नौकरी के नाम पर मां से 27 दिन रेप, 7 साल की बच्‍ची को किया अगवा, DCW की मदद से बची जान

बच्ची को उसकी मां की शिकायत पर रेस्क्यू किया गया. कोठे की मालकिन ने उसकी 7 साल की बेटी को छीन लिया था. जबकि कोठा मालकिन गिरफ्तार कर लिया गया है.

Niranjan Singh | News18Hindi
Updated: August 4, 2019, 1:07 PM IST
नौकरी के नाम पर मां से 27 दिन रेप, 7 साल की बच्‍ची को किया अगवा, DCW की मदद से बची जान
महिला के साथ 27 दिन तक 15-20 लोगों ने किया रेप!
Niranjan Singh | News18Hindi
Updated: August 4, 2019, 1:07 PM IST
दिल्ली महिला आयोग ( Delhi Commission for Women) ने दिल्ली पुलिस के सहयोग से एक 7 साल की बच्ची को जीबी रोड पर मानव तस्करों के चंगुल से मुक्त कराया है. दिल्ली महिला आयोग में पूजा (बदला हुआ नाम) नाम की एक महिला ने शिकायत दर्ज कराई. उसने बताया कि वह असम की रहने वाली है. एक महीने पहले, दीपक नाम का एक व्यक्ति उसे उसके पति और 7 साल की बेटी के साथ नौकरी दिलाने के नाम पर अपने साथ दिल्ली लेकर आया. जब वे पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुंचे, तो दीपक ने उन्हें फराह नामक एक महिला से मिलवाया. फराह और दीपक उन्हें मजनू का टीला ले गए जहां पर दीपक रहता था. फराह ने पूजा से कहा कि वह एक होटल में उसको मौकरी दिलवाएगी और उसने (फराह) बेटी को स्कूल में दाखिला दिलाने के बहाने पूजा से कुछ कागजों पर हस्ताक्षर करवाए और उसके पैन कार्ड, आधार कार्ड, बैंक पासबुक सहित उसके सभी दस्तावेज ले लिए.

फिर शुरू हुआ ये खेल
2-3 दिनों के बाद, फरहा पूजा को 7 साल की बेटी के साथ जीबी रोड के कोठा नंबर 40 में ले आई. उसने पूजा को बताया कि उसकी बेटी को एक हॉस्टल में रखेंगे और उसे पढ़ाई के लिए एक स्कूल में भर्ती कराया जाएगा. मगर उसकी बेटी को महिमा नामक एक महिला के घर पर रखा गया. जीबी रोड पर फराह ने पूजा को जबरन देह व्यापार में धकेल दिया और उसे धमकी दी कि अगर वह उसकी बात नहीं मानेगी, तो उसकी बेटी और पति को मार दिया जाएगा. शिकायतकर्ता ने आयोग को बताया कि उसके साथ जीबी रोड पर कई दिनों तक बलात्कार किया गया था. उसे 3 जुलाई से 30 जुलाई तक रोजाना 15-20 लोगों के साथ सोने के लिए मजबूर किया गया था.

पूजा को जीबी रोड से भागने में यूं मिली सफलता

पूजा अपने पति की मदद से किसी तरह जीबी रोड से भागने में सफल रही और उन्होंने तुरंत दिल्ली महिला आयोग से संपर्क किया. उसने आयोग को बताया कि उसकी बेटी तस्करों के चंगुल में है और उसे अपनी बेटी के बारे में कोई भी जानकारी नहीं है. दिल्ली महिला आयोग ने तुरंत एक टीम बनायी और कमला मार्केट पुलिस स्टेशन में दिल्ली पुलिस से संपर्क किया.

जब दिल्ली महिला आयोग और दिल्ली पुलिस की टीम जीबी रोड पर पहुंची, तो बच्ची वहां पर नहीं थी. काफी दबाव के बाद महिमा नाम की महिला बच्ची को पुलिस और आयोग की टीम के सामने लेकर आयी. पूजा और उसकी बेटी को कमला मार्केट थाने लाया गया, जहां शिकायतकर्ता के बयान पर एफआईआर दर्ज हुई. पुलिस ने आईपीसी की धारा 170, 370, 376, 901 34 के तहत एफआईआर दर्ज कर ली है. इस मामले में कोठा मालकिन को गिरफ्तार कर लिया गया है.जबकि बच्चे को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया गया और फिलहाल उसे आश्रय गृह भेज दिया गया है.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा ने कही ये बात
Loading...

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाती मालीवाल ने कहा, 'दिल्ली मानव तस्करी और देह व्यापार का केंद्र बन गया है. महिलाओं और लड़कियों को नौकरी दिलाने के नाम पर दूसरे राज्यों से दिल्ली लाया जाता है, जहां उनमें से कई को देह व्यापार में धकेल दिया जाता है. जीबी रोड पर 7 साल की बच्ची भी सुरक्षित नहीं है. जीबी रोड स्थित कोठों को तत्काल ध्वस्त किया जाना चाहिए, तस्करों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए और महिलाओं और लड़कियों का पुनर्वास किया जाना चाहिए.'

ये भी पढ़ें-AmarnathYatra2019: अमरनाथ यात्रा समय से पहले खत्म, सामने आया 'खौफनाक' सच

 BJP नेता का दावा, आर्टिकल 35A भारतीय संविधान और कश्मीर की जनता के साथ है सबसे बड़ा धोखा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 4, 2019, 1:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...