गरीबों को 5 रुपये में भरपेट खाना खिलाने वाली 'दादी मां' का निधन

News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 3:10 PM IST
गरीबों को 5 रुपये में भरपेट खाना खिलाने वाली 'दादी मां' का निधन
दादी की रसोई वाली दादी अब इस दुनिया में नहीं रहीं.

दादी की रसोई (Dadi ki Rasoi) स्टॉल के सामने छात्र, कामकाजी लोग, रिक्शा चालक, कई दुकानदार और राहगीर लाइन में लगे दिखते हैं. इस रसोई की शुरुआत गरीबों (Poor) को पांच रुपये में खाना खिलाने के मकसद से की गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 9, 2019, 3:10 PM IST
  • Share this:
सरोजनी खन्ना (Sarojani Khanna) का कल यानी रविवार सुबह 11 बजे निधन हो गया. ये वही सरोजनी खन्ना थी, जिन्होंने गरीबों को पांच रुपये में भोजन कराने का फैसला लिया था. वो 90 वर्ष की थीं. उनका अंतिम संस्कार रविवार शाम साढ़े चार बजे सेक्टर-94 में किया गया. उनके पुत्र अनूप खन्ना, जो दादी की रसोई (Dadi ki Rasoi) के संचालक हैं, उन्होंने बताया कि उनकी मां गाजियाबाद के यशोदा अस्पताल में भर्ती थीं. उन्हें सांस लेने में तकलीफ थी.

यशोदा अस्पताल से वो लगभग पांच दिन पहले ही घर आई थी. डॉक्टरों ने उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर घर दिया था, घरपर ही उनका निधन हो गया. उनके निधन से परिवारजन सदमें में हैं. आगे अनूप ने बताया कि अपनी मां से प्रेरणा लेकर ही उन्होंने चार वर्ष पहले दादी की रसोई की बुनियाद रखी थी. दादी की रसोई में प्रतिदिन लगभग 500 लोगों को पांच रुपये में भरपेट खाना खिलाया जाता है.

दादी की रसोई
दादी की रसोई रोजाना सेक्टर-17 में सुबह 10 से 11:30 बजे और सेक्टर- 29 में दोपहर 12 से 2 बजे तक चलती है. यहां कई लोग भरपेट भोजन कर अपनी भूख मिटाते हैं. स्टॉल के सामने रोजाना लोग लाइन में लगते हैं, इनमें छात्र, कामकाजी, रिक्शा चालक से लेकर, कई दुकान के मालिक और राहगीर भी शामिल होते हैं. दादी की रसोई में लोग अपनी श्रद्धा से भोजन का इंतजाम भी करवाते है. किसी की सालगिरह हो या जन्मदिन लोग उस दिन के भोजन में अपना योगदानकर जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध करवाते हैं.

ये भी पढ़ें:- PM मोदी बोले- देश में 'ISRO Spirit', मिशन मून के 100 सेकेंड ने भारत को एक कर दिया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 1:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...