लाइव टीवी

दलित परिवार का आरोप, सवर्णों ने घर के सामने से नहीं ले जाने दी शव यात्रा

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 6:52 PM IST
दलित परिवार का आरोप, सवर्णों ने घर के सामने से नहीं ले जाने दी शव यात्रा
दलित समुदाय को मृतक को घर के सामने से ले जाने से किया मना

तमिलनाडु (Tamil Nadu) के वीधि गांव (Veedhi Village) में दलित समुदाय ने सवर्ण समुदाय पर यह आरोप लगाया कि वे लोग हमारे मृतकों को उस मार्ग से नही ले जाने देते जहां ये लोग रहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 6:52 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु (Tamil Nadu) के वीधि गांव (Veedhi Village) में जातिगत भेदभाव का एक मामला सामने आया है. वीधि गांव के सवर्ण निवासियों ने दलित निवासियों को अंतिम संस्कार के लिए यात्रा निकालने से मना कर दिया. एक वीडियो सामने आने के बाद यह चौंकाने वाली घटना सामने आई. इस वीडियो में कोयंबटूर (Coimbatore) जिले के दलित निवासियों को मृतक को ले जाने के लिए सड़क का उपयोग नही करने दिया, उन्हें श्मशान तक पहुंचने के लिए सीवर और कचरा डंप यार्ड (Garbage Dump Yard) से गुजरते हुए दिखाया गया है.

प्रशासन को भी ठहराया जिम्मेदार
क्षेत्र में रहने वाले करीब 1,500 दलित परिवारों ने कहा कि उन्होंने कई बार अधिकारियों को ज्ञापन सौंपे हैं कि उन्हें मृतकों को श्मशान घाट तक ले जाने के लिए एक रास्ते की आवश्यकता है, लेकिन अधिकारियों से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली. समुदाय का आरोप है कि उन्हें उस मार्ग से मृतकों को ले जाने की अनुमति नहीं है जहां सवर्ण लोग रहते हैं.

बिजली और पानी की भी उचित सुविधा नही

एक निवासी विनोद ने कहा कि सवर्ण समुदाय के पास उचित सड़कें हैं और वो लोग आसानी से श्मशान तक पहुंच जाते हैं. श्मशान घाट तक पहुंचना हमारे लिए एक चुनौती जैसा है. मानसून के मौसम के दौरान, यह स्थिति और भी बदतर हो जाती है और हमें बहुत लंबा रास्ता अपनाना होता है. हमारे समुदाय के लिए जो जमीन आवंटित की गई है वहां बिजली और पानी जैसी कोई सुविधा नही है.

आधा किलोमीटर के लिए 2.5 कि.मी. करना पड़ता है तय
श्मशान तक पहुंचने के आधा किलोमीटर के रास्ते को 2.5 किलोमीटर से ज्यादा चल कर हमें वहां तक पहुंचना पड़ता है. हम सभी यह पूछते हैं कि श्मशान तक पहुंचने के लिए क्या हमें एक उचित मार्ग की जरूरत नही. इसी साल अगस्त में, तमिलनाडु के वेल्लोर से जातिगत भेदभाव का एक और ऐसा ही चौंकाने वाला मामला सामने आया था, जिसमें सवर्ण ग्रामीणों ने एक दलित व्यक्ति के अंतिम संस्कार के लिए कथित तौर पर उनके कृषि क्षेत्रों से होकर जाने से मना कर दिया था जिसके कारण मृतक के शरीर को 20 फीट ऊंचे पुल से नीचे पहुंचाया गया.
Loading...

ये भी पढ़ें : उन्नाव: नाबालिग दलित लड़की से गैंगरेप और ...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 5:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...