ऑनर किलिंग: दलित युवक की ससुराल वालों ने की हत्या, तलवार से काटा

कच्छ जिले के गांधीधाम शहर में रहने वाले हरेश सोलंकी ने छह महीने पहले उर्मिलाबेन ज़ला से शादी की थी. शादी के बाद ये दोनों कच्छ के गांधीधाम कस्बे में रह रहे थे.

News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 6:05 PM IST
ऑनर किलिंग: दलित युवक की ससुराल वालों ने की हत्या, तलवार से काटा
कच्छ जिले के गांधीधाम शहर में रहने वाले हरेश सोलंकी ने छह महीने पहले उर्मिलाबेन ज़ला से शादी की थी. शादी के बाद ये दोनों कच्छ के गांधीधाम कस्बे में रह रहे थे.
News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 6:05 PM IST
गुजरात के अहमदाबाद जिले के मंडल तालुका के वर्मोर गांव में ऊंची जाति की महिला से शादी करने के कारण 35 वर्षीय दलित व्यक्ति की गला काटकर हत्या कर दी गई. यह घटना सोमवार शाम को हुई जब हरेश सोलंकी अपनी पत्नी उर्मिलाबेन ज़ला के गांव वर्मोर गए, जहां उनकी पत्नी अपने परिवार के सदस्यों के साथ रह रही थीं.

हरेश अभयम (181 हेल्पलाइन) महिला हेल्पलाइन टीम के सदस्यों के साथ उर्मिला की सेहत के बारे में पूछताछ करने और  उन्हें वापस ले जाने के लिए पहुंचे थे.

6 महीने पहले हुई थी शादी
पुलिस के मुताबिक, कच्छ जिले के गांधीधाम शहर में रहने वाले हरेश सोलंकी ने छह महीने पहले उर्मिलाबेन ज़ला से शादी की थी. शादी के बाद ये दोनों कच्छ के गांधीधाम कस्बे में रह रहे थे.

पुलिस ने बताया कि दो महीने पहले, हरेश के ससुर दशरथसिंह ज़ला गांधीधाम आए और उर्मिला को अपने साथ वर्मोर गांव ले गए और उन्हें बताया कि वह जल्द ही उनके साथ वापस आ जाएगी. जिसके बाद उर्मिला अपने पिता के साथ वर्मोर चली गईं.



दो महीने की गर्भवती थीं उर्मिला
Loading...

उर्मिला दो महीने की गर्भवती थीं. इसी के चलते उर्मिला की सेहत से जुड़ी कोई खबर न मिलने के कारण हरेश परेशान हो गए. इसलिए, हरेश सोलंकी ने वूमेन हेल्पलाइन (181 हेल्पलाइन) से बातचीत की जो महिलाओं से जुड़े मामलों में परामर्श, मार्गदर्शन और जानकारी देती है. इसके अलावा यह महिलाओं को सुरक्षित स्थानों पर भेजती है. इसके अलावा ये घरेलू या किसी भी प्रकार की हिंसा जैसी आपातकालीन स्थितियों में बचाव में मदद करती है.

सोमवार दोपहर, हरेश सोलंकी मंडल शहर पहुंचे और महिला हेल्पलाइन टीम के सदस्यों से मुलाकात की. इनमें महिला कांस्टेबल, ड्राइवर और महिला काउंसलर शामिल थीं. हरेश सोलंकी ने अपने प्रेम विवाह के बारे में टीम को जानकारी दी. उन्होंने पत्नी को वापस उनके साथ भेजने के लिए अपने ससुराल वालों से बात करने में मदद मांगी.

इस डर से कि ससुराल वाले गुस्से में हरेश पर हमला कर सकते हैं, इसलिए जब वो वर्मोर गांव पहुंचे उन्हें जीप के अंदर रखा गया. वहीं एक टीम उर्मिला के घर पहुंची और उनके पिता और परिवार के अन्य सदस्यों से बात की और उनकी काउंसलिंग शुरू की.

हरेश की हत्या के बाद कांस्टेबल पर भी किया हमला
बातचीत के दौरान, उर्मिला के पिता दशरथसिंह ज़ला ने कहा कि वो उर्मिला को एक महीने के भीतर भेज देंगे और समस्या का समाधान कर देंगे. उसके बाद, महिला हेल्पलाइन टीम के सदस्य उनके घर से निकले और अपनी जीप की ओर चले गए. इस दौरान, उर्मिला के परिवार के सदस्यों ने हरेश सोलंकी को जीप के अंदर देखा और अचानक उन पर हमला कर दिया.

हरेश के ससुराल वाले तलवार और तेज धार वाले हथियारों के साथ मौके पर इकट्ठा हुए और उन्हें जीप से बाहर खींच लिया. इसके बाद घटनास्थल पर ही उनकी बेरहमी से हत्या कर दी गई. आरोपी ने महिला कांस्टेबल अर्पिता और टीम के अन्य सदस्यों पर भी हमला किया और वाहन में तोड़फोड़ की.

आठ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज
बाद में 181 हेल्पलाइन सेंटर की एक परामर्शदाता अधिकारी भावना भगोरा ने मंडल पुलिस स्टेशन में हरेश की हत्या का मामला दर्ज कराया. पुलिस ने असरसिंह ज़ला, इंद्रजीतसिंह ज़ला, हसमुखसिंह ज़ला, जयदीपसिंह ज़ला, अजयसिंह ज़ला, अनोपसंग, प्रभातसंग और हरिश्चंद्रसिंह के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. इन सभी पर आईपीसी के विभिन्न अनुच्छेदों और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है.

इस मामले के सभी आरोपी वर्मोर गांव के निवासी हैं. अहमदाबाद जिला पुलिस का कहना है कि उन्होंने आरोपियों को पकड़ने के लिए एक अभियान चलाया है.

ये भी पढ़ें- पत्नी की हत्या के आरोप में बीजेपी युवा मोर्चा का नेता गिरफ्तार

फंदे पर लटका था पति, नीचे पड़ी थी पत्नी की लाश
First published: July 9, 2019, 5:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...