लाइव टीवी
Elec-widget

वायु प्रदूषण के हर शहर में अलग-अलग कारण, समस्या एक तरीके से हल नहीं हो सकती: जावड़ेकर

News18Hindi
Updated: November 21, 2019, 7:39 PM IST
वायु प्रदूषण के हर शहर में अलग-अलग कारण, समस्या एक तरीके से हल नहीं हो सकती: जावड़ेकर
प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, प्रदूषण पर काबू के लिए कोई ‘शार्ट-कट’तरीका नहीं है और इसके लिए सतत प्रयास करना होगा. फोटो.पीटीआई

प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javdekar) ने गुरुवार को राज्यसभा (Rajya Sabha) में कहा कि वाहनों से होने वाले प्रदूषण (Pollution) का जिक्र करते हुए कहा कि एक अप्रैल 2020 से ईंधन के साथ साथ वाहनों में बीएस-6 मानक लागू किए जाएंगे. सड़कों पर भीड़ को कम करने के लिए सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा देना और सड़कों में सुधार करने पर भी जोर दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 21, 2019, 7:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सहित देश के कई शहरों में वायु प्रदूषण (Air Pollution) की गंभीर स्थिति पर विभिन्न दलों द्वारा चिंता जताए जाने के बीच पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javdekar) ने गुरुवार को राज्यसभा (Rajya Sabha) में कहा कि इस समस्या पर काबू के लिए सरकार द्वारा विभिन्न कदम उठाए गए हैं और उसका असर भी हुआ है, लेकिन वह पर्याप्त नहीं है. उन्होंने कहा कि प्रदूषण पर काबू के लिए कोई ‘शार्ट-कट’तरीका नहीं है और इसके लिए सतत प्रयास करना होगा. उन्होंने हालांकि कहा कि सरकार काम करके जल्दी ही प्रदूषण की समस्या को खत्म करेगी.

जावड़ेकर (Prakash Javdekar) ने इस दिशा में सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की चर्चा करते हुए कहा कि हर शहर की समस्या के अलग अलग कारण हैं और उन्हें किसी एक तरीके से हल नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि दिल्ली और एनसीआर (Delhi NCR) में वायु प्रदूषण के प्रबंधन के लिए सरकार ने कारणों पर आधारित दृष्टिकोण अपनाया है. उन्होंने कहा कि वायु प्रदूषण के कारणों में औद्योगिक उत्सर्जन, वाहन जनित उत्सर्जन, सड़क और मिट्टी की धूल, निर्माण और विध्वंस गतिविधियां, बायोमास और कचरा जलाना शामिल हैं.

2020 से वाहनों में बीएस-6 मानक लागू किए जाएंगे
वाहनों से होने वाले प्रदूषण का जिक्र करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि एक अप्रैल 2020 से ईंधन के साथ साथ वाहनों में बीएस-6 मानक लागू किए जाएंगे. उन्होंने कहा कि सड़कों पर भीड़ को कम करने के लिए सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा देना और सड़कों में सुधार करने पर भी जोर दिया गया है. उन्होंने पौधारोपण पर जोर देते हुए कहा कि सभी सदस्यों की ऐसी ही राय थी. उन्होंने स्कूलों में नर्सरी कार्यक्रम सहित विभिन्न कार्यक्रमों का जिक्र करते हुए कहा कि इस संबंध में जन आंदोलन बनाने की जरूरत है. वह दिल्ली सहित देश भर में वायु प्रदूषण के खतरनाक स्तरों के कारण उत्पन्न होने वाली स्थिति पर ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर बोल रहे थे.

2024 तक पीएम10 और पीएम2.5 को 20 से 30 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य
जावडेकर ने कहा कि दुनिया के सिर्फ दो ही देशों भारत और चीन में हरित क्षेत्र में वृद्धि हुई है. उन्होंने कहा कि प्रदूषण पर काबू के लिए हम सब से जो प्रयास हो सकता है, करना चाहिए. उन्होंने देश के विभिन्न शहरों के वायु गुणवत्ता सूचकांक का जिक्र करते हुए कहा कि कई शहरों में यह 300 से ज्यादा है तो कई शहरों में यह 60 से भी कम है. उन्होंने कहा कि सरकार ने वायु प्रदूषण की समस्या का व्यापक तरीके से हल करने के लिए जनवरी 2019 में राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम शुरू किया है. इसमें 2017 को आधार वर्ष मानते हुए 2024 तक पीएम10 और पीएम2.5 को 20 से 30 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य रखा गया है. पर्यावरण मंत्री ने कहा कि केंद्र में विभिन्न समितियों का भी गठन किया गया है और राज्यों को अपने स्तर पर ऐसी समितियां गठित करने को कहा गया है.

विपक्ष ने संसद में सरकार से मांगा जवाब
Loading...

इससे पहले विभिन्न सदस्यों ने मंत्री से स्पष्टीकरण पूछा और कहा कि प्रदूषण के लिए किसानों को दोषी ठहराना उचित नहीं है. उन्होंने कहा कि किसानों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए कि वे पराली नहीं जलाएं. चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आाजाद ने कहा कि प्रदूषण एक ऐसा मुद्दा है, जिस पर संसद या सर्वदलीय बैठक में चर्चा करने मात्र से काम नहीं चल सकता. उन्होंने सुझाव दिया कि पर्यावरण मंत्री इस सदन की ओर से प्रधानमंत्री से यह अनुरोध करें कि वे प्रदूषण के मुद्दे और इससे निपटने के लिए मुख्यमंत्रियों का सम्मेलन बुलाएं.

 विजय गोयल ने आप की दिल्ली सरकार पर निशाना साधा
कांग्रेस की कुमारी शैलजा ने कहा कि सरकार की आदत सब कुछ ठीक बताने की है, लेकिन वास्तविक स्थिति बहुत खराब है. उन्होंने कहा कि न सिर्फ दिल्ली बल्कि पूरे उत्तर भारत में वायु प्रदूषण की स्थिति गंभीर हो चुकी है. भाजपा के विजय गोयल ने आप नीत दिल्ली सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि वह हाथ पर हाथ रखकर बैठी है और उसने कोई काम नहीं किया है. इस वजह से स्थिति गंभीर हो गई है. आप सदस्यों की टोकाटाकी के बीच उन्होंने आरोप लगाया कि 50 लाख मास्क बांटे गए और उसमें भी भ्रष्टाचार हुआ है. उन्होंने समाचार पत्र आदि दिखाने का भी प्रयास किया लेकिन उपसभापति हरिवंश ने उन्हें इसकी अनुमति नहीं दी.

राजद के मनोज कुमार झा ने कहा कि पराली लंबे समय से जलायी जाती रही है, लेकिन अब उन्हें ही दोषी बताया जाने लगा है. उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्यों में पराली जलाए जाने से दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण होने के संबंध में कोई अध्ययन नहीं कराया गया है. जदयू के कहकशां परवीन ने पर्यावरण की सुरक्षा के लिए बिहार सरकार द्वारा शुरू किए गए हरियाली मिशन का उल्लेख किया और कहा कि प्रदेश सरकार की पहलों के कारण राज्य में हरित क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है.

संजय सिंह ने दिया बीजेपी को जवाब
भाजपा सदस्यों की टोकाटोकी के बीच आप के संजय सिंह ने कहा कि दिल्ली सरकार के प्रयासों से स्थिति में सुधार हुआ है और हरित क्षेत्र में भी वृद्धि हुई है. उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा के सदस्य प्रदूषण पर काबू के लिए शुरू की गई सम-विषम सहित विभिन्न योजनाओं का विरोध करते हैं. उन्होंने कहा कि मंत्री के बयान में कहा गया है कि पराली प्रबंधन के लिए 56 हजार से अधिक मशीनों की आपूर्ति की गई है, जबकि सुप्रीम कोर्ट में इस संबंध में अलग आंकड़ा दिया गया है.

बाजवा ने जावड़ेकर और हर्षवर्धन पर निशाना साधा
कांग्रेस के प्रताप सिंह बाजवा ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय रिपोर्टों के अनुसार दिल्ली सबसे ज्यादा प्रदूषित राजधानियों में से एक है और दुनिया के 30 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में से 22 भारत के हैं. उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों हर्षवर्धन और प्रकाश जावड़ेकर पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने प्रदूषण से मुकाबला करने के लिए दिलचस्प तरीके बताए हैं. एक मंत्री ने ट्वीट कर गाजर खाने की बात की तो एक ने दिन की शुरूआत संगीत से करने को कहा. राकांपा की वंदना चव्हाण ने कहा कि यह परस्पर आरोप लगाने का विषय नहीं है और प्रदूषण पर काबू के लिए गंभीरता से कदम उठाए जाने की जरूरत है. उन्होंने हर नगर में हरियाली फैलाने और पेड़ों की संख्या बढ़ाने पर बल दिया. उन्होंने सुझाव दिया कि प्रदूषण के संबंध में लोगों को जागरूक किया जाना चाहिए ताकि हर नागरिक का लगे कि यह उसकी समस्या है.

ये भी पढ़ें : महाराष्ट्र में सरकार गठन के फॉर्मूले पर लगी फाइनल मुहर, तीनों पार्टियों ने किया CMP पर हस्ताक्षर!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 7:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...