• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Decoding Long Covid: कोरोना मरीज़ों को लंबे समय तक स्टेरॉयड देने से खोखली हो जा रहीं हड्डियां

Decoding Long Covid: कोरोना मरीज़ों को लंबे समय तक स्टेरॉयड देने से खोखली हो जा रहीं हड्डियां

क्टर के मुताबिक कोविड -19 रोगियों में मांसपेशियों की ताकत कम हो जाती है

क्टर के मुताबिक कोविड -19 रोगियों में मांसपेशियों की ताकत कम हो जाती है

Decoding Long Covid: कोरोना से ठीक होने के बाद भी लोगों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. डॉक्टर इन्हें 'लॉन्ग कोविड' का नाम दे रहे हैं, यानी वो बीमारियां जो लोगों को लंबे समय तक परेशान करती हैं. ऐसी ही एक समस्या है हड्डियों के कमजोर होने की...

  • Share this:
    (सिमांतनी डे)
    नई दिल्ली. कोरोना (Coronavirus) की दूसरी लहर का असर अब धीरे-धीरे कम होने लगा है. पिछले महीने हर रोज़ करीब 4 लाख नए केस सामने आ रहे थे. लेकिन अब इन दिनों हर दिन संक्रमितों की संख्या में भारी कमी देखी जा रही है. हालांकि चिंता की बात ये है कि कोरोना से ठीक होने के बाद भी लोगों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसी परेशानियों को डॉक्टर 'लॉन्ग कोविड' का नाम दे रहे हैं. यानी वो बीमारियां जो कोरोना के बाद लोगों को लंबे समय तक परेशान करती हैं. न्यूज़ 18 ने मरीज़ों की इन्हीं परेशानियों को लेकर एक सीरीज़ की शुरुआत की है. इसके तहत कोरोना से होने वाली बीमारियों के बारे में डॉक्टरों की राय और उससे जुड़े समाधान के बारे में चर्चा की जाएगी.

    आज गुड़गांव के सीके बिड़ला अस्पताल में आर्थोपेडिक्स विभाग के डॉक्टर देबाशीष चंदा लंबे समय तक स्टेरॉयड के इस्तेमाल से होने वाले नुकसान के बारे में बता रहे हैं. डॉक्टर के मुताबिक कोविड -19 रोगियों में मांसपेशियों की ताकत कम हो जाती है. ये ऐसे मरीजों में होता है जिन्हें स्टेरॉयड दी गई हो. साथ ही जिन्हें लंबे वक्त तक बेड रेस्ट की सलाह दी गई हो.

    हड्डियों पर नुकसान
    News18 के साथ बातचीत करते हुए डॉक्टर चंदा ने कहा, 'लंबे समय तक बीमारियों और कई हफ्तों तक बेट रेस्ट के चलते शरीर की सभी प्रणालियां प्रभावित होती हैं. इनमें से एक है मस्कुलोस्केलेटल सिस्टम है. थकान, मांसपेशियों में दर्द और जोड़ों का दर्द जैसे लक्षण कोविड -19 के बाद आम है और इसका प्रसार अब लगातार बढ़ रहा है.'

    ठीक होने में कितना लगता है वक्त
    डॉक्टरों के मुताबिक लंबे समय तक बिस्तर पर आराम करने से हड्डियां और मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं. ऐसे में कोविड -19 जैसी गंभीर बीमारी के बाद ठीक होने में लंबा समय लग सकता है. डॉक्टर चंदा ने कहा, 'ऐसे हालात में मांसपेशियों की ताकत हासिल करने में कम से कम छह सप्ताह या उससे अधिक समय लगता है.'

    ये भी पढ़ें:- अठावले का बड़ा बयान, महाराष्‍ट्र में भाजपा-शिवसेना बना सकते हैं सरकार

    स्टेरॉयड से परेशानी
    डॉक्टर चंदा ने कहा कि जिन मरिजों को कोविड-19 के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया है या जिन्हें घर पर बिस्तर पर आराम करने की सलाह दी गई है, उनके लिए खड़ा होना, चलना या एक्टिव होना मुश्किल हो सकता है. कोविड के इलाज में स्टेरॉयड के इस्तेमाल से भी परेशानी हो सकती है. डॉक्टर ने कहा, 'वैसे स्टेरॉयड के 10-15 दिनों का एक छोटा कोर्स किसी भी समस्या का कारण नहीं बनता है, लेकिन कई मरीज़ लंबे समय तक स्टेरॉयड थेरेपी पर रहते हैं. ऐसे मरीजों में ऑस्टियोपोरोसिस और गठिया में वृद्धि का खतरा हो सकता है.'

     घरेलू उपाय
    डॉक्टर ने ऐसी दिक्कतों से लड़ने के लिए कुछ घरेलू उपाय भी बताए. उनके मुताबिक से हल्दी वाला दूध, देसी घी, उच्च प्रोटीन आहार और लहसुन जोड़ों को चिकनाई और मजबूती प्रदान करने में मदद करते हैं. ग्लूकोसामाइन, करक्यूमिन जैसी कुछ दवाएं भी मदद करती हैं, लेकिन इसके बारे में डॉक्टर से लेनी चाहिए

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज