Assembly Banner 2021

दिल्ली हिंसा: दीप सिद्धू ने कोर्ट से कहा- झंडा फहराना जुर्म नहीं, फेसबुक लाइव कर गलती की

दीप सिद्धू की जमानत याचिका पर अदालत में सुनवाई हुई. (फाइल फोटो)

दीप सिद्धू की जमानत याचिका पर अदालत में सुनवाई हुई. (फाइल फोटो)

Tractor Parade Violence: पुलिस की तरफ से पेश हुए वकील ने आरोप लगाया कि सिद्धू लाल किला हिंसा (Red Fort Violence) के पीछे का मास्टरमाइंड है. उन्होंने कोर्ट में कहा कि सिद्धू 25 जनवरी को किसान यूनियन के नेताओं के साथ बैठक में शामिल हुआ था, जहां उसने भाषण दिया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. गणतंत्र दिवस (Republic Day) पर ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा मामले में गिरफ्तार हुए दीप सिद्धू (Deep Sidhu) की जमानत याचिका पर दिल्ली कोर्ट में सुनवाई हुई. यहां एक्टर ने वकीलों के जरिए कोर्ट से कहा कि झंडा फहराना कोई जुर्म नहीं है, उसने फेसबुक लाइव (Facebook Live) होस्ट कर गलती कर दी थी. किसानों ने तीन नए कृषि कानूनों (Three Farm Laws) के विरोध में दिल्ली में ट्रैक्टर रैली का आयोजन किया था, जिसके बाद हिंसा भड़क गई थी.

विशेष न्यायाधीश नीलोफर आबिदा परवीन ने सुनवाई को 12 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दिया है. सिद्धू के वकील अभिषेक गुप्ता ने अदालत से कहा, 'मैंने झंडा नहीं फहराया और ना ही किसी से झंडा फहराने की अपील की. झंडा फहराना जुर्म नहीं है और यह एक बहस का मुद्दा है, जिसमें मैं नहीं पड़ना चाहता. मैंने गलती की है. लेकिन हर गलती जुर्म नहीं होती. मैंने फेसबुक लाइव कर गलती की है...फेसबुक लाइव के कारण मुझे गद्दार कहा गया.' वकील ने अदालत को बताया, 'यह चौंकाने वाली बात है कि मुझे मामले में प्रमुख भड़काने वाला बताया गया.'

यह भी पढ़ें: लाल किला हिंसा: आरोपी दीप सिद्धू की जमानत पर 12 अप्रैल को सुनवाई, पढ़ें- वकील ने क्या-क्या दी दलीलें



पुलिस की तरफ से पेश हुए वकील ने आरोप लगाया कि सिद्धू लाल किला हिंसा के पीछे का मास्टरमाइंड है. उन्होंने कोर्ट में कहा कि सिद्धू ने 25 जनवरी को किसान यूनियन के नेताओं के साथ बैठक में शामिल हुआ था, जहां उसने भाषण दिया था. हालांकि, सिद्धू के वकीलों ने कोर्ट को बताया कि उसने ट्रैक्टर रैली नहीं बुलाई थी. यह किसान यूनियन के कहने पर आयोजित हुई थी. पंजाबी ऐक्टर ने हिंसा में शामिल होने की बात से इनकार कर दिया है.

सिद्धू को दंगा करने (147 और 148), गैर-कानूनी सभा (149), हत्या का प्रयास (120-B), आपराधिक साजिश (120-B), डकैती (395) समेत भारतीय दंड संहिता की कई धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है. खास बात है कि हिंसा के बाद कुछ समय के लिए सिद्धू गायब हो गया था. जिसके बाद पुलिस ने उसकी धरपकड़ के लिए खोज भी की थी. पुलिस हिंसा में शामिल आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज