शिकायत पर दिल्ली महिला आयोग का एक्शन, जारी की मैटरनिटी बेनिफिट्स गाइडलाइन्स

DCW अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा, 'यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि कानून गर्भवती महिलाओं को180 के मातृत्व अवकाश और दूसरी सुविधाओं की गारंटी देता है, मगर वास्तव में कानून का पूरी तरह से पालन नहीं हो रहा है.

Rachna Upadhyay | News18Hindi
Updated: November 10, 2018, 10:31 PM IST
शिकायत पर दिल्ली महिला आयोग का एक्शन, जारी की मैटरनिटी बेनिफिट्स गाइडलाइन्स
फाइल फोटो
Rachna Upadhyay | News18Hindi
Updated: November 10, 2018, 10:31 PM IST
दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन की ओर से दिल्ली महिला आयोग को शिकायत मिली थी जिसमें कहा गया कि यहां के बहुत अस्पतालों के एड हॉक रेजिडेंट डॉक्टरों और कॉन्ट्रैक्ट के कर्मचारियों को मैटरनिटी बेनिफिट नहीं दिए जा रहे थे. ऐसा करना मैटरनिटि बेनिफिट्स एक्ट के विरुद्ध है. कानून के मुताबिक सभी तरह के कर्मचारियों को मातृत्व अवकाश की सुविधाएं दी जानी चाहिए.

इस शिकायत के बाद आयोग ने इस मामले में दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग को नोटिस जारी करते हुए इस मामले में जवाब मांगा. इसके साथ ही सभी कर्मचारियों को मातृत्व अवकाश की सुविधाएं देने के लिए सभी अस्पतालों को सेंट्रल गाइडलाइन्स जारी करने के लिए जल्द कार्यवाही करने को कहा है.

आयोग के नोटिस पर कार्यवाही करते हुए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने दिल्ली सरकार के तहत आने वाले अस्पतालों में काम करने वाले एड हॉक रेजिडेंट डॉक्टरों और कॉन्ट्रैक्ट के कर्मचारियों को नियमित कर्मचारियों की तरह मैटरनिटी बेनिफिट्स देने के लिये सेंट्रल गाइडलाइंस जारी कीं.

यह भी पढ़ें:  'मी टू' मामलों की रिपोर्ट के लिए DCW ने शुरू की अलग ईमेल आईडी

हालांकि आयोग ने इन गाइडलाइंस में कार्यकाल के न्यूनतम दिनों के बारे कुछ त्रुटियां देखीं, जिसके लिए एक दूसरा नोटिस विभाग को भेजा गया है. विभाग को 17 नवंबर तक इस मामले में एक्शन टेकेन रिपोर्ट आयोग को देने को कहा है.

DCW अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा, 'यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि कानून गर्भवती महिलाओं को180 के मातृत्व अवकाश और दूसरी सुविधाओं की गारंटी देता है, मगर वास्तव में कानून का पूरी तरह से पालन नहीं हो रहा है. मैं इस मामले आयोग के प्रस्ताव पर त्वरित कार्यवाही और सेंट्रल गाइडलाइन्स जारी करने के लिए दिल्ली सरकार को बधाई देती हूँ, हालांकि इस कानून के पूरी तरह से पालन में अभी कई कमियां हैं मगर आयोग इसके पालन के लिए सभी संभावित कदम उठा रहा है.'

यह भी पढ़ें:  'चुनाव से पहले इतना तूफान क्यों?' #Metoo के आरोपों पर एमजे अकबर ने दी ये सफाई
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर