होम /न्यूज /राष्ट्र /

ओडिशा का 'दशरथ मांझी', आदिवासी युवा हरिहर ने पहाड़ काटकर बनाई सड़क

ओडिशा का 'दशरथ मांझी', आदिवासी युवा हरिहर ने पहाड़ काटकर बनाई सड़क

हरिहर बेहरा ने पहाड़ काटकर अपने गांव के लिए सड़क बनाई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

हरिहर बेहरा ने पहाड़ काटकर अपने गांव के लिए सड़क बनाई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

ओडिशा (Odisha) के नयागढ़ जिले के ओडागांव ब्लॉक में हरिहर बेहरा (Harihar Behera) नाम के आदिवासी युवा ने करिश्मा कर दिखाया है. उन्होंने पहाड़ काटकर अपने गांव के लिए 2 किलोमीटर लंबी सड़क तैयार की है.

    भुवनेश्वर. बिहार के दशरथ मांझी (Dashrath Manjhi) पूरे देश में अपने अनोखे प्रेम के लिए मशहूर हैं. उन्होंने पत्नी की मौत के बाद पहाड़ काटकर रास्ता तैयार किया था. अब ओडिशा (Odisha) से भी ऐसी ही एक खबर सामने आई है. राज्य के नयागढ़ जिले के ओडागांव ब्लॉक में हरिहर बेहरा (Harihar Behera) नाम के आदिवासी युवा ने करिश्मा कर दिखाया है. उन्होंने पहाड़ काटकर अपने गांव के लिए 2 किलोमीटर लंबी सड़क तैयार की है.

    हरिहर के सड़क तैयार करने से पहले प्रशासन को भी इस गांव में पहुंचने के लिए मुश्किलों का सामना करना पड़ता था. वर्तमान में स्थिति यह है कि बाहरी इलाकों से भी लोग इस जगह को देखने आते हैं और हरिहर की प्रशंसा करते हैं. हरिहर इलाके के हीरो बन गए हैं.

    अपने जीवन का लंबा समय इस सड़क को बनाने में दिया
    हरिहर लोगों के लिए आदर्श सरीखे बन गए हैं क्योंकि उन्होंने अपने जीवन का लंबा समय इस सड़क को बनाने में दिया है. इससे पहले छत्तीसगढ़ से भी ऐसी एक खबर सामने आई थी.

    छत्तीसगढ़ से भी आई थी ऐसी ही एक खबर
    साल 2019 में खबर आई थी कि सरगुजा के कदनई गांव के लोग भी सड़क बनाने के लिए अथक मेहनत कर रहे हैं. मैनपाट ब्लॉक की तराई में बसे इस गांव के लोग मंत्री, नेता और कलेक्टर के दरवाजे का चक्कर लगाकर इतना परेशान हो गए थे. इसके बाद लोग खुद इस काम को पूरा करने में जुट गए थे.

    दरअसल मैनपाट पहाड़ के नीचे बसे गांव के लोगों को वर्षों से ब्लॉक मुख्यालय तक जाने के लिए करीब 60 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती था. लेकिन पहाड़ी रास्ते से ये दूरी महज 20 किलोमीटर हो जाती है.

    Tags: Odisha, Odisha news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर