लाइव टीवी

रक्षा मंत्री ने हथियारों की खरीद से जुड़े बड़े फैसले लिए, इन हथियारों से बढ़ेगी सेना की ताकत

News18Hindi
Updated: October 21, 2019, 8:42 PM IST
रक्षा मंत्री ने हथियारों की खरीद से जुड़े बड़े फैसले लिए, इन हथियारों से बढ़ेगी सेना की ताकत
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हथियार खरीद को लेकर बड़ा फैसला किया है (फाइल फोटो)

पहली बार भारतीय सेना (Indian Military) के किसी कॉम्पलैक्स मिलेट्री उत्पादों (Complex Military Equipment) को बनाने के लिए निजी कंपनियों (Private Companies) को मौक़ा दिया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 8:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) की अध्यक्षता में रक्षा खरीद बैठक में हथियारों की खरीद से जुड़ा एक बड़ा फैसला लिया गया है. रक्षा खरीद बैठक में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के अलावा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे. इस दौरान रक्षा खरीद परिषद (Defense Acquisition Council) ने 3300 करोड़ रुपये की खरीद को मंजूरी दी.

बताया जा रहा है कि इन उत्पादों में से ज्यादातर उत्पाद 'मेक इन इंडिया' (Make in India) के तहत स्वदेशी निजी रक्षा उत्पाद कंपनियों (Indigenous private defense products companies) के द्वारा डेवलप किए गए होंगे. यानि ये साजो-सामान देशी कंपनियों से ही खरीदे जाएंगे.

इन उत्पादों में टैंक भी होंगे शामिल
जिन हथियारों की खरीद को रक्षा खरीद परिषद ने मंजूरी दी है, उनमें T -72 और T-90 टैंकों के लिए खरीदे जाने वाले उपकरण भी शामिल हैं. ये टैंकों के लिए थर्ड जेनेरेशन के एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (Third Generation Anti tank Guided Missile) और ऑग्जेलरी पॉवर यूनिट हैं.

इन एंटी टैंक गाईडेड मिसाइल (Anti tank Guided Missile) से भारतीय टैंकों (Indian Tanks) की मारक क्षमता में बढ़ोतरी होगी. APU से टैंक के फायर कंट्रोल सिस्टम (Fire Control System) और रात को लड़ने की क्षमता में इज़ाफ़ा होगा.

पहली बार ऐसे मिलेट्री इक्विपमेंट् के लिए निजी कंपनियों को मिल रहा मौका
पहली बार सेना के किसी कॉम्पलैक्स मिलेट्री इक्विपमेंट (Complex military equipment) के लिए निजी कंपनियों (Private Companies) को मौक़ा दिया जा रहा है.
Loading...

तीसरा देसी प्रोजेक्ट इलेक्ट्रॉनिक वॉरफेयर (EW) से संबंधित होगा जो कि ऊंची जगहों और पहाड़ों पर काम आएगा. इसे DRDO के जरिए डिजाइन और विकसित किया जाएगा. इसमें वह भारतीय कंपनियों से सहयोग लेगा.

यह भी पढ़ें: पाकिस्‍तान-चीन सीमा पर घुसपैठ रोकने के लिए आकाश मिसाइल तैनात करेगी भारतीय सेना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 8:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...