में लगभग 90 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. मौसम विभाग के अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि चक्रवातीय तूफान ‘‘क्यार’’ (Kyarr) के चलते अगले 12 घंटों में महाराष्ट्र के तटीय जिलों रत्नागिरि और सिंधुदुर्ग में बेहद भारी बारिश हो सकती है और साथ ही तेज हवाएं भी चल सकती हैं.

भारतीय मौसम विभाग (IMD) के मुंबई केंद्र द्वारा आज दोपहर को यह चेतावनी जारी की गई. अरब सागर में शुक्रवार की शुरुआत में एक गहरा विक्षोभ तेज होकर चक्रवात में बदल गया.

अगले 12 घंटों में और शक्तिशाली हो सकता है चक्रवात 'क्यार'
मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि अगले 12 घंटों के दौरान क्यार (Kyarr) एक शक्तिशाली चक्रवात (Powerful Cyclone) में बदल सकता है, जबकि अगले 24 घंटों के दौरान इसके अत्यधिक शक्तिशाली चक्रवाती तूफान में तब्दील होने का अनुमान है. मौसम विभाग का अनुमान है कि इसके बाद चक्रवाती तूफान ओमान (Oman) तट की ओर बढ़ेगा.

इसके चलते सिंधुदुर्ग जिले (Sindhudurg District) में ‘‘बेहद भारी बारिश’’ के लिए लाल चेतावनी जारी की गई है. इसका मतलब है कि यहां अगले 24 घंटे में 204.5 मिमी बारिश हो सकती है. मौसम विभाग के अधिकारी ने बताया कि चक्रवात क्यार के चलते तेज हवाएं भी चलेंगी, जिसकी रफ्तार 85 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है. शनिवार तक इसकी रफ्तार 110 किलीमीटर प्रति घंटा हो जा सकती है.

यह भी पढ़ें: दिल्ली-NCR में बेहद खराब हुई हवा, 26-30 अक्टूबर तक निर्माण कार्य पर प्रतिबंध

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 4:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...