आंध्र प्रदेश में फिर जेसीबी से उठाया गया कोरोना मरीज का शव, एक माह में चौथी घटना

आंध्र प्रदेश में फिर जेसीबी से उठाया गया कोरोना मरीज का शव, एक माह में चौथी घटना
आंध्र प्रदेश में फिर जेसीबी से उठाया गया कोरोना मरीज का शव

आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में एक महीने के अंदर कोरोना (Corona) मरीजों के शवों को जेसीबी (JCB) से उठाने का ये चौथा मामला है. मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने जांच के आदेश दे दिए हैं.

  • Share this:
हैदराबाद. आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के नेल्लूर में कोविड-19 रोगी के शव को दफनाने के लिए एक बार फिर जेसीबी (JCB) के इस्तेमाल करने का वीडियो (video viral) सामने आया है. आंध्र प्रदेश में लगातार आ रही इन घटनाओं के बाद से लोगों में गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है. बता दें कि एक महीने के अंदर राज्य में कोरोना (Corona) मरीजों के शवों को जेसीबी से उठाने का ये चौथा मामला है. मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने जांच के आदेश दे दिए हैं.

देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की कोरोना से होने वाली मौत के बाद शवों के अंतिम संस्कार को लेकर सरकार की ओर से गाइडलाइन भी जारी की गई हैं, जिससे इस खतरनाक वायरस का संक्रमण और न फैले. हालांकि आए दिन अलग-अलग राज्यों से शवों के साथ बदसलूकी का मामला सामने आता रहता है. आंध्र प्रदेश  में लगातार चौथी बार ऐसी घटना सामने आई है जिसमें covid-19 मरीज के शव को जेसीबी से उठाकर दफनाया गया है.





वीडियो में देखा जा सकता है कि एक एंबुलेंस हाईवे के किनारे आती है. उसके कुछ देर बाद ही एक जेसीबी पीछे से आ जाती है. इसके बाद एंबुलेंस से कुछ कर्मचारी निकलते हैं और जेसीबी में एंबुलेंस से कुछ शव निकालकर रख देते हैं. इस वीडियो को हाईवे पर मौजूद एक बाइक सवार लड़कों में बनाया है.
इसे भी पढ़ें :- आंध्र प्रदेश में फिर कोरोना मरीज के शव को जेसीबी से उठाया गया, अधिकारी बोले- बहुत भारी थी लाश

शव का वजन करीब 170 होने का दिया था तर्क
इससे पहले आंध्र प्रदेश के तिरुपति में कोविड-19 रोगी के शव को दफनाने के लिए जेसीबी के इस्तेमाल का मामला सामने आया था. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में दिखाई दे रहा था कि कुछ लोग शव को जेसीबी मशीन से लाते हैं और एक गड्ढे में डाल देते हैं. हालांकि पिछले मामलों से अलग अधिकारियों ने इस बार तर्क दिया है कि शव का वजन करीब 170 किलोग्राम था, जिससे शव का इलेक्ट्रिक दाह संस्कार नहीं किया जा सकता था. अधिकारियों के मुताबिक, परिवार से इजाजत लेने के बाद ही उन्हें दफनाने की प्रक्रिया की गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading